UPSC Exam   »   How to Prepare for UPSC CSE Mains Examination: Step-by-Step Guide for Beginners   »   भारत-ऑस्ट्रेलिया 2+2 बैठक

भारत-ऑस्ट्रेलिया 2+2 बैठक

प्रासंगिकता

  • जीएस 2: द्विपक्षीय, क्षेत्रीय एवं वैश्विक समूह तथा भारत से संबद्ध एवं / या भारत के हितों को प्रभावित करने वाले समझौते।

 

प्रसंग

  • भारत एवं ऑस्ट्रेलिया के मध्य प्रथम बार 2-2 मंत्रिस्तरीय वार्ता वर्तमान में जारी है।

भारत-ऑस्ट्रेलिया 2+2 बैठक_40.1

यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी हेतु निशुल्क वीडियो प्राप्त कीजिए एवं आईएएस/ आईपीएस/ आईआरएस बनने के अपने सपने को साकार कीजिए

2+2 मंत्रिस्तरीय संवाद क्या है?

  • 2+2 मंत्रिस्तरीय दोनों देशों के मध्य सर्वोच्च स्तरीय संस्थागत तंत्र है।
  • वार्ता के इस प्रारूप में, रक्षा या विदेश मंत्री अथवा सचिव दूसरे देश के अपने समकक्षों से मिलते हैं।
  • भारत ने अतीत में जापान एवं अमेरिका के साथ ऐसी वार्ताएं की हैं। यह प्रथम बार है जब ऑस्ट्रेलिया के साथ 2+2 वार्ता आयोजित करने का निर्णय लिया गया है।
  • रूस के साथ वार्ता हेतु भी ऐसा ही निर्णय लिया गया था किंतु अभी तक किसी तिथि की घोषणा नहीं की गई है।

 

वर्तमान भारत-ऑस्ट्रेलिया संबंध

  • भारत एवं ऑस्ट्रेलिया के मध्य संबंध ऐतिहासिक उच्च स्तर पर हैं।
  • जून 2020 में, भारत के राष्ट्र प्रमुख एवं ऑस्ट्रेलिया के मध्य आभासी (वर्चुअल) शिखर सम्मेलन के दौरान, हमारे द्विपक्षीय संबंधों को ‘व्यापक रणनीतिक साझेदारी’ तक बढ़ा दिया गया था।
  • ऑस्ट्रेलिया क्वाड पहल के साथ-साथ इंडो-पैसिफिक में एक प्रमुख भागीदार है।
  • यह आसियान के नेतृत्व वाले मंचों के अतिरिक्त भारत-ऑस्ट्रेलिया-इंडोनेशिया एवं भारत-ऑस्ट्रेलिया-फ्रांस जैसे त्रिपक्षीय निर्माणों में भी भागीदार है।

अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (आईएईए)

  • विविध संधियाँ:
    • 2014 में हस्ताक्षरित, असैन्य परमाणु सहयोग समझौता
    • 2015 में  पारस्परिक हस्ताक्षरित, व्हाइट शिपिंग सूचना विनिमय पर तकनीकी समझौता
    • 2020 में, आपसी सुप्रचालनिकी (रसद) सहायता से संबंधित एक व्यवस्था पर सहमति हुई
    • औसइंडेक्स जैसे सैन्य अभ्यास एवं मालाबार जैसे बहुपक्षीय अभ्यास।
  • ऑस्ट्रेलिया एनएसजी सदस्यों के एक समान विचारधारा वाले एक छोटे समूह का सदस्य है, जो परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह में भारत के प्रवेश का निरंतर समर्थन करता रहा है।
  • कोविड के संदर्भ में, भारत, ऑस्ट्रेलिया एवं जापान ने आपूर्ति श्रृंखला में विविधता लाने तथा सुरक्षित करने हेतु एवं चीनी निर्भरता का मुकाबला करने के लिए आपूर्ति श्रृंखला लोचशीलता पहल (एससीआरआई) आरंभ की है।

 

ऑस्ट्रेलिया भारत के लिए क्यों महत्वपूर्ण है?

  • ऑस्ट्रेलिया संसाधनों का एक शक्ति केंद्र (पावर हाउस) है एवं इसमें अनेक प्रकार के महत्वपूर्ण खनिजों के वृहद भंडार हैं।
  • इसके अतिरिक्त, ऑस्ट्रेलिया भारतीय छात्रों के लिए एक प्रमुख शैक्षिक गंतव्य है, जिनकी संख्या वर्तमान में 100,000 से अधिक है।
  • हिंद महासागर में चीनी आधिपत्य से निपटने हेतु।

मालाबार अभ्यास

 

 

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *