Home   »   डाउन टू अर्थ पत्रिका का विश्लेषण:...

डाउन टू अर्थ पत्रिका का विश्लेषण: ”द 6त्थ मास एक्सटिंक्शन!”

प्रासंगिकता

जीएस 3: पर्यावरण प्रदूषण एवं क्षरण, संरक्षण

संदर्भ

  • पृथ्वी एक अभूतपूर्व दर से प्रजातियों को खो रही है, जो अनेक व्यक्तियों का मानना ​​है कि यह ग्रह का छठा सामूहिक विलोपन (6 त्थ मास एक्सटिंक्शन) है।
  • चूंकि इस बार जैव विविधता की हानि मनुष्यों की रही है, यह घटना एंथ्रोपोसीन युग के आरंभ का भी प्रतीक है।
  • लिविंग प्लैनेट रिपोर्ट 2020″ संपूर्ण ग्रह में जैव विविधता की हानि के पीछे पांच प्रमुख कारणों: भूमि तथा समुद्र के उपयोग में परिवर्तन (पर्यावास हानि तथा क्षरण), प्रजातियों का अतिशोषण, आक्रामक प्रजातियों  एवं रोग, प्रदूषण तथा जलवायु परिवर्तन को इंगित करती है।

सामूहिक विलोपन का इतिहास

प्रथम विलोपन 

ऑर्डोवशियन युग।

443 मिलियन वर्ष पूर्व सभी प्रजातियों में से 85% विलुप्त हो गई थी

कारण: एक “हिम युग” जिसके पश्चात तीव्र गति से वैश्विक तापन होता है।

द्वितीय विलोपन 

डेवोनियन युग।

374 मिलियन वर्ष पूर्व सभी प्रजातियों में से 75% विलुप्त हो गए थे।

कारण: समुद्र के जलस्तर में उतार-चढ़ाव, वैश्विक शीतलन (ग्लोबल कूलिंग) तथा वैश्विक तापन में परिवर्तन, कार्बन डाइऑक्साइड के संकेंद्रण में गिरावट तथा अल्प ऑक्सीजन की अवधि।

तृतीय विलोपन

पर्मियन युग।

250 मिलियन वर्ष पूर्व सभी प्रजातियों में से 95% विलुप्त हो गए थे

कारण: एक क्षुद्रग्रह ग्रह से टकराया, हवा को चूर्णित कणों से भर दिया, जिससे निवास योग्य जलवायु की स्थिति उत्पन्न हो गई।

चतुर्थ विलोपन 

  • उत्तर ट्राइसिक युग।
  • 200 मिलियन वर्ष पूर्व सभी प्रजातियों में से 80% विलुप्त हो गई थी
  • कारण: वर्तमान अटलांटिक महासागर में कुछ विशाल भूवैज्ञानिक गतिविधि जिसके परिणामस्वरूप उच्च  कार्बन डाइऑक्साइड, वैश्विक तापन तथा अम्लीकृत महासागर हैं।

पंचम विलोपन

  • क्रिटेशियस युग।
  • विगत पांच  सामूहिक विलोपन होने के दौरान ग्रह की लगभग 99% प्रजातियां विलुप्त हो चुकी हैं।
  • कारण: जलवायु परिवर्तन तथा आक्रामक पौधों की प्रजातियों  का प्रारंभ जैसे मानव जनित कारक।

छठा विलोपन 

  • होलोसीन युग।
  • विगत पांच बड़े पैमाने पर विलुप्त होने के दौरान ग्रह की लगभग 99% प्रजातियां खो चुकी हैं। कारण: जलवायु परिवर्तन और आक्रामक पौधों की प्रजातियों की शुरूआत जैसे मानवजनित कारक।

विश्वव्यापी अनुसंधान क्या संकेत देते हैं?

  • जैव विविधता तथा पारिस्थितिकी तंत्र सेवाओं पर वैश्विक मूल्यांकन रिपोर्ट, 2019 में जारी जैव विविधता तथा पारिस्थितिकी तंत्र सेवाओं (इंटरगवर्नमेंटल साइंस पॉलिसी प्लेटफॉर्म ऑन बायोडायवर्सिटी एंड इकोसिस्टम सर्विसेज/आईपीबीईएस) पर अंतर सरकारी विज्ञान-नीति मंच द्वारा प्रथम बार, यह दर्शाता है कि विलुप्त होने की वर्तमान दर तथा स्तर अभूतपूर्व है तथा यह प्रमुख रूप से मनुष्यों द्वारा किया जा रहा है।
  • आईयूसीएन की रेड लिस्ट में अब 142,577 प्रजातियां सम्मिलित हैं, जिनमें से 40,084 (या 28 प्रतिशत) विलुप्त होने के कगार पर हैं।
  • IPBES के आकलन में कहा गया है कि 10 लाख पशुओं तथा पौधों की प्रजातियां विलुप्त होने का सामना कर रही हैं एवं इनमें से हजारों विलुप्त हो जाएंगी। दशकों के भीतर ग्रह की लगभग 40 प्रतिशत उभयचर प्रजातियों के विलुप्त होने का खतरा है। 1900 के पश्चात से, अधिकांश भूमि-आधारित पर्यावासों में देशी प्रजातियों की संख्या में 20 प्रतिशत की गिरावट आई है।
  • वर्ष 1500 के पश्चात से, पृथ्वी पहले से ही पृथ्वी पर दो मिलियन ज्ञात प्रजातियों में से 7.5  एवं 13% के मध्य- आश्चर्यजनक रूप से 150,000 से 260,000 प्रजातियां खो सकती है।

भारत प्रशांत क्षेत्र 

  • रिपोर्टों से पता चलता है कि कैरिबियन एवं लैटिन अमेरिका (94 प्रतिशत) में कशेरुकी आबादी की हानि सर्वाधिक था, इसके बाद अफ्रीका (65 प्रतिशत), यूरोप  तथा मध्य एशिया में न्यूनतम क्षति (24 प्रतिशत) दिखी।

एशिया प्रशांत

  • वर्ल्ड वाइल्डलाइफ फंड (डब्ल्यूडब्ल्यूएफ) कीलिविंग प्लैनेट रिपोर्ट 2020″ का कहना है कि एशिया प्रशांत क्षेत्र ने साढ़े चार दशकों में अपनी कशेरुकी आबादी का 45 प्रतिशत खो दिया है, जबकि औसत वैश्विक हानि 68 प्रतिशत है।
  • भारत सहित एशिया प्रशांत क्षेत्र में, जो वैश्विक औसत से अधिक प्रजातियों की हानि का सामना कर रहा है,  पर्यावास का क्षरण सर्वाधिक वृहद प्रेरक है, इसके बाद प्रजातियों का अतिशोषण तथा आक्रामक प्रजातियां एवं रोग का स्थान हैं।
  • प्रदूषण तथा जलवायु परिवर्तन की भूमिका आनुपातिक रूप से 16 प्रतिशत से अधिक थी।
  • प्रजातियों की हानि सभी पारिस्थितिक तंत्रों- भूमि से महासागरों तक, समुद्र की सतह से लेकर अभी तक पूरी तरह से खोजे गए समुद्री तल तक, वनों से मरुस्थल तक एवं दलदल से नदियों तक को प्रभावित करती है ।

भारत

  • क्षति भारत में वैश्विक औसत से अधिक हो सकती है, जिसने विगत पांच दशकों में अपने वन्य स्तनधारियों का 12 प्रतिशत, अपने उभयचरों का 19 प्रतिशत तथा अपने पक्षियों का 3 प्रतिशत खो दिया है।
  • दिसंबर 2019 तक देश में दर्ज की गई लगभग 0.1 मिलियन पशु प्रजातियों में से लगभग 6,800 कशेरुक हैं
  • केंद्रीय पर्यावरण, वन  एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के तहत प्राणी अनुसंधान तथा अध्ययन में देश के प्रमुख संगठन, जूलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया के अनुसार, इनमें से लगभग 550 गंभीर रूप से संकटग्रस्त,  संकटग्रस्त तथा अतिसंवेदनशील श्रेणियों में आते हैं।

आसन्न संकट

ड्रैगनफ्लाई

  • इंटरनेशनल यूनियन फॉर कंजर्वेशन ऑफ नेचर (आईयूसीएन) द्वारा ड्रैगनफ्लाई तथा डैम फ्लिज़ पर किए गए एक आकलन से पता चला है कि 6,016 प्रजातियों में से 16% के विलुप्त होने का खतरा है।
  • ड्रैगनफलीज़ द्वारा सामना किया जाने वाला अस्तित्व का खतरा ग्रह की 8.1 मिलियन प्रजातियों में से सभी के लिए चिंता का कारण है।
  • ड्रैगनफलीज़ के विलुप्त होने के इस आकलन के साथ, आईयूसीएन ने कहा, “लाल सूची में विलुप्त होने के जोखिम में प्रजातियों की संख्या प्रथम बार 40,000 से अधिक हो गई है

स्वच्छ जल की जैव विविधता

  • तथ्य यह है कि स्वच्छ जल की जैव विविधता स्थलीय अथवा समुद्री प्रजातियों की तुलना में दोगुनी दर से घट रही है, यह न केवल पर्यावरण के लिए एक खतरनाक आंकड़ा है, यह लोगों के स्वास्थ्य एवं रोजगार की सुरक्षा के लिए भी अत्यधिक चिंताजनक है।
  • 1970 के बाद से स्वच्छ जल की मछलियों की प्रवासी आबादी में 76 प्रतिशत तथा कैटफ़िश जैसी स्वच्छ जल की बड़ी प्रजातियों में 94 प्रतिशत की गिरावट आई है। इतनी खतरनाक दर से प्रजातियों को खोने से भूभाग पर दूरगामी परिणाम होते हैं।

 वृक्ष एवं फसलें

  • विश्व की कुछ सर्वाधिक महत्वपूर्ण फसलों के 70 से अधिक वन्य संबंधियों के विलुप्त होने का खतरा है।
  • 35 प्रतिशत वन्य प्रजातियां विलुप्त होने की स्थिति में हैं।
  • इन वृक्षों के बिना, हम जैव विविधता खो देंगे तथा हमें खाद्य फसलों की किस्मों को विकसित करने से पूर्ण रूप से अक्षम कर देंगे।
  • विगत वर्ष लंदन में स्थित एक चैरिटी बोटैनिकल गार्डन्स कंजर्वेशन इंटरनेशनल ने अपना पांच वर्ष का मूल्यांकनस्टेट ऑफ द वर्ल्ड्स ट्रीज़नाम से प्रकाशित किया था।
  • मूल्यांकन में 60,000 वृक्ष प्रजातियों का मूल्यांकन किया गया एवं पाया गया कि 30 प्रतिशत विलुप्त होने के जोखिम में हैं। पादप साम्राज्य में विलुप्त होने की संख्या विश्व स्तर पर संकटग्रस्त स्तनधारियों, पक्षियों, उभयचरों तथा सरीसृपों की तुलना में संकटग्रस्त प्रजातियों की संख्या से दोगुनी है।
  • रिपोर्ट से पता चलता है कि 440 से अधिक वृक्षों की प्रजातियां विलुप्त होने के कगार पर हैं, जिसका अर्थ है कि उनके पास वन में 50 से कम प्रजातियां शेष हैं।

वन

  • मात्र विगत तीन शताब्दियों में, वैश्विक वन क्षेत्र 40 प्रतिशत तक संकुचित हो गए हैं।
  • प्रत्येक वर्ष, प्राकृतिक स्रोतों से  काष्ठ (लकड़ी) की आवश्यकताओं को पूर्ण करने हेतु, पृथ्वी से 100 मिलियन वृक्ष अनावृत हो गए हैं।
  • वे विश्व के 50 प्रतिशत स्थलीय कार्बन का भंडारण करते हैं तथा तूफान एवं सुनामी जैसी प्रचंड मौसम से एक बफर प्रदान करते हैं।

 

वरुणा अभ्यास 2022 शिपिंग क्षेत्र पर रूस-यूक्रेन संघर्ष का प्रभाव लोकसभा अध्यक्षों की सूची  लामित्ये 2022 अभ्यास| भारत- सेशेल्स संयुक्त सैन्य अभ्यास
आईएमईएक्स 22: आईओएनएस सामुद्रिक अभ्यास 2022 जीनोम संपादन तथा क्रिस्पर-कैस9: परिभाषा | कार्यकरण |  लाभ | चुनौतियां संपादकीय विश्लेषण- सामंजस्य, सहयोग सर्वोच्च न्यायालय ने टीएन वन्नियार कोटा को निरस्त किया 
आनुवंशिक रूप से संशोधित कुछ पौधों एवं जीवों के लिए नियमों में छूट भारत के उपराष्ट्रपति की पदावधि एवं पदच्युति नेत्रा परियोजना तथा अंतरिक्ष मलबे ‘एमएसएमई प्रदर्शन को उन्नत एवं त्वरित करना’ योजना

Sharing is caring!