UPSC Exam   »   Money Laundering Explained   »   धन शोधन हत्या से अधिक जघन्य:...

धन शोधन हत्या से अधिक जघन्य: सर्वोच्च न्यायालय

धन शोधन: प्रासंगिकता

  • जीएस 3: धन शोधन एवं इसकी रोकथाम।

धन शोधन हत्या से अधिक जघन्य: सर्वोच्च न्यायालय_40.1

धन शोधन: प्रसंग

  • हाल ही में, नैसर्गिक न्याय के मूल सिद्धांतों का कथित रूप से उल्लंघन करने के कारण धन शोधन निवारण अधिनियम (प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट/पीएमएलए) के विभिन्न प्रावधानों को चुनौती देने हेतु भारत के सर्वोच्च न्यायालय में एक याचिका दायर की गई थी।

 

पीएमएलए 2005: प्रावधान जिन्हें चुनौती दी गई

  • संबंधित अधिकारी की मात्र व्यक्तिपरक संतुष्टि पर वारंट के बिना गिरफ्तारी की शक्ति सहित प्रपीड़क शक्तियां।
  • याचिकाकर्ताओं ने जमानत स्वीकृत करने हेतु सीमाएं आरोपित करने के लिए अधिनियम की धारा 45 की वैधता को भी चुनौती दी है।

यूपीएससी एवं राज्य लोक सेवा आयोगों की परीक्षाओं हेतु नि शुल्क अध्ययन सामग्री प्राप्त करें

मनी लॉन्ड्रिंग हत्या से अधिक जघन्य: सर्वोच्च न्यायालय ने क्या कहा?

  • सर्वोच्च न्यायालय का विचार था कि मनी लॉन्ड्रिंग के अपराध को गंभीरता रहित होकर (हल्के में) नहीं लिया जा सकता क्योंकि मनी लॉन्ड्रिंग हत्या से अधिक जघन्य है।
  • सर्वोच्च न्यायालय ने यह भी कहा कि मनी लॉन्ड्रिंग देश की अर्थव्यवस्था और वित्तीय व्यवस्था को क्षति पहुंचाता है।
  • सर्वोच्च न्यायालय ने कहा कि मनी लॉन्ड्रिंग का इस्तेमाल न केवल मादक द्रव्यों के दुर्व्यापार (ड्रग ट्रेडिंग) के लिए आतंकवादी गतिविधियों के लिए भी किया जाता है जो भारत की संप्रभुता एवं अखंडता को दुष्प्रभावित करती हैं।

 

धन शोधन निवारण अधिनियम, 2002

  • धन शोधन निवारण अधिनियम (द प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट), 2002 धन शोधन के दांडिक अपराध से लड़ने हेतु अधिनियमित किया गया था।
  • धन शोधन निवारण अधिनियम, 2002 सरकार को अवैध रूप से अर्जित आय से अर्जित संपत्ति को अधिहरित (जब्त) करने में सक्षम बनाता है।

 

पीएमएलए के उद्देश्य

  • मनी लॉन्ड्रिंग की रोकथाम करना।
  • धन को अवैध गतिविधियों एवं आर्थिक अपराधों में लगाने के विरुद्ध लड़ना/रोकना।
  • मनी लॉन्ड्रिंग से प्राप्त या इसमें सम्मिलित/प्रयुक्त की गई संपत्ति को जब्त करने का प्रावधान करना।
  • मनी लॉन्ड्रिंग के कृत्यों से जुड़े एवं प्रासंगिक मामलों के संबंध में प्रावधान करना

धन शोधन हत्या से अधिक जघन्य: सर्वोच्च न्यायालय_50.1

मनी लॉन्ड्रिंग क्या है?

  • संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, “संपत्ति का रूपांतरण या हस्तांतरण, यह जानते हुए कि ऐसी संपत्तिकिसी अपराध/अपराधों से, जिसे संपत्ति के अवैध उद्गम/मूल को छिपाने अथवा असत्य विवरण के उद्देश्य से अथवा ऐसे अपराध में शामिल किसी भी व्यक्ति की सहायता करने के उद्देश्य से (व्युत्पन्न) ली गई है ताकि वह अपने कृत्यों के विधिक परिणामों से बच सके.
  • अतः, मनी लॉन्ड्रिंग को एक आपराधिक गतिविधि, जैसे कि मादक पदार्थों की तस्करी या आतंकवादी फंडिंग से बड़ी मात्रा में पैसा बनाने की अवैध प्रक्रिया के रूप में परिभाषित किया जा सकता है, जो एक वैध स्रोत से आया हुआ हुआ प्रतीत होता हो।
  • आपराधिक गतिविधि से प्राप्त धन को गंदा माना जाता है एवं धन शोधन की प्रक्रिया इसे साफ-सुथरी दिखाने के लिए इसे “अवैध से वैध बना” देती है।
  • मनी लॉन्ड्रिंग एक गंभीर वित्तीय अपराध है जिसे सफेदपोश एवं सड़क स्तर के अपराधियों द्वारा समान रूप से नियोजित किया जाता है।

 

धन शोधन के 3 चरण

  • स्थानन/प्लेसमेंट: अपराध के साथ प्रत्यक्ष संबंध से धन को स्थानांतरित करना।
  • स्तरण/लेयरिंग: तलाश को विफल करने हेतु निशान को छुपाना।
  • एकीकरण/इंटीग्रेशन: अपराधी को वैध स्रोतों से धन उपलब्ध कराना।

 

भारत में शिक्षा: सत्र 2022-23 हेतु शिक्षण पुनर्स्थापना कार्यक्रम सोलर रूफटॉप प्लांट केंद्रीय बजट 2022-23 को समझना | पर्यटन क्षेत्र मरुस्थलीकरण का मुकाबला करने हेतु संयुक्त राष्ट्र अभिसमय
कुचिपुड़ी नृत्य-भारतीय शास्त्रीय नृत्य झारखंड में ओपन कास्ट माइन, मौत का जाल बना हुआ है भारत द्वारा बीजिंग ओलंपिक 2022 का राजनयिक बहिष्कार संपादकीय विश्लेषण | विंटर इज हेयर
केंद्रीय बजट 2022-23 को समझना | पीएम गति शक्ति राष्ट्रीय महायोजना भारत में विभिन्न प्रकार की कृषि खेलो इंडिया योजना | 2022-23 के बजट में खेलो इंडिया योजना आवंटन में 48 प्रतिशत की वृद्धि सरकार ने डिजिटल मुद्रा से आय पर 30 प्रतिशत कर लगाया

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published.