Home   »   19th Meeting of NTCA: 50 Cheetah...   »   Reintroduction Cheetahs in Kuno National Park

प्रधानमंत्री मोदी ने कुनो राष्ट्रीय उद्यान में चीतों का लोकार्पण किया

कुनो राष्ट्रीय उद्यान में चीतों का लोकार्पण- यूपीएससी परीक्षा के लिए प्रासंगिकता

  • जीएस पेपर 3: पर्यावरण- संरक्षण, पर्यावरण प्रदूषण एवं क्षरण।

हिंदी

कुनो नेशनल पार्क में चीतों का लोकार्पण चर्चा में क्यों है

  • हाल ही में, भारत के प्रधानमंत्री ने मध्य प्रदेश के कुनो राष्ट्रीय उद्यान से आरंभ होकर बड़ी बिल्लियों को पुनः प्रवेशित करने के लिए एक महत्वाकांक्षी परियोजना में, भारत पहुंचे आठ में से तीन चीतों को लोकार्पित  कर दिया।
    • पीएम मोदी ने भी चीतों के दौरे से पूर्व जनता से धैर्य रखने की अपील की।
  • पीएम मोदी ने कहा कि यद्यपि भारत ने 1952 में चीतों को विलुप्त घोषित कर दिया था, किंतु यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि दशकों तक उन्हें फिर से लाने के लिए कोई रचनात्मक प्रयास नहीं किया गया।

 

भारत में चीतों के पुन: प्रवेश का पता लगाना

  • प्रारंभ: आंध्र प्रदेश के राज्य वन्यजीव बोर्ड ने 1955 में राज्य के दो जिलों में प्रायोगिक आधार पर नीति का सुझाव दिया था।
  • पुन: प्रवेश पर सरकार का रुख: 1970 के दशक में, पर्यावरण विभाग ने औपचारिक रूप से ईरान से कुछ चीतों के लिए अनुरोध किया, जिसके पास उस समय 300 एशियाई चीते थे।
    • यद्यपि, ईरान के शाह को किसी भी समझौते पर पहुँचने से पूर्व ही हटा दिया गया था।
  • मांग का पुनः प्रवर्तन: भारत में चीतों को लाने के प्रयासों को 2009 में एक बार फिर से पुनर्जीवित किया गया एवं भारतीय वन्यजीव ट्रस्ट ने चीता के पुनः प्रवेश की व्यवहार्यता पर चर्चा करने के लिए एक बैठक आयोजित की।
    • अनेक स्थलों का चयन किया गया, जिनमें से कुनो-पालपुर राष्ट्रीय उद्यान को सर्वाधिक उपयुक्त माना गया।
    • ऐसा इसलिए था क्योंकि इस क्षेत्र में एक वृहद पर्यावास क्षेत्र उपलब्ध था एवं इस स्थल पर निवास करने वाले ग्रामीणों को विस्थापित करने के लिए पहले ही महत्वपूर्ण निवेश किया जा चुका था।
  • चीता के पुनः प्रवेश पर  सर्वोच्च न्यायालय का मत: सर्वोच्च न्यायालय ने 2010 में चीता को कुनो-पालपुर में पुनः प्रवेश के आदेश पर रोक लगा दी थी क्योंकि राष्ट्रीय वन्यजीव बोर्ड को इस मामले की जानकारी नहीं थी।
    • न्यायालय ने कहा कि एशियाई सिंह के पुन प्रवेश को प्राथमिकता दी जानी चाहिए, जो केवल गुजरात के गिर राष्ट्रीय उद्यान में पाया जाता है।
    • 2020 में, सरकार द्वारा एक याचिका का उत्तर देते हुए सर्वोच्च न्यायालय ने घोषणा की कि प्रयोगात्मक आधार पर अफ्रीकी चीतों को “सावधानीपूर्वक चयनित किए गए स्थान” में प्रवेशित किया जा सकता है।
  • चीतों का पुनः प्रवेश: हाल ही में पीएम मोदी ने मध्य प्रदेश के कुनो राष्ट्रीय उद्यान में आठ में से तीन चीतों  का लोकार्पण किया।
    • इन चीतों को नामीबिया की राजधानी विंडहोक से लाया गया था। भारत लाए गए आठ जंगली चीतों में पांच मादा  तथा तीन नर हैं।

 

भारत में चीता- भारत में चीता के विलुप्त होने की यात्रा का पता लगाना

  • चीतों के साथ शिकार: चीता, जिसे वश में करना अपेक्षाकृत सरल था एवं बाघों की तुलना में कम खतरनाक था,  प्राय: भारतीय कुलीन वर्ग द्वारा आखेट के लिए उपयोग किया जाता था।
    • भारत में शिकार के लिए उपयोग किए जाने वाले चीतों के लिए सर्वप्रथम उपलब्ध अभिलेख, 12 वीं शताब्दी के संस्कृत पाठ मानसोल्लास में प्राप्त होता है, जिसे कल्याणी के चालुक्य शासक, सोमेश्वर III (1127-1138 ईस्वी से शासन किया गया) द्वारा निर्मित किया गया था।
    • सम्राट अकबर, जिसने 1556-1605 तक शासन किया, विशेष रूप से इस गतिविधि के शौकीन थे एवं कुल मिलाकर 9,000 चीतों को एकत्र करने का रिकॉर्ड है।
    • सम्राट जहांगीर (1605-1627 तक शासन) ने अपने पिता का अनुसरण किया एवं कहा जाता है कि पालम के परगना में चीते के द्वारा 400 से अधिक मृगों को पकड़ा गया था।
    • शिकार के लिए जंगली चीतों को पकड़ने तथा उन्हें कैद में रखने में कठिनाई के कारण अंग्रेजों के प्रवेश से पूर्व ही चीतों की आबादी में गिरावट आ रही थी।
  • ब्रिटिश राज के तहत विलुप्त होने के करीब: वे बाघ,जंगली भैंसा एवं हाथियों जैसे बड़े जानवरों का शिकार करना पसंद करते थे।
    • ब्रिटिश राज के तहत, जंगलों को बड़े पैमाने पर साफ किया गया, ताकि बस्तियों का विकास किया जा सके एवं नील, चाय तथा कॉफी के बागान स्थापित किए जा सकें।
    • इसके परिणामस्वरूप बड़ी बिल्लियों के लिए पर्यावास की हानि हुई, जिससे उनकी संख्या में गिरावट में योगदान   दिया।
    • ब्रिटिश अधिकारियों ने चीतों को “पीड़क जीव” के रूप में माना एवं कम से कम 1871 के बाद से चीतों की हत्या के लिए मौद्रिक पुरस्कार भी वितरित किए। .
    • इनामी शिकार के कारण पुरस्कारों से चीतों की संख्या में गिरावट आई, क्योंकि यहां तक ​​कि एक छोटी संख्या को हटाने से जंगली चीतों की जीवित रहने के लिए आवश्यक निम्नतम स्तर पर भी प्रजनन करने की क्षमता पर नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।
    • परिणामस्वरूप, 20वीं शताब्दी तक भारत में जंगली चीते अत्यंत दुर्लभ हो गए।
  • भारत से चीता का विलुप्त होना: 1952 में, भारत सरकार ने आधिकारिक तौर पर देश में चीता को विलुप्त घोषित कर दिया। माना जाता है कि कोरिया, मध्य प्रदेश के महाराजा रामानुज प्रताप सिंह देव ने 1947 में भारत में दर्ज अंतिम तीन चीतों को मार डाला था।

 

सहाय प्रदत्त आत्महत्या (असिस्टेड सुसाइड) उलझी हुई परमाणु घड़ियाँ राष्ट्रीय रसद नीति (एनएलपी) 2022 जारी महिला एसएचजी सम्मेलन 2022
संपादकीय विश्लेषण-जेंडर पे गैप, हार्ड ट्रुथ्स एंड एक्शन्स नीडेड वृद्धावस्था की समस्याएं जिन्हें हमें अभी हल करना चाहिए इरोड वेंकटप्पा रामासामी: द्रविड़ आंदोलन के जनक केंद्र ने 4 नई जनजातियों को अनुसूचित जनजाति (एसटी) सूची में जोड़ा 
आसियान-भारत आर्थिक मंत्रियों की 19वीं बैठक 2022 कृतज्ञ हैकथॉन 2022 पूर्वी आर्थिक मंच (ईईएफ) 2022 भारत का बढ़ता जल संकट

Sharing is caring!

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *