Home   »   COVID19 Pandemic: Omicron variant EXPLAINED   »   कोविड- एक्सई वेरिएंट कितना खतरनाक है?

कोविड- एक्सई वेरिएंट कितना खतरनाक है?

कोविड एक्सई संस्करण यूपीएससी: प्रासंगिकता

  • जीएस 2: स्वास्थ्य, शिक्षा, मानव संसाधन से संबंधित सामाजिक क्षेत्र/सेवाओं के विकास एवं प्रबंधन से संबंधित मुद्दे।

कोविड- एक्सई वेरिएंट कितना खतरनाक है?_40.1

कोविड एक्सई वेरिएंट: संदर्भ

  • हाल ही में, मुंबई एवं गुजरात में एक्सई वेरिएंट नाम के कोरोना वायरस के एक नए संस्करण की खोज की गई, जहां व्यक्ति नए खोजे गए ‘एक्सई’ संस्करण से संक्रमित पाए गए।

 

COVID का एक्सई वेरिएंट क्या है?

  • एक्सई, कोविड-19 के ओमिक्रोन वेरिएंट का उप-संस्करण (सब-वेरिएंट) है।
  • COVID एक्सई संस्करण कोपुनर्योगज‘ (रिकंबाइनेंट) कहा जाता है।
    • इसका तात्पर्य है कि इसमें ओमिक्रॉन की 1 एवं साथ ही BA.2 किस्मों में पाए जाने वाले उत्परिवर्तन  सम्मिलित हैं।
    • तथा बीए.2 कोविड के दो प्रमुख उप-प्रकार हैं।
    • प्रारंभिक चरण के दौरान, बीए.1 उप-संस्करण सर्वाधिक व्यापक था। भारत में, यद्यपि, यह बीए.2 था जो तीसरी लहर के दौरान सर्वाधिक प्रभावशाली था। कोरोना वायरस के मध्य पुनर्योगज आम है तथा इसे एक अपेक्षित उत्परिवर्तनीय घटना माना जाता है।

 

क्या एक्सई वेरिएंट ओमिक्रोन से ज्यादा खतरनाक है?

  • अभी तक, हमारे पास यह दिखाने के लिए पर्याप्त साक्ष्य उपलब्ध नहीं हैं कि एक्सई संस्करण ओमिक्रॉन के अन्य संस्करणों से से काफी अलग है।
  • यह देखा गया है कि प्रभावशाली BA.2 संस्करण की तुलना में एक्सई संस्करण लगभग 10 प्रतिशत अधिक  संक्राम्य हो सकता है।
  • महत्वपूर्ण रूप से, एक्सई संस्करण का प्रथम बार तीन माह पूर्व पता चला था एवं अब तक एक्सई संस्करण की घटनाओं में कोई उल्लेखनीय वृद्धि नहीं देखी गई है। अतः, यह निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि वर्तमान में एक्सई संस्करण कोई गंभीर चिंता का विषय नहीं है
  • ओमिक्रॉन के अन्य संस्करणों की तुलना में एक्सई वेरिएंट में रोगों के अधिक गंभीर रूप का कारण नहीं पाया गया है।

 

एक्सई संस्करण भारत

  • मुंबई में खोजे गए एक्सई संस्करण को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शीघ्र पलट दिया, जिसमें कहा गया था कि संस्करण की पुष्टि होना अभी शेष है
  • यद्यपि, यह आश्चर्यजनक नहीं होगा यदि एक्सई संस्करण वास्तव में भारत में पाया जाता है क्योंकि अधिकांश यात्रा प्रतिबंध हटा दिए गए हैं।
  • इसके अतिरिक्त, यह भी संभव है कि एक्सई वेरिएंट पहले से ही भारतीय आबादी में संचरण कर रहा हो,   किंतु अभी इसका पता नहीं चल पाया है।
  • अभी तक, यह ओमिक्रॉन संस्करण से बहुत अलग नहीं है एवं एक्सई संस्करण से भारतीय आबादी के लिए खतरा अभी काफी कम है।

कोविड- एक्सई वेरिएंट कितना खतरनाक है?_50.1

एक्सई वेरिएंट भारतीयों को कैसे प्रभावित करेगा

  • चूंकि वायरस का पूरी तरह से सफाया नहीं हुआ है, इसलिए ताजा लहर की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता है।
  • यद्यपि, एक वायरस के लिए एक नई लहर  उत्पन्न करने हेतु, इसे या तो बहुत अधिक संक्राम्य होना चाहिए, मानव द्वारा पूर्व संक्रमण से प्राप्त प्रतिरक्षा को बायपास करने के लिए विशेष क्षमताएं होनी चाहिए अथवा अधिक गंभीर रोगों का कारण बनना चाहिए, जो निकट अवधि में असंभव प्रतीत होता है
  • भारतीय आबादी का 50% ओमिक्रॉन संस्करण से संक्रमित हो गया है एवं उस संक्रमण से प्राप्त प्रतिरक्षा अभी भी प्रभावी होने की संभावना है।

 

एक्सई संस्करण: निष्कर्ष

  • निकट भविष्य में एक नई लहर, यदि आती है, तो सर्वाधिक संभावना एक नए संस्करण के कारण  घटित होगी जो ओमिक्रॉन संस्करण की विशेषताओं में बहुत अधिक समान नहीं है।

 

भारत-अमेरिका 2+ 2 संवाद 2022 माधवपुर मेला सॉलिड फ्यूल डक्टेड रैमजेट टेक्नोलॉजी वैश्विक पवन रिपोर्ट 2022
अवसर योजना संपादकीय विश्लेषण- वास्तुकला हेतु सबसे उचित अवसर आरबीआई ने डिजिटल बैंकिंग इकाइयों की स्थापना के लिए दिशानिर्देश जारी किए लक्ष्य जीरो डंपसाइट | एसबीएम-शहरी 2.0
बिरसा मुंडा | बिरसा मुंडा-जनजातीय नायक पुस्तक का विमोचन कैबिनेट ने प्रबलीकृत चावल के वितरण को स्वीकृति प्रदान की संपादकीय विश्लेषण: रूस के लिए एक संदेश जलवायु परिवर्तन में वनों की आग का नियंत्रण 
Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.