UPSC Exam   »   State of the World’s Children Report 2021   »   Paalan 1000

पालन ​​1000 राष्ट्रीय अभियान एवं पेरेंटिंग ऐप

पालन 1000- यूपीएससी परीक्षा के लिए प्रासंगिकता

  • जीएस पेपर 2: शासन, प्रशासन एवं चुनौतियां- केंद्र एवं राज्यों द्वारा आबादी के कमजोर वर्गों के लिए कल्याणकारी योजनाएं तथा इन योजनाओं का प्रदर्शन।

पालन ​​1000 राष्ट्रीय अभियान एवं पेरेंटिंग ऐप_40.1

पालन ​​1000 चर्चा में क्यों है?

  • हाल ही में, केंद्रीय राज्य मंत्री डॉ. भारती प्रवीण पवार ने मुंबई में आरंभिक बाल्यावस्था विकास सम्मेलन, पालन 1000 राष्ट्रीय अभियान एवं पेरेंटिंग ऐप को आभासी रूप से विमोचित किया।
  • पालन ​​1000 को विमोचित करते हुए, उन्होंने कहा कि भारत ने 2014 से बाल मृत्यु दर को 45 प्रति 1000 जीवित जन्मों से कम करके 2019 में 35 प्रति 1000 जीवित जन्मों तक कम करने में तेजी से कदम उठाए हैं।

 

पालन ​​1000 राष्ट्रीय अभियान एवं पेरेंटिंग ऐप

  • पालन ​​1000 राष्ट्रीय अभियान एवं पेरेंटिंग ऐप के बारे में: ‘पालन 1000 राष्ट्रीय अभियान- प्रथम 1000 दिनों की यात्रा’, अपने जीवन के प्रथम 2 वर्षों में बच्चों के संज्ञानात्मक विकास पर केंद्रित है।
  • अधिदेश: 2 वर्ष से कम आयु के बच्चों का संज्ञानात्मक विकास इस पालन 1000 का एक प्रमुख फोकस क्षेत्र है।
  • प्रमुख विशेषताएं: पालन 1000 माता-पिता, परिवारों एवं अन्य देखभाल करने वालों के लिए आरंभिक वर्षों के अनुशिक्षण (कोचिंग) को परिवारों की मूलभूत आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए डिज़ाइन की गई सेवाओं के साथ जोड़ती है।
    • शिशुओं एवं बच्चों को उनके अनुभवों से आकार दिया जाता है – तथा उन अनुभवों को उनके देखभाल करने वालों द्वारा आकार दिया जाता है।
    • जीवन के प्रथम वर्षों में एक मजबूत शुरुआत के लिए देखभाल करने वाले महत्वपूर्ण हैं।
    • कार्यक्रम को राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम (आरबीएसके) के मिशन के साथ जोड़ा गया है, जिसमें पहले 1000 दिनों में उत्तरदायी देखभाल तथा अंतः क्षेप पर ध्यान केंद्रित किया गया है।
  • पालन ​​1000 पेरेंटिंग ऐप: यह देखभाल करने वालों को व्यावहारिक परामर्श प्रदान करेगा कि वे अपनी दिनचर्या में क्या कर सकते हैं एवं माता-पिता की विभिन्न शंकाओं को हल करने में सहायता करेगा तथा एक बच्चे के विकास में हमारे प्रयासों को निर्देशित करेगा।
  • मार्गदर्शक सिद्धांत: पालन 1000 ने निम्नलिखित 6 सिद्धांतों पर ध्यान केंद्रित किया है-
    • प्यार को अधिकतम करना,
    • बात करें एवं जुड़े रहें,
    • गतिविधियों एवं खेल के माध्यम से अन्वेषण करें,
    • कहानियां पढ़ें तथा चर्चा करें,
    • स्तनपान के दौरान बच्चे के साथ माँ का जुड़ाव एवं
    • तनाव प्रबंधन तथा शांत रहना।
  • निरंतर देखभालअवधारणा: यह अवधारणा बच्चे के अस्तित्व में सुधार के लिए महत्वपूर्ण जीवन चरणों के दौरान देखभाल पर बल देती है। राष्ट्रीय कार्यक्रम के तहत इसका पालन किया जा रहा है।

पालन ​​1000 राष्ट्रीय अभियान एवं पेरेंटिंग ऐप_50.1

पहले 1000 दिनों में आरंभिक बाल्यावस्था के विकास का महत्व

  • प्रथम एक हजार दिनों में गर्भाधान के साथ-साथ बच्चे के जीवन के प्रथम 2 वर्ष सम्मिलित होते हैं एवं इस अवधि के दौरान बढ़ते बच्चे को उचित पोषण, उद्दीपन, प्यार एवं समर्थन की आवश्यकता होती है।
  • पहले 1000 दिन बच्चे के शारीरिक, मानसिक, भावनात्मक, संज्ञानात्मक एवं सामाजिक स्वास्थ्य के लिए एक ठोस मंच स्थापित करते हैं।
  • बच्चे के मस्तिष्क के विकास की प्रक्रिया गर्भावस्था के दौरान प्रारंभ होती है तथा गर्भवती महिला के स्वास्थ्य, पोषण एवं वातावरण से प्रभावित होती है।
  • जन्म के पश्चात, शारीरिक विकास के अतिरिक्त, एक मानव शिशु के मस्तिष्क का विकास उसके भविष्य के स्तर की बुद्धि  एवं जीवन की गुणवत्ता का मार्ग प्रशस्त करता है।
  • इस यात्रा का प्रत्येक दिन विशेष है एवं बच्चे के विकास, बढ़ने तथा सीखने के तरीके को – न केवल वर्तमान में, बल्कि उसके पूरे जीवन काल के लिए प्रभावित करता है।

 

इथेनॉल सम्मिश्रण को समझना बाल आधार पहल संपादकीय विश्लेषण- ए ट्रिस्ट विद द पास्ट पोलियो वायरस: लंदन, न्यूयॉर्क और जेरूसलम में मिला 
डिजी-यात्रा: इसके बारे में, कार्य एवं संबद्ध लाभ राष्ट्रीय बौद्धिक संपदा जागरूकता मिशन (एनआईपीएएम) 76 वें स्वतंत्रता दिवस पर लाल किले से प्रधानमंत्री का संबोधन  संपादकीय विश्लेषण- ए  टाइमली जेस्चर
रूस-तुर्की आर्थिक सहयोग- यूरोप के लिए सरोकार एशियन रीजनल फोरम मीट- चुनावी लोकतंत्र के लिए सम्मेलन उच्च शिक्षा का अंतर्राष्ट्रीयकरण  22 वां भारत रंग महोत्सव 2022 (आजादी खंड)

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published.