Home   »   Geography   »   Triple-Dip La Nina

ट्रिपल-डिप ला नीना

ट्रिपल-डिप ला नीना: यूपीएससी परीक्षा के लिए प्रासंगिकता

  • सामान्य अध्ययन I- जलवायु परिवर्तन।

ट्रिपल-डिप ला नीना -_3.1

ट्रिपल-डिप ला नीना:

  • विश्व मौसम विज्ञान संगठन (वर्ल्ड मेट्रोलॉजिकल ऑर्गेनाइजेशन/डब्लूएमओ) के अनुसार, दुर्लभ “ट्रिपल डिप ला नीना” घटना के एक भाग के रूप में, विश्व के कुछ हिस्सों में शेष वर्ष तथा 2023 में प्रचण्ड मौसम का अनुभव होने की संभावना है।

 

अल नीनो एवं ला नीना

  • जबकि अल नीनो, अधिक सामान्य अभिव्यक्ति, प्रशांत महासागर के पूर्वी एवं मध्य क्षेत्रों (पेरू तथा पापुआ न्यू गिनी के मध्य का क्षेत्र) के साथ देखी जाने वाली असामान्य सतह का तापन है।
  • ला नीना इन सतही जल का असामान्य रूप से ठंडा होना है।
  • अल नीनो (ऊष्ण चरण) एवं ला नीना (शीतल चरण) की घटनाओं को एक साथ अल नीनो दक्षिणी दोलन (अल नीनो साउदर्न ऑसिलेशन/अल नीनो दक्षिणी दोलन) कहा जाता है।
  • ये व्यापक स्तर पर घटित होने वाली पर समुद्री घटनाएं हैं जो वैश्विक मौसम- पवनों, तापमान एवं वर्षण को प्रभावित करती हैं । उनके पास विश्व स्तर पर सूखे, बाढ़, ऊष्ण एवं शीतल परिस्थितियों जैसे मौसम की चरम घटनाओं को प्रेरित करने की क्षमता होती है।
  • प्रत्येक चक्र 9 से 12 माह के मध्य कहीं भी बने रह सकता है, कभी-कभी 18 माह तक बढ़ सकता है – एवं  प्रत्येक तीन से पांच वर्ष पश्चात पुनः घटित होता है।
  • मौसम विज्ञानी इस भूमध्यरेखीय पट्टी के साथ चार पृथक पृथक क्षेत्रों के लिए समुद्र की सतह के तापमान को रिकॉर्ड करते हैं, जिन्हें नीनो क्षेत्रों के रूप में जाना जाता है।
  • तापमान के आधार पर, वे या तो एल नीनो, एल नीनो दक्षिणी दोलन (अल नीनो साउदर्न ऑसिलेशन/ENSO) तटस्थ चरण अथवा ला नीना का पूर्वानुमान लगाते हैं।

 

ट्रिपल-डिपला नीना क्या है?

  • एक “ट्रिपल-डिप” ला नीना भूमध्यरेखीय प्रशांत महासागर की सतह के तापमान का एक बहुवर्षीय शीतलन है, जो सूखे, भयंकर पवनों एवं भारी वर्षा का कारण बन सकता है।
  • डब्लूएमओ के अनुसार, वर्तमान ला नीना के लगातार तीन उत्तरी गोलार्ध में शीत ऋतु की अवधि में विस्तृत रहने का अनुमान है। इसकी शुरुआत सितंबर 2020 में हुई थी।
  • डब्लूएमओ का कथन है, यदि यह आगामी छह माह तक जारी रहता है, तो यह 21वीं सदी की पहली “ट्रिपल-डिप” ला नीना घटना होगी।

 

यह ट्रिपल-डिप कितना दुर्लभ है?

  • ला नीना की घटना का निरंतर तीन वर्ष तक होना असाधारण है।
  • इसका शीतलन प्रभाव अस्थायी रूप से वैश्विक तापमान में वृद्धि को धीमा कर रहा है – किंतु यह दीर्घकालिक वैश्विक तापन की प्रवृत्ति को रोक या प्रतिलोमित नहीं कर देगा।
  • ला नीना आमतौर पर अल नीनो से पूर्व गठित होते हैं, एक मौसम प्रतिरूप जो पूर्वी उष्णकटिबंधीय प्रशांत महासागर की सतह को गर्म करता है।
  • यद्यपि, वर्तमान ला नीना से पूर्व अल नीनो की घटना घटित नहीं हुई थी।

 

ट्रिपल-डिप ला नीना: पूर्ववर्ती उदाहरण

  • ला नीना 1903 से 2010 एवं 2010 से 2012 के मध्य कई बार घटित हुआ।
  • यह इस सदी का पहला “ट्रिपल-डिप” ला नीना होगा।
  • यद्यपि, मौसम के प्रतिरूप के लिए नौ माह से अधिक एक वर्ष तक जारी रहने हेतु यह अभूतपूर्व नहीं है, जो कि ला नीना के लिए आदर्श है।

 

ट्रिपल-डिप ला नीना: प्रभाव

  • भारतीय संदर्भ में, ला नीना मानसून की ऋतु में अच्छी वर्षा के साथ संबंधित है।
  • यह अल नीनो के विपरीत है जो मानसूनी वर्षा को अवरोधित करने के लिए जाना जाता है।
  • इस प्रकार, ला नीना के एक निरंतर दौर से मानसून के दौरान एक अन्य वर्ष अच्छी या सामान्य वर्षा की  संभावना हो सकती है।
  • अब तक इस वर्ष मानसून ऋतु में सामान्य से 7% अधिक वर्षा हुई है। विगत वर्ष मौसमी वर्षा लगभग 100% थी।
  • किंतु, शक्तिशाली होने के बावजूद, अल नीनो दक्षिणी दोलन की स्थिति भारत में मानसूनी वर्षा को प्रभावित करने वाले अनेक कारकों में से मात्र एक कारक है।

 

ट्रिपल-डिप ला नीना: वर्षा पर प्रभाव

  • अल नीनो दक्षिणी दोलन की स्थिति एवं वर्षण की मात्रा के मध्य कोई प्रत्यक्ष संबंध नहीं है।
  • साथ ही, अल नीनो दक्षिणी दोलन का प्रभाव वृहद स्तर पर है।
  • स्थानीय स्तर पर वर्षा में व्यापक भिन्नताएँ हैं, जो जलवायु परिवर्तन से विकराल होती जा रही हैं।

 

इस ट्रिपल-डिप घटना के विभेदक प्रभाव

  • ला नीना का आगे 2023 में जारी रहना भारतीय दृष्टिकोण से बुरी खबर नहीं है। किंतु यह कई अन्य क्षेत्रों के लिए समान नहीं है जहां ला नीना का बहुत अलग प्रभाव है।
  • संयुक्त राज्य अमेरिका के अधिकांश हिस्सों में, उदाहरण के लिए, ला नीना अत्यंत शुष्क शीत ऋतु से संबंधित है।
  • ऑस्ट्रेलिया एवं इंडोनेशिया में तथा आम तौर पर उष्णकटिबंधीय क्षेत्र में, ला नीना से अधिक वर्षा होने की  संभावना है।
  • पाकिस्तान में अत्यधिक वर्षा, जो अपनी सर्वाधिक भीषण बाढ़ आपदा का सामना कर रही है, के लिए आंशिक रूप से ला नीना को भी दोषी ठहराया जा सकता है।
  • इसमें कहा गया है कि ला नीना के बने रहने से अफ्रीका में सूखे की स्थिति के और बिगड़ने की संभावना है।

 

ट्रिपल-डिप ला नीना: जलवायु परिवर्तन से संबंध

  • इन दिनों असामान्य मौसम की प्रत्येक घटना को जलवायु परिवर्तन के लिए उत्तरदायी ठहराया जाता है, किंतु विज्ञान अभी निर्णायक नहीं है।
  • अल नीनो या ला नीना की घटनाएं बहुत नियमित नहीं हैं।
  • कभी-कभी वे प्रत्येक दो वर्ष में उदित हो जाती हैं, तो कभी सात वर्ष का भी अंतराल होता है।
  • ऐतिहासिक रिकॉर्ड अतीत में बहुत दूर तक प्राप्त नहीं होते हैं।
  • परिणामस्वरुप, अल नीनो दक्षिणी दोलन की प्राकृतिक परिवर्तनशीलता बहुत स्पष्ट रूप से समझ में नहीं आती है।
  • और जब प्राकृतिक परिवर्तनशीलता स्वयं स्पष्ट नहीं है, तो वैश्विक तापन (ग्लोबल वार्मिंग) के प्रभाव का परिमाण निर्धारित करना अत्यंत कठिन है।
  • किंतु वैश्विक तापन के साथ एक और तरह के जुड़ाव के स्पष्ट प्रमाण हैं।
  • ला नीना वर्षों के दौरान, ठंडी सतहें महासागरों को वातावरण से अधिक ऊष्मा को अवशोषित करने की अनुमति प्रदान करती हैं।
  • परिणामस्वरुप, हवा का तापमान नीचे चला जाता है, जिससे शीतलन प्रभाव उत्पन्न होता है।

 

दलित मुसलमानों एवं ईसाइयों के लिए एससी कोटा पीएम प्रणाम ब्रिक्स पर्यटन मंत्रियों की बैठक 2022 संपादकीय विश्लेषण- रिफॉर्म्स एंड द टास्क ऑफ गेटिंग टीचर्स ऑन बोर्ड
हिजाब एवं अनिवार्यता का सिद्धांत पादप संधि ई-गवर्नेंस  राज्य पर्यटन मंत्रियों का राष्ट्रीय सम्मेलन
JIMEX 22- जापान भारत समुद्री अभ्यास 2022 पूर्वी आर्थिक मंच (ईईएफ) प्रधानमंत्री मोदी ने कुनो राष्ट्रीय उद्यान में चीतों का लोकार्पण किया सहाय प्रदत्त आत्महत्या (असिस्टेड सुसाइड)

Sharing is caring!

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *