UPSC Exam   »   असम-मेघालय सीमा विवाद

असम-मेघालय सीमा विवाद

असम-मेघालय सीमा विवाद: प्रासंगिकता

  • जीएस 3: आंतरिक सुरक्षा के लिए चुनौतियां उत्पन्न करने में बाहरी राज्य और गैर-राज्य कारकों की भूमिका।

असम-मेघालय सीमा विवाद_40.1

असम-मेघालय सीमा विवाद: प्रसंग

  • केंद्रीय गृह मंत्री द्वारा 21 जनवरी को मेघालय के 50 वें राज्य स्थापना दिवस समारोह से पूर्व असम-मेघालय सीमा के छह क्षेत्रों में विवाद को समाप्त करने हेतु अंतिम समझौते पर मुहर लगाने की संभावना है।

 

असम मेघालय विवाद के बारे में

  • मेघालय को असम पुनर्गठन अधिनियम, 1971 के अंतर्गत असम से अलग कर बनाया गया था।
  • अधिनियम को सर्वसम्मति से स्वीकार नहीं किया गया एवं लोगों ने इसके प्रावधान को चुनौती दी, इस प्रकार यह विषय संघर्ष का कारण बना।
  • 1970 के दशक के प्रारंभ से, दोनों राज्यों ने गांव के वास्तविक सीमांकन पर विवादित दावे किए हैं।
  • असम एवं मेघालय 885 किलोमीटर लंबी सीमा साझा करते हैं। फिलहाल उनकी सीमाओं से संबंधित 12 बिंदुओं पर विवाद है।
  • असम-मेघालय सीमा विवाद के क्षेत्र, ऊपरी ताराबारी, गज़ांग आरक्षित वन, हाहिम, लंगपीह, बोरदुआर, बोकलापारा, नोंगवाह, मातमुर, खानापारा-पिलंगकाटा, देशदेमोराह ब्लॉक I एवं ब्लॉक II, खंडुली एवं रेटचेरा हैं।
  • असम एवं मेघालय के मध्य विवाद का एक प्रमुख मुद्दा पश्चिम गारो पहाड़ियों में लंगपीह जिला है जो असम के कामरूप जिले की सीमा में है।
  • लंगपीह ब्रिटिश औपनिवेशिक काल के दौरान कामरूप जिले का हिस्सा था, किंतु स्वतंत्रता के पश्चात, यह गारो हिल्स एवं मेघालय का हिस्सा बन गया।
  • असम इसे असम में मिकिर पहाड़ियों का हिस्सा मानता है। मेघालय ने मिकिर हिल्स के ब्लॉक I एवं II पर प्रश्न उठाया है – जो अब कार्बी आंगलोंग क्षेत्र – असम का हिस्सा है।
  • मेघालय के अनुसार, ये तत्कालीन संयुक्त खासी एवं जयंतिया हिल्स जिलों के भाग थे।

 

असम मेघालय सीमा विवाद की समाप्ति

  • 12 विवाद बिंदुओं में से छह को प्रथम चरण में समाधान के लिए चुना गया था
  • छह क्षेत्रों में शामिल हैं: ताराबारी, गिजांग, हाहिम, बकलापारा, खानापारा-पिलिंग काटा एवं रातचेरा।
  • असम एवं मेघालय ने विवादित क्षेत्रों का निरीक्षण करने एवं स्थानीय निवासियों के विचार अभिलिखित करने हेतु तीन-तीन क्षेत्रीय समितियों का गठन किया था।

असम-मेघालय सीमा विवाद_50.1

असम एवं सीमा मुद्दे

  • भारत के उत्तर-पूर्वी क्षेत्र के राज्य व्यापक रूप से असम से काटकर निर्मित किए गए हैं, जिसका अनेक राज्यों के साथ सीमा विवाद है।
  • अरुणाचल प्रदेश एवं नागालैंड के साथ असम के सीमा विवाद पहले से ही सर्वोच्च न्यायालय में लंबित हैं।
  • मेघालय एवं मिजोरम के साथ असम के सीमा विवाद फिलहाल वार्ताओं के माध्यम से समाधान के चरण में हैं।
संपादकीय विश्लेषण: भारत-प्रशांत अवसर अपवाह तंत्र प्रतिरूप: भारत के विभिन्न अपवाह तंत्र प्रतिरूप को समझना इलाहाबाद की संधि 1765 पासपोर्ट रैंकिंग 2022 | हेनले पासपोर्ट सूचकांक 2022
शून्य बजट प्राकृतिक कृषि से उपज को हो सकता है नुकसान संपादकीय विश्लेषण- सपनों के लिए अंतरिक्ष/स्पेस फॉर ड्रीम्स भारत 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था कैसे बन सकता है? बक्सर का युद्ध 1764
2021 में रिकॉर्ड महासागरीय तापन वैश्विक जोखिम रिपोर्ट 2022 प्लासी का युद्ध 1757: पृष्ठभूमि, कारण एवं भारतीय राजनीति तथा अर्थव्यवस्था पर प्रभाव संपादकीय विश्लेषण: भारत के जनांकिकीय लाभांश की प्राप्ति 

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *