UPSC Exam   »   Overseas UDAN   »   Facial Recognition System (FRS)

डिजी यात्रा पहल | चेहरे की पहचान प्रणाली (एफआरएस) को लागू किया जाना

डिजी यात्रा पहल- यूपीएससी परीक्षा के लिए प्रासंगिकता

  • जीएस पेपर 2: शासन, प्रशासन एवं चुनौतियां- विभिन्न क्षेत्रों में विकास के लिए सरकार की नीतियां एवं अंतः क्षेप  तथा उनकी अभिकल्पना एवं कार्यान्वयन से उत्पन्न होने वाले मुद्दे।

डिजी यात्रा पहल | चेहरे की पहचान प्रणाली (एफआरएस) को लागू किया जाना_40.1

समाचारों में डिजी यात्रा पहल

  • चेहरे की पहचान प्रणाली (फेशियल रिकॉग्निशन सिस्टम/FRS) को सरकार द्वारा डिजी यात्रा पहल के एक भाग के रूप में चरणबद्ध रूप से लागू किया जाना है।

 

चेहरे की पहचान प्रणाली (एफआरएस)

  • फेशियल रिकॉग्निशन सिस्टम के बारे में: चेहरे की पहचान प्रणाली हवाई अड्डों पर यात्रियों को निर्बाध एवं परेशानी रहित अनुभव प्रदान करने के लिए सरकार की डिजी यात्रा पहल का हिस्सा है।
  • कार्यान्वयन: पहले चरण को लागू करने की की योजना मार्च 2023 तक कोलकाता, वाराणसी, पुणे, विजयवाड़ा, बैंगलोर, दिल्ली  एवं हैदराबाद हवाई अड्डों पर बनाई गई है।
    • इन हवाई अड्डों पर यात्रा के दिन (‘डे ऑफ ट्रैवल’) के लिए पंजीकरण के साथ डिजी यात्रा बायोमेट्रिक बोर्डिंग सिस्टम का प्रारंभिक परीक्षण पूरा कर लिया गया है।

 

डिजी यात्रा पहल क्या है?

  • डिजी यात्रा पहल के बारे में: ‘डिजी यात्रा’ नागरिक उड्डयन मंत्रालय द्वारा समन्वित उद्योग के नेतृत्व वाली एक पहल है।
    • डिजी यात्रा पहल डिजिटल इंडिया विजन के अनुरूप है जिसका उद्देश्य देश को डिजिटल रूप से सशक्त समाज में रूपांतरित करना है।
  • डिजी यात्रा का उद्देश्य: इसका उद्देश्य हवाई अड्डों पर यात्रियों की डिजिटल प्रोसेसिंग सुनिश्चित करना है।
  • डिजी यात्रा के तहत प्रक्रिया: यात्रियों को चेकपॉइंट पर चेहरे की पहचान प्रणाली (फेशियल रिकॉग्निशन सिस्टम) के आधार पर स्वचालित रूप से संसाधित किया जाएगा जैसे-
    • प्रवेश बिंदु जांच,
    • सुरक्षा जांच में प्रवेश,
    • विमान बोर्डिंग,
    • इसके अतिरिक्त, यह पैक्स एवं डेटा रिकॉल की पहचान करने के लिए चेहरे की पहचान का उपयोग करके सेल्फ-बैग ड्रॉप एवं चेक-इन की सुविधा भी प्रदान करेगा।
  • डिजी यात्रा के स्तंभ पहल: डिजी यात्रा प्लेटफॉर्म 4 प्रमुख स्तंभों पर बनाया जाएगा, जैसे-
    • कनेक्टेड पैसेंजर्स,
    • कनेक्टेड एयरपोर्ट्स,
    • कनेक्टेड फ्लाइंग एवं
    • कनेक्टेड सिस्टम्स

डिजी यात्रा पहल | चेहरे की पहचान प्रणाली (एफआरएस) को लागू किया जाना_50.1

डिजी यात्रा पहल के लाभ 

  • डिजी यात्रा कागज रहित यात्रा एवं बिंदुओं पर पहचान जांच से बचने की सुविधा प्रदान करेगी।
  • इससे ग्राहकों/यात्रियों को निम्नलिखित में सहायता प्राप्त होगी-
    • टिकट बुकिंग के समय मूल्य प्रवृत्तियों की पहचान करके तथा भविष्य के विमान किराए का अनुमान लगाकर उनकी यात्राओं की कुशलता से योजना निर्मित करने में।
    • वैकल्पिक रूप से अपने आधार को एयरलाइंस तथा अन्य पारिस्थितिकी तंत्र के प्रतिभागियों के साथ त्वरित रूप से हवाई अड्डे में प्रवेश एवं स्वचालित चेक-इन के लिए बुकिंग के समय बिना किसी कागज-आधारित हस्तक्षेप की आवश्यकता को लिंक करने में,
    • उन्नत बायोमेट्रिक सुरक्षा समाधानों के कारण तेजी से, वॉक-थ्रू सुरक्षा स्कैनर
    • विभिन्न सुविधाओं, प्रोटोकॉल, एयरलाइन समय, हवाई अड्डों पर कतार की लंबाई इत्यादि से संबंधित प्रासंगिक जानकारी प्राप्त करने में।
    • अनुभव क्षेत्रों में अनुकूलित डिजिटल पेशकशों में सम्मिलित होने में,
    • यात्रा के अगले चरण पर अधिक दृश्यता के लिए भीड़भाड़ एवं विलंब के बारे में समयोचित सूचनाएं प्राप्त करने में,
    • डिजिटल मार्गदर्शन प्रणाली, अंतः क्रियात्मक कियोस्क तथा संवर्धित वास्तविकता ऐप का उपयोग करके हवाई अड्डे के माध्यम से सुगमता से मार्ग निर्देशन  करने में,
    • उड़ानों के दौरान जुड़े रहने तथा इमर्सिव अनुभवों में शामिल होने में। इसके अतिरिक्त, इन-फ्लाइट सेवाओं तथा गंतव्य आधारित पेशकशों को डिजिटल रूप से बुक करने में,
  • जब उनका सामान बैगेज क्लेम बेल्ट तक पहुंच जाए, त्वरित रूप समाधान तथा
  • शिकायतें प्रस्तुत करने, अनुभव साझा करने एवं प्रतिक्रिया देने में।

 

संपादकीय विश्लेषण: प्रवासी सहायता के लिए नीति की कड़ी को आगे बढ़ाएं विश्व व्यापार संगठन एवं भारत: भारत ने तीसरी बार विश्व व्यापार संगठन के शांति खंड का आह्वान किया पारिवारिक वानिकी | यूनेस्को का लैंड फॉर लाइफ अवार्ड भारत में भौगोलिक संकेतक टैग की अद्यतन सूची 
भारत के उपराष्ट्रपतियों की सूची मुस्लिम समुदाय के लिए आवासीय सिविल सेवा परीक्षा कोचिंग कार्यक्रम भारतीय अंटार्कटिक विधेयक 2022 इमरान खान अविश्वास मत | इमरान खान पाकिस्तान के पीएम पद से बर्खास्त
भारत में असंगठित क्षेत्र अंतर्राष्ट्रीय दूरसंचार संघ (आईटीयू) | भारत में अपने नेतृत्व की स्थिति सुरक्षित की डाउन टू अर्थ पत्रिका का विश्लेषण: ”द 6त्थ मास एक्सटिंक्शन!” वरुणा अभ्यास 2022

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published.