UPSC Exam   »   Sustainable Development Report 2022   »   International Renewable Energy Agency (IRENA)

भारत-आईआरईएनए सामरिक साझेदारी समझौता

अंतर्राष्ट्रीय नवीकरणीय ऊर्जा अभिकरण (आईआरईएनए) – यूपीएससी परीक्षा के लिए प्रासंगिकता

  • जीएस पेपर 2: अंतर्राष्ट्रीय संबंध– महत्वपूर्ण अंतर्राष्ट्रीय संस्थान, एजेंसियां ​​​​एवं मंच- उनकी संरचना,  अधिदेश।

भारत-आईआरईएनए सामरिक साझेदारी समझौता_40.1

समाचारों में आईआरईएनए के साथ सामरिक साझेदारी

  • हाल ही में, प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल को नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय (मिनिस्ट्री ऑफ न्यू एंड रिन्यूएबल एनर्जी/एमएनआरई)  एवं अंतर्राष्ट्रीय नवीकरणीय ऊर्जा एजेंसी (इंटरनेशनल रिन्यूएबल एनर्जी एजेंसी/आईआरईएनए) के मध्य हस्ताक्षरित एक रणनीतिक साझेदारी समझौते से अवगत कराया गया।

 

भारत-आईआरईएनए सामरिक साझेदारी समझौते

  • नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय के बारे में: नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय (MNRE), भारत सरकार तथा अंतर्राष्ट्रीय अक्षय ऊर्जा एजेंसी (IRENA) ने जनवरी 2022 में भारत-IRENA रणनीतिक साझेदारी समझौते पर हस्ताक्षर किए।
  • अधिदेश: भारत-आईआरईएनए रणनीतिक साझेदारी समझौते का उद्देश्य भारत में नवीकरणीय ऊर्जा पर आधारित हरित ऊर्जा संक्रमण पर महत्वाकांक्षा, नेतृत्व एवं ज्ञान को बढ़ावा देना है।
  • महत्व: भारत-आईआरईएनए रणनीतिक साझेदारी समझौता भारत के ऊर्जा संक्रमण प्रयासों में सहायता करेगा एवं विश्व को जलवायु परिवर्तन से निपटने में भी सहायता करेगा।
    • भारत-IRENA रणनीतिक साझेदारी समझौता 2030 तक 500 गीगा वाट स्थापित गैर-जीवाश्म ईंधन  विद्युत क्षमता के अपने महत्वाकांक्षी लक्ष्य को प्राप्त करने में भारत का समर्थन करेगा। यह बदले में  आत्मनिर्भर भारत को प्रोत्साहित करेगा।
    • सामरिक साझेदारी समझौता भारत के ऊर्जा संक्रमण प्रयासों में सहायता करेगा एवं विष्णु को जलवायु परिवर्तन से निपटने में भी सहायता करेगा।
  • प्रमुख विशेषताएं: भारत-आईआरईएनए सामरिक साझेदारी समझौते की मुख्य विशेषताओं में निम्नलिखित क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाना सम्मिलित है:
    • नवीकरणीय ऊर्जा एवं स्वच्छ ऊर्जा प्रौद्योगिकियों को बढ़ाने पर भारत से ज्ञान साझा करने की सुविधा
    • दीर्घकालिक ऊर्जा नियोजन पर भारत के प्रयासों का समर्थन करना
    • भारत में नवाचार के वातावरण को सुदृढ़ करने के लिए सहयोग करना
    • हरित हाइड्रोजन के विकास एवं परिनियोजन को उत्प्रेरित करके लागत प्रभावी वि-कार्बनिकरण (डीकार्बोनाइजेशन) की ओर बढ़ना।

भारत-आईआरईएनए सामरिक साझेदारी समझौता_50.1

इंटरनेशनल रिन्यूएबल एनर्जी एजेंसी (IRENA) 

  • अंतर्राष्ट्रीय नवीकरणीय ऊर्जा एजेंसी के बारे में: अंतर्राष्ट्रीय नवीकरणीय ऊर्जा एजेंसी (इंटरनेशनल रिन्यूएबल एनर्जी एजेंसी/IRENA) एक अंतर सरकारी संगठन है जो-
    • एक सतत ऊर्जा भविष्य के लिए देशों को उनके संक्रमण में सहायता करता है,  एवं
    • अंतर्राष्ट्रीय सहयोग के लिए प्रमुख मंच, उत्कृष्टता का केंद्र, एवं नवीकरणीय ऊर्जा पर नीति, प्रौद्योगिकी, संसाधन एवं वित्तीय ज्ञान के कोष के रूप में कार्य करता है।
  • मुख्य अधिदेश: IRENA जैव ऊर्जा, भूतापीय, जल विद्युत, महासागर, सौर एवं पवन ऊर्जा सहित नवीकरणीय ऊर्जा के सभी रूपों को व्यापक रूप से अपनाने एवं धारणीय उपयोग को प्रोत्साहित करता है।
    • आईआरईएनए सतत विकास, ऊर्जा पहुंच, ऊर्जा सुरक्षा तथा अल्प कार्बन आर्थिक विकास एवं समृद्धि की खोज में इसे प्रोत्साहित करना है।
  • भागीदारी: 180 से अधिक देशों के सक्रिय रूप से संलग्न होने के साथ, IRENA नवीकरणीय संसाधनों  एवं प्रौद्योगिकियों को एक सतत भविष्य की कुंजी के रूप में प्रोत्साहित करता है तथा देशों को उनकी नवीकरणीय ऊर्जा क्षमता प्राप्त करने में सहायता करता है।
  • प्रमुख कार्य: अंतर्राष्ट्रीय नवीकरणीय ऊर्जा एजेंसी (आईआरईएनए) – नवीकरणीय ऊर्जा निवेश के लिए सक्षम नीतियों को अंगीकृत करने हेतु सरकारों को प्रोत्साहित करता है,
    • नवीकरणीय ऊर्जा परिनियोजन में गति लाने हेतु व्यावहारिक उपकरण एवं नीतिगत परामर्श प्रदान करता है,  तथा
    • विश्व की बढ़ती आबादी के लिए स्वच्छ, सतत ऊर्जा प्रदान करने हेतु ज्ञान साझा करने तथा प्रौद्योगिकी हस्तांतरण की सुविधा प्रदान करता है।

 

हीट वेव्स 2022: परिभाषा, कारण, प्रभाव एवं आगे की राह अभ्यास-हाई स्पीड एक्सपेंडेबल एरियल टारगेट (हीट) आपदा रोधी अवसंरचना के लिए गठबंधन (सीडीआरआई): कैबिनेट ने सीडीआरआई को ‘अंतर्राष्ट्रीय संगठन’ के रूप में वर्गीकृत करने की स्वीकृति प्रदान की  ‘शून्य-कोविड’ रणनीति
लिविंग लैंड्स चार्टर संपादकीय विश्लेषण- समय का सार वैश्विक अवसंरचना एवं निवेश के लिए साझेदारी इंडिया केम-2022
दल बदल विरोधी कानून- विधायकों की निरर्हता भारत में नमक क्षेत्र का संकट संयुक्त राष्ट्र महासागर सम्मेलन 2022 भारत की गिग एवं प्लेटफ़ॉर्म अर्थव्यवस्था पर नीति आयोग की रिपोर्ट

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.