UPSC Exam   »   Scheme for Promotion of Culture of...   »   Manthan Platform

मंथन प्लेटफॉर्म विमोचित 

मंथन प्लेटफॉर्म- यूपीएससी परीक्षा के लिए प्रासंगिकता

  • जीएस पेपर 2: शासन, प्रशासन एवं चुनौतियां- विभिन्न क्षेत्रों में विकास के लिए सरकार की नीतियां एवं अंतः क्षेप तथा उनकी अभिकल्पना एवं कार्यान्वयन से उत्पन्न होने वाले मुद्दे।

मंथन प्लेटफॉर्म विमोचित _40.1

मंथन प्लेटफार्म चर्चा में क्यों है

  • हाल ही में, भारत सरकार (गवर्नमेंट ऑफ इंडिया) के प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार (प्रिंसिपल साइंटिफिक एडवाइजर/PSA) के कार्यालय ने मंथन प्लेटफॉर्म के शुभारंभ की घोषणा की।
    • प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार (PSA) के कार्यालय को देश के भीतर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के सभी क्षेत्रों को सक्षम तथा सशक्त बनाने का दृष्टिकोण सौंपा गया है।
  • मंथन मंच भारत की आजादी के 75 वर्ष का उत्सव मनाता है – आजादी का अमृत महोत्सव  राष्ट्रीय एवं वैश्विक समुदायों को भारत की प्रौद्योगिकी क्रांति के करीब लाने का अवसर प्रस्तुत करता है।

 

मंथन प्लेटफॉर्म

  • मंथन प्लेटफार्म के बारे में: मंथन मंच विशिष्ट है एवं हमारे धारणीयता लक्ष्यों को प्राप्त करने हेतु नवोन्मेषी विचारों, आविष्कारशील मस्तिष्कों एवं सार्वजनिक-निजी-अकादमिक सहयोग के माध्यम से हमारे देश को रूपांतरित करने हेतु आवश्यक आधार प्रदान करेगा।
  • अधिदेश: मंथन प्लेटफॉर्म का उद्देश्य भारत में उद्योग एवं वैज्ञानिक अनुसंधान तथा विकास पारिस्थितिकी तंत्र के मध्य व्यापक स्तर पर सहयोग को प्रोत्साहित करना है।
    • यह संयुक्त राष्ट्र द्वारा परिभाषित सतत विकास लक्ष्यों (सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स/एसडीजी) चार्टर के साथ संरेखण में भारत के धारणीयता लक्ष्यों को प्राप्त करने में सहायता करेगा।
  • कार्यान्वयन: भारत सरकार के प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार (PSA) का कार्यालय मंथन प्लेटफॉर्म को  क्रियान्वित कर रहा है।
    • मंथन प्लेटफार्म एनएसईआईटी लिमिटेड द्वारा संचालित है जो इसका विश्वसनीय ज्ञान एवं प्रौद्योगिकी भागीदार है।

 

मंथन प्लेटफार्म का महत्व

  • मंथन प्लेटफॉर्म मांग पक्ष एवं आपूर्ति पक्ष उपयोगकर्ताओं के मध्य व्यापक स्तर पर सहयोग को बढ़ावा देने के लिए आवश्यक प्रोत्साहन प्रदान करता है।
    • यह विचारों को पल्लवित होने में सहायता करेगा, समुदायों को बढ़ाने के लिए प्रौद्योगिकी एवं ऐसे परिणाम देने में सहायता करेगा जो राष्ट्र को अनेक एवं शानदार अध्यायों की ओर ले जा सकते हैं।
  • मंथन नवीन अवधारणाओं, विज्ञान के नेतृत्व वाले विचारों तथा नवीन प्रौद्योगिकी के परिणामों को संपूर्ण देवी में तेजी से अपनाने में सहायता करेगा।
  • मंथन प्लेटफॉर्म भविष्य के विज्ञान, नवाचार  एवं प्रौद्योगिकी के नेतृत्व वाले विकास के लिए एक रूपरेखा विकसित करने हेतु सूचना विनिमय सत्रों, प्रदर्शनियों तथा कार्यक्रमों के माध्यम से ज्ञान हस्तांतरण एवं अंतः क्रिया की सुविधा प्रदान करेगा।
  • मंथन हितधारकों के मध्य अंतः क्रिया में वृद्धि करने, अनुसंधान  तथा नवाचार की सुविधा प्रदान करने एवं विभिन्न उदीयमान प्रौद्योगिकियों तथा वैज्ञानिक अंतःक्षेपों में चुनौतियों को साझा करने हेतु सशक्त करेगा, जिसमें वे सभी सम्मिलित हैं जो सामाजिक प्रभाव डालते हैं।

मंथन प्लेटफॉर्म विमोचित _50.1

आज़ादी का अमृत महोत्सव (AKAM) के बारे में प्रमुख तथ्य

  • आजादी का अमृत महोत्सव के बारे में: आजादी का अमृत महोत्सव प्रगतिशील भारत के 75 वर्ष एवं इसके लोगों, संस्कृति तथा उपलब्धियों के गौरवशाली इतिहास का उत्सव मनाने एवं स्मरण करने की एक पहल है।
    • आजादी का अमृत महोत्सव भारत की सामाजिक-सांस्कृतिक, राजनीतिक  एवं आर्थिक पहचान के बारे में जो भी प्रगतिशील है, उसका मूर्त रूप है।
  • भारत के लोगों का उत्सव मनाना: आजादी का अमृत महोत्सव भारत के उन लोगों को समर्पित है, जिन्होंने भारत को उसकी विकास यात्रा में इस स्थान तक लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।
    • भारत के लोग भी आत्मनिर्भर भारत की भावना से प्रेरित होकर भारत 2.0 को सक्रिय करने के प्रधान मंत्री के दृष्टिकोण को सक्षम करने की शक्ति एवं क्षमता रखते हैं।
  • आजादी के अमृत महोत्सव का प्रारंभ: “आजादी का अमृत महोत्सव” की आधिकारिक यात्रा 12 मार्च 2021 को आरंभ हुई, जो हमारी आजादी की 75वीं वर्षगांठ के लिए 75-सप्ताह की उलटी गिनती को प्रारंभ करती है।
  • श्रेणीबद्ध करें: आजादी का अमृत महोत्सव को पांच श्रेणियों में मनाए जाने की कल्पना की गई है-
    • स्वतंत्रता संग्राम (फ्रीडम स्ट्रगल),
    • विचार (आइडिया) @ 75,
    • उपलब्धियां (अचीवमेंट्स ) @ 75,
    • कार्रवाई (एक्शन) @ 75 एवं
    • समाधान (रिसॉल्व) @75

 

पालन ​​1000 राष्ट्रीय अभियान एवं पेरेंटिंग ऐप इथेनॉल सम्मिश्रण को समझना बाल आधार पहल संपादकीय विश्लेषण- ए ट्रिस्ट विद द पास्ट
पोलियो वायरस: लंदन, न्यूयॉर्क और जेरूसलम में मिला  डिजी-यात्रा: इसके बारे में, कार्य एवं संबद्ध लाभ राष्ट्रीय बौद्धिक संपदा जागरूकता मिशन (एनआईपीएएम) 76 वें स्वतंत्रता दिवस पर लाल किले से प्रधानमंत्री का संबोधन 
संपादकीय विश्लेषण- ए  टाइमली जेस्चर रूस-तुर्की आर्थिक सहयोग- यूरोप के लिए सरोकार एशियन रीजनल फोरम मीट- चुनावी लोकतंत्र के लिए सम्मेलन उच्च शिक्षा का अंतर्राष्ट्रीयकरण 

 

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published.