UPSC Exam   »   First Anglo-Maratha War   »   Second Anglo-Maratha War

द्वितीय आंग्ल-मराठा युद्ध

द्वितीय आंग्ल-मराठा युद्ध- यूपीएससी परीक्षा के लिए प्रासंगिकता

  • जीएस पेपर 1: भारतीय इतिहास- अठारहवीं शताब्दी के मध्य से लेकर वर्तमान तक का आधुनिक भारतीय इतिहास- महत्वपूर्ण घटनाएँ, व्यक्तित्व, मुद्दे।

द्वितीय आंग्ल-मराठा युद्ध_40.1

द्वितीय आंग्ल-मराठा युद्ध की पृष्ठभूमि

  • प्रथम आंग्ल-मराठा युद्ध 1782 में सालबाई की संधि के साथ संपन्न हुआ, जिससे मराठों एवं ब्रिटिश  ईस्ट इंडिया कंपनी के मध्य 20 वर्ष के लिए शांति स्थापित हुई।
  • चतुर्थ आंग्ल-मैसूर युद्ध में टीपू सुल्तान के पतन के बाद, भारत में ब्रिटिश सत्ता के लिए एक योग्य चुनौती के रूप में केवल मराठा शेष बचे थे।
  • मराठा संघ में विभिन्न शक्तियों केमध्य आंतरिक मतभेदों ने अंग्रेजों को हस्तक्षेप करने एवं उन्हें पराजित करने तथा भारत में एकमात्र महत्वपूर्ण शक्ति के रूप में उदित होने का अवसर प्रदान किया।

 

द्वितीय आंग्ल-मराठा युद्ध के कारण

  • नाना फडणवीस की मृत्यु एवं मराठों के मध्य आंतरिक संघर्ष: नाना फडणवीस, एक सशक्त नेता की मृत्यु ने मराठा साम्राज्य में एक शक्ति शून्य को जन्म दिया एवं मराठा संघ के भीतर विभिन्न शक्तियों ने इसे  प्राप्त करने का प्रयत्न किया, जिससे आंतरिक संघर्ष एवं संदेह उत्पन्न हुआ।
    • मराठा संघ में पांच प्रमुख नायक, पुणे में पेशवा, बड़ौदा में गायकवाड़, इंदौर में होल्कर, ग्वालियर में सिंधिया  एवं नागपुर में भोंसले सम्मिलित थे।
  • मराठा के अयोग्य पेशवा: माधवराव द्वितीय की मृत्यु के बाद, बाजी राव द्वितीय (रघुनाथराव के पुत्र) को पेशवा के रूप में स्थापित किया गया था। वह एक अयोग्य एवं अल्प आत्मविश्वासी शासक था।
    • उन्होंने यशवंतराव होल्कर के भाई की हत्या कर दी जब वह पुणे का दौरा कर रहे थे। इससे यशवंत होल्कर क्षुब्ध हो गए, जिन्होंने बाजीराव द्वितीय एवं सिंधिया की संयुक्त सेना को पराजित किया।
    • बाजीराव द्वितीय भाग गए  एवं अंग्रेजों से सुरक्षा मांगी।
  • बेसिन की संधि एवं अंग्रेजों की महत्वाकांक्षाएं: एक भयभीत बाजीराव द्वितीय ने ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के साथ बेसिन की संधि पर हस्ताक्षर किए। वह निम्नलिखित के लिए सहमत हुए-
    • अंग्रेजों  के पक्ष में क्षेत्र का त्याग कर दिया गया एवं
    • साथ ही राजधानी में ब्रिटिश सैनिकों के रखरखाव के लिए भी सहमत हुए।

प्रथम आंग्ल-मराठा युद्ध

द्वितीय आंग्ल-मराठा युद्ध का क्रम 

  • आरंभ: सिंधिया एवं भोसले जैसे मराठा संघ के अन्य सहयोगियों ने बेसिन की संधि का विरोध किया  तथा मध्य भारत में 1803 में द्वितीय आंग्ल-मराठा युद्ध का प्रारंभ किया।
  • भोंसले एवं सिंधिया की पराजय: वे 1803 में अंग्रेजों की सेना के विरुद्ध युद्ध में पराजित हुए  एवं ब्रिटिश  ईस्ट इंडिया कंपनी के साथ सुरजी-अंजनगांव (सिंधिया) तथा देवगांव (भोसले) की अपमानजनक संधि पर हस्ताक्षर किए।
  • होल्कर की भागीदारी: यशवंतराव होल्कर ने ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी की मंशा को समझा एवं आक्रमण करने का निर्णय लिया।
    • यद्यपि, वह भी 1805 में पराजित हुआ तथा 1805 में राजघाट की संधि पर हस्ताक्षर किए।

द्वितीय आंग्ल-मराठा युद्ध_50.1

द्वितीय आंग्ल-मराठा युद्ध के परिणाम

  • सुरजी-अंजनगांव की संधि (1803): इस संधि के अंतर्गत, सिंधिया, रोहतक, गंगा-यमुना दोआब, गुड़गांव, दिल्ली आगरा क्षेत्र, भरूच, गुजरात के कुछ जिलों, बुंदेलखंड के कुछ हिस्सों एवं अहमदनगर किले के ब्रिटिश क्षेत्रों को सौंपने पर सहमत हुए।
  • देवगांव की संधि (1803): इस संधि के तहत, अंग्रेजों ने नागपुर के भोसले से कटक, बालासोर एवं वर्धा नदी के पश्चिम क्षेत्र का अधिग्रहण किया।
  • राजघाट की संधि (1805): इस संधि के अनुसार होल्करों ने टोंक, बूंदी एवं रामपुरा को अंग्रेजों के हवाले कर दिया।
  • अंततः, द्वितीय आंग्ल-मराठा युद्ध के परिणामस्वरूप मध्य भारत के एक बड़े हिस्से पर ब्रिटिश नियंत्रण स्थापित हुआ तथा भारत में अंग्रेजों का प्रभुत्व स्थापित हुआ।

 

भारत में जनसांख्यिकीय लाभांश के उपयोग मार्केट इंफ्रास्ट्रक्चर इंस्टीट्यूशंस संपादकीय विश्लेषण- ए कॉशनरी टेल द्विपक्षीय विनिमय व्यवस्था
राष्ट्रीय स्टार्टअप पुरस्कार 2022 जलवायु परिवर्तन 2022: आईपीसीसी की छठी आकलन रिपोर्ट प्रथम आंग्ल-मराठा युद्ध भारत में आतंकवाद: प्रभाव तथा सरकार द्वारा उठाए गए कदम
संपादकीय विश्लेषण: साइबर हमलों की रिपोर्टिंग  रूस यूक्रेन युद्ध पर यूएनजीए की बैठक  वेनेरा डी मिशन: रूस ने अमेरिकी भागीदारी को निलंबित किया  भारत में आतंकवाद: आतंकवाद की परिभाषा और प्रकार 

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published.