Home   »   Economic Survey 2021-22 | Economic Survey 2021-22 Highlights | Download Economic Survey 2021-22 PDF   »   हरित वित्तपोषण ढांचा

हरित वित्तपोषण ढांचा

हरित वित्त पोषण ढांचा: प्रासंगिकता

  • जीएस 3: भारतीय अर्थव्यवस्था एवं नियोजन, संसाधन, वृद्धि, विकास एवं रोजगार से संबंधित मुद्दे।

हरित वित्तपोषण ढांचा_40.1

ग्रीन फाइनेंसिंग फ्रेमवर्क: संदर्भ

  • हाल ही में, आर्थिक सर्वेक्षण 2021-22 ने भारत में हरित वित्त पोषण को बढ़ावा देने के लिए एक तंत्र का प्रस्ताव दिया है, यह देखते हुए कि भारत वैश्विक स्थायी वित्त पहल का हिस्सा है।

 

ग्रीन फाइनेंसिंग फ्रेमवर्क: प्रमुख बिंदु

  • सर्वेक्षण में वित्त मंत्रालय एवं भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की नियामक पहलों पर भी बल दिया गया है।
  • हरित वित्त सरकार एवं केंद्रीय बैंक के लिए एक सार्वजनिक नीति प्राथमिकता के रूप में उभर रहा है।
  • हरित वित्तपोषण का तात्पर्य उन वित्तीय व्यवस्थाओं से है जो पर्यावरणीय दृष्टि से धारणीय परियोजनाओं के उपयोग हेतु विनिर्दिष्ट हैं।
  • हरित वित्तपोषण के उदाहरण: स्वच्छ ऊर्जा परियोजनाएं, स्वच्छ परिवहन जिसमें न्यून ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन समाहित है, ऊर्जा- दक्ष परियोजनाएं जैसे हरित भवन एवं अपशिष्ट प्रबंधन जिसमें पुनर्चक्रण, कुशल  निस्तारण एवं ऊर्जा में रूपांतरण शामिल है।
  • आर्थिक सर्वेक्षण में इस बात पर बल दिया गया है कि जलवायु परिवर्तन से संबंधित वित्तीय जोखिम सूक्ष्म एवं वृहद-दूरदर्शी/विवेकपूर्ण दोनों तरह की चिंताएं उत्पन्न करते हैं।
  • इस प्रकार की परियोजनाओं की वित्तीय आवश्यकताओं को पूर्ण करने के लिए नए वित्तीय साधन जैसे ग्रीन बॉन्ड, कार्बन मार्केट इंस्ट्रूमेंट्स एवं नए वित्तीय संस्थान स्थापित किए जा रहे हैं।
  • इस कारण से, आरबीआई ने इन जोखिमों का प्रभावी ढंग से मुकाबला करने एवं स्थायी वित्त तथा जलवायु जोखिम के क्षेत्रों में नियामक पहल का नेतृत्व करने के लिए अपने विनियमन विभाग के भीतर स्थायी वित्त समूहनामक एक नई इकाई की स्थापना की थी।

 

स्थायी वित्त समूह

  • यह समूह अंतरराष्ट्रीय मानक-निर्धारण निकायों, अन्य केंद्रीय बैंकों, अन्य वित्तीय क्षेत्र के नियामकों एवं सरकार के साथ स्थायी वित्त या जलवायु जोखिम से संबंधित मुद्दों में समन्वय करता है एवं उनमें भाग लेता है
  • समूह भारत में सतत अभ्यासों का प्रचार करने एवं जलवायु संबंधी जोखिमों को कम करने के लिए बैंकों एवं अन्य विनियमित संस्थाओं हेतु जलवायु-संबंधी समुचित प्रकटीकरण सहित रणनीतियों का सुझाव देगा तथा एक नियामक ढांचा विकसित करेगा।

 

हरित  वित्तीयन उपकरण/ग्रीन फाइनेंसिंग इंस्ट्रूमेंट्स क्या हैं?

  • हरित वित्त तब किसी भी वित्तीय साधन को संदर्भित करता है जिसकी आय का उपयोग सतत विकास परियोजनाओं, पर्यावरण उत्पादों एवं नीतियों के लिए अल्प कार्बन, सतत एवं समावेशी मार्ग की ओर एक हरित आर्थिक रूपांतरण को प्रोत्साहित करने हेतु किया जाता है

हरित वित्तपोषण ढांचा_50.1

स्थायी वित्त एवं हरित वित्त में क्या अंतर है?

  • जलवायु वित्त जलवायु परिवर्तन अनुकूलन एवं शमन को संबोधित करने हेतु निधि प्रदान करता है, हरित वित्त का व्यापक दायरा है क्योंकि इसमें अन्य पर्यावरणीय लक्ष्यों को भी सम्मिलित किया गया है, जबकि स्थायी वित्त अपने कार्यक्षेत्र (डोमेन) को पर्यावरणीय, सामाजिक एवं शासन कारकों (ईएसजी) तक विस्तारित करता है।

 

कोर सेक्टर इंडस्ट्रीज केंद्रीय बजट 2022-23 | केंद्रीय बजट 2022-23 प्रमुख आकर्षण | भाग बी केंद्रीय बजट 2022-23 | केंद्रीय बजट के मुख्य आकर्षण | भाग ए पीएम-डिवाइन योजना
रिवर्स रेपो प्रसामान्यीकरण आर्थिक सर्वेक्षण 2021-22 | आर्थिक सर्वेक्षण 2021-22 के मुख्य आकर्षण | आर्थिक सर्वेक्षण 2021-22 पीडीएफ डाउनलोड करें मूल अधिकार (अनुच्छेद 12-35) – भारतीय संविधान का भाग III: स्रोत, अधिदेश तथा प्रमुख विशेषताएं भारत में घटता विदेशी मुद्रा भंडार
विश्व उपेक्षित उष्णकटिबंधीय रोग दिवस | उपेक्षित उष्णकटिबंधीय रोग (एनटीडी) मैरीटाइम इंडिया विजन 2030 (एमआईवी 2030) फसलों का वर्गीकरण: खरीफ, रबी एवं जायद रूस-यूक्रेन तनाव | यूक्रेन मुद्दे पर यूएनएससी की बैठक

Sharing is caring!