Home   »   Draft National Air Sports Policy |...   »   Khelo India Program

खेलो इंडिया योजना | 2022-23 के बजट में खेलो इंडिया योजना आवंटन में 48 प्रतिशत की वृद्धि

खेलो इंडिया योजना- यूपीएससी परीक्षा के लिए प्रासंगिकता

  • जीएस पेपर 2: शासन, प्रशासन एवं चुनौतियां- विभिन्न क्षेत्रों में विकास के लिए सरकार की नीतियां एवं अंतः क्षेप तथा उनकी अभिकल्पना एवं कार्यान्वयन से उत्पन्न होने वाले मुद्दे।

खेलो इंडिया योजना | 2022-23 के बजट में खेलो इंडिया योजना आवंटन में 48 प्रतिशत की वृद्धि_40.1

खेलो इंडिया योजना- संदर्भ

  • केंद्र सरकार ने केंद्रीय बजट 2022-23 में खेलो इंडिया योजना के लिए आवंटन में 48% की वृद्धि की है।
  • सरकार ने 50 करोड़ रुपये के परिव्यय पर 15वें वित्त आयोग समयचक्र (2021-22 से 2025-26) के लिए “खेलो इंडिया-राष्ट्रीय खेल विकास कार्यक्रम” की योजना को जारी रखने का निर्णय लिया है।

यूपीएससी एवं राज्य लोक सेवा आयोगों की परीक्षाओं हेतु नि शुल्क अध्ययन सामग्री प्राप्त करें

खेलो इंडिया योजना- प्रमुख बिंदु

  • खेलो इंडिया योजना के बारे में: खेलो इंडिया योजना 2017 में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उपलब्धियों के उच्चतम स्तर को प्राप्त करने के लिए प्रतिभा की पहचान एवं खेल प्रतिभा को पोषित करने हेतु एक अधिदेश के साथ प्रारंभ की गई थी।
    • खेलो इंडिया योजना का प्राथमिक फोकस एथलीटों के लिए अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करने हेतु एक राष्ट्रीय स्तर का मंच तैयार करना एवं उन्हें आगे संवारने एवं वित्तीय सहायता प्रदान करने हेतु अभिनिर्धारित करना है।
  • मूल मंत्रालय: खेलो इंडिया योजना युवा मामले एवं खेल मंत्रालय की केंद्रीय क्षेत्र की प्रमुख योजना है।
  • उद्देश्य: खेलो इंडिया योजना का उद्देश्य देश में खेल संस्कृति को बढ़ावा देना एवं खेल उत्कृष्टता प्राप्त करना है, जिससे जनसाधारण अपने क्रॉस-कटिंग (पारंपरिक रूप से पृथक अथवा स्वतंत्र पक्षों या हितों को जोड़ना) प्रभाव के माध्यम से खेल की शक्ति का उपयोग कर सके।
  • समावेशन: खेलो इंडिया योजना में अखिल भारतीय अर्थात शहरी एवं ग्रामीण दोनों क्षेत्रों को सम्मिलित किया गया है।
    • खेलो इंडिया योजना के तहत, प्रतिभा की पहचान करने हेतु भारत को सात क्षेत्रों अर्थात उत्तर, पूर्व, पश्चिम, दक्षिण तथा उत्तर-पूर्वी क्षेत्रों में विभाजित किया गया है।
  • प्रमुख क्रियाकलाप: खेलो इंडिया कार्यक्रम में शामिल हैं-
    • खेल के मैदान का विकास;
    • सामुदायिक कोचिंग विकास;
    • सामुदायिक खेलों को प्रोत्साहन देना;
    • ग्रामीण/स्वदेशी खेलों, विकलांग व्यक्तियों के लिए खेल एवं महिला खेलों के लिए विद्यालय एवं विश्वविद्यालय दोनों स्तरों पर एक सुदृढ़ खेल प्रतियोगिता ढांचा की स्थापना;
    • चुनिंदा विश्वविद्यालयों में खेल उत्कृष्टता के केंद्रों के निर्माण सहित खेल के बुनियादी ढांचे में महत्वपूर्ण अंतराल को भरना;
    • प्रतिभा की पहचान तथा विकास;
    • खेल अकादमियों को सहायता;
    • विद्यालयी बच्चों के लिए एक राष्ट्रीय शारीरिक स्वस्थता अभियान का क्रियान्वयन; एवं
    • शांति एवं विकास के लिए खेल।

खेलो इंडिया योजना | 2022-23 के बजट में खेलो इंडिया योजना आवंटन में 48 प्रतिशत की वृद्धि_50.1

खेलो इंडिया कार्यक्रम- प्रमुख घटक

खेलो इंडिया योजना के विभिन्न घटकों को निम्नलिखित पांच घटकों में पुनर्व्यवस्थित एवं युक्तिसंगत बनाया गया है-

  • खेल के बुनियादी ढांचे का निर्माण एवं उन्नयन
  • खेल प्रतियोगिताएं एवं प्रतिभा विकास: ‘खेलो इंडिया शीतकालीन खेल’ को ‘खेल प्रतियोगिताएं एवं प्रतिभा विकास’ घटक के अंतर्गत सम्मिलित किया गया है।
  • खेलो इंडिया केंद्र एवं खेल अकादमियां
  • स्वस्थ भारत आंदोलन/फिट इंडिया मूवमेंट: इसे एक पृथक एवं समर्पित घटक के रूप में प्रारंभ किया गया है।
  • खेल के माध्यम से समावेशिता को बढ़ावा देना

 

सरकार ने डिजिटल मुद्रा से आय पर 30 प्रतिशत कर लगाया भारत में विशेष आर्थिक क्षेत्र राष्ट्रीय आयुष मिशन | राष्ट्रीय आयुष मिशन योजना संपादकीय विश्लेषण: पूंजीगत व्यय में वृद्धि करके रोजगार सृजित करना
हरित वित्तपोषण ढांचा कोर सेक्टर इंडस्ट्रीज केंद्रीय बजट 2022-23 | केंद्रीय बजट 2022-23 प्रमुख आकर्षण | भाग बी केंद्रीय बजट के मुख्य आकर्षण | भाग ए
पीएम-डिवाइन योजना रिवर्स रेपो प्रसामान्यीकरण आर्थिक सर्वेक्षण 2021-22 | आर्थिक सर्वेक्षण 2021-22 के मुख्य आकर्षण | आर्थिक सर्वेक्षण 2021-22 पीडीएफ डाउनलोड करें मूल अधिकार (अनुच्छेद 12-35) – भारतीय संविधान का भाग III: स्रोत, अधिदेश तथा प्रमुख विशेषताएं

 

Sharing is caring!