UPSC Exam   »   Scheme for Promotion of Culture of...

विज्ञान की संस्कृति के प्रोत्साहन हेतु योजना (एसपीओसीएस) 

विज्ञान की संस्कृति को बढ़ावा देने की योजना- यूपीएससी परीक्षा के लिए प्रासंगिकता

  • जीएस पेपर 1: भारतीय इतिहास- भारतीय संस्कृति प्राचीन से आधुनिक समय तक कला रूपों, साहित्य  एवं वास्तुकला के प्रमुख पहलुओं को समाहित करेगी।

विज्ञान की संस्कृति के प्रोत्साहन हेतु योजना (एसपीओसीएस) _40.1

विज्ञान की संस्कृति के प्रोत्साहन हेतु योजना- संदर्भ

  • विज्ञान की संस्कृति के प्रोत्साहन हेतु योजना (एसपीओसीएस) के अंतर्गत, राष्ट्रीय विज्ञान संग्रहालय परिषद (एनसीएसएम) ने संपूर्ण देश में विज्ञान शहरों / विज्ञान केंद्रों / नवाचार केंद्रों की एक श्रृंखला विकसित की है।
    • राष्ट्रीय विज्ञान संग्रहालय परिषद (एनसीएसएम) संस्कृति मंत्रालय, भारत सरकार के अंतर्गत एक स्वायत्त संगठन है।

विज्ञान की संस्कृति को बढ़ावा देने की योजना- प्रमुख बिंदु

  • विज्ञान की संस्कृति के प्रोत्साहन हेतु योजना के बारे में: विज्ञान की संस्कृति को बढ़ावा देने की योजना एक ऐसी योजना है जो देश के समस्त राज्यों में विज्ञान शहरों  तथा विज्ञान केंद्रों की स्थापना हेतु प्रावधान करती है, पर्याप्त धन उपलब्धता सुनिश्चित करती है।
  • कार्यान्वयन एजेंसी: राष्ट्रीय विज्ञान संग्रहालय परिषद (एनसीएसएम), संस्कृति मंत्रालय के तहत एक स्वायत्त संगठन को, विज्ञान की संस्कृति को बढ़ावा देने हेतु योजना के कार्यान्वयन का दायित्व सौंपा गया है।
  • पात्रता: सभी राज्य/केंद्र शासित प्रदेश इसके लाभों की प्राप्ति हेतु पात्र हैं।
    • वित्त पोषण हेतु पात्रता: राज्य सरकारें/केंद्र शासित प्रदेश एवं राज्य/केंद्र शासित प्रदेशों की सरकारों द्वारा साइंस सिटी/साइंस सेंटर/इनोवेशन हब के उद्देश्य से प्रवर्तित सोसायटी/प्राधिकरण मानदंडों के अनुसार भारत सरकार से वित्तीय सहायता हेतु पात्र होंगे।
    • पूर्व-शर्तें: परियोजनाओं को देयता भार-मुक्त भूमि, परियोजना की लागत (पूंजी तथा कोष), परिचालन, जनशक्ति  एवं परियोजना के प्रबंधन इत्यादि की प्रतिबद्धताओं के साथ राज्य-सरकार / केंद्र शासित प्रदेशों से प्रस्ताव प्राप्त होने पर स्वीकृत किया जाता है।
  • प्रमुख घटक: विज्ञान की संस्कृति को बढ़ावा देने की योजना के तीन प्रमुख घटक हैं-
    • साइंस सिटी:
    • विज्ञान केंद्र
    • नवाचार केंद्र

यूपीएससी एवं राज्य लोक सेवा आयोगों की परीक्षाओं हेतु नि शुल्क अध्ययन सामग्री प्राप्त करें

विज्ञान की संस्कृति को बढ़ावा देने हेतु योजना- प्रमुख बिंदु 

  • साइंस सिटी: यह अन्वेषण की भावना सृजित करने, रचनात्मक प्रतिभा को बढ़ावा देने तथा संपूर्ण समुदाय में वैज्ञानिक मनोभाव उत्पन्न करने हेतु एक प्रयोग-आधारित ‘इमर्सिव लर्निंग’ वातावरण प्रदान करता है।
    • साइंस सिटी का उद्देश्य  किसी स्थान का एक लोकप्रिय पर्यटक आकर्षण केंद्र के रूप में होना है।
    • विज्ञान  एवं प्रौद्योगिकी तथा शिक्षा के अग्रणी क्षेत्रों पर ध्यान देने के साथ विज्ञान शहर आयाम में वृहद तथा आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर होगा।
    • विज्ञान नगर की संकल्पना इस प्रकार की जाएगी कि यह छात्रों, परिवारों, पर्यटकों तथा आम जनता के लिए आकर्षक एवं उपयोगी हो।
    • साइंस सिटी अपनी प्रस्तुति में अत्याधुनिक संचार उपकरणों तथा प्रौद्योगिकी का उपयोग करेगा।
  • विज्ञान केंद्र: एक विज्ञान केंद्र एक व्यावहारिक व क्रियाशील दृष्टिकोण अपनाते हुए विज्ञान करने का दायरा प्रदान करता है जिसके लिए यह आगंतुक को अनेक प्रयोगात्मक विकल्प प्रदान करता है जिसके माध्यम से वे स्वयं, वैज्ञानिक अवधारणा की खोज कर सकते हैं।
  • नवाचार केंद्र/इनोवेशन हब: इनोवेशन हब वर्तमान विज्ञान नगरों / विज्ञान केंद्रों, विज्ञान संग्रहालयों  तथा गैर-औपचारिक शैक्षणिक संस्थानों में सह- अवस्थित होंगे जो रचनात्मकता को बढ़ावा देते हों तथा नवाचारों को प्रेरित करते हों।
    • इनोवेशन हब नवीन विचारों तथा नवाचार के लिए आगे बढ़ने की प्रेरणा (स्प्रिंगबोर्ड) के रूप में कार्य करेगा  एवं इस प्रकार समाज तथा अर्थव्यवस्था को भविष्य की चुनौतियों का सामना करने एवं बढ़ती जनसंख्या की बढ़ती आकांक्षाओं को पूर्ण करने में सहायता करेगा।

 

विज्ञान की संस्कृति के प्रोत्साहन हेतु योजना- विज्ञान नगर / विज्ञान केंद्र के उद्देश्य

  • विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के विकास  तथा उद्योग एवं मानव कल्याण में उनके अनुप्रयोग को चित्रित करने  हेतु, वैज्ञानिक दृष्टिकोण तथा मनोभाव विकसित करने एवं व्यक्तियों के मध्य एक सामान्य जागरूकता  उत्पन्न करने, विकसित करने एवं बनाए रखने  हेतु;
  • जागरूकता उत्पन्न करने तथा विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी की प्रक्रिया में जनता की समझ, प्रशंसा तथा जुड़ाव  में वृद्धि करने हेतु;
  • प्रदर्शनियों, सेमिनारों, लोकप्रिय व्याख्यानों, विज्ञान शिविरों तथा विभिन्न अन्य कार्यक्रमों के आयोजन द्वारा छात्रों के लाभ के लिए एवं उस क्षेत्र के आम आदमी के लिए विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी को लोकप्रिय बनाने  हेतु,
  • स्कूलों एवं कॉलेजों में दी जाने वाली विज्ञान की शिक्षा  का अनुपूरक होना तथा छात्रों में वैज्ञानिक जांच  एवं रचनात्मकता की भावना को  प्रोत्साहन देने हेतु विद्यालय के बाहर विभिन्न शैक्षिक गतिविधियों का आयोजन करना;
  • विज्ञान की शिक्षा एवं विज्ञान को लोकप्रिय बनाने हेतु विज्ञान संग्रहालय प्रदर्शनी, प्रदर्शन उपकरण  तथा वैज्ञानिक शिक्षण सहायक सामग्री का डिजाइन, विकास एवं निर्माण करना;
  • विज्ञान, प्रौद्योगिकी  एवं उद्योग के विशिष्ट विषयों पर विज्ञान शिक्षकों, छात्रों/युवा उद्यमियों/तकनीशियनों/शारीरिक रूप से अक्षम/गृहिणियों तथा अन्य के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित करना।

विज्ञान की संस्कृति के प्रोत्साहन हेतु योजना (एसपीओसीएस) _50.1

विज्ञान की संस्कृति को प्रोत्साहन देने  हेतु योजना- नवाचार केंद्रों के उद्देश्य

  • छोटे बच्चों द्वारा नवाचारों को प्रेरित करने हेतु वर्तमान विज्ञान नगरों/विज्ञान केंद्रों/संस्थानों की गतिविधियों को सुसज्जित एवं सुदृढ़ करना;
  • देश के विभिन्न हिस्सों में विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में और अधिक संख्या में  नवाचार केंद्रों के निर्माण को उत्प्रेरित करना;
  • छोटे बच्चों के रचनात्मक तथा नवीन विचारों को पोषित करने हेतु एक उपयुक्त वातावरण प्रदान करना।

 

 

केंद्रीय बजट 2022-23: सार्वजनिक निवेश प्रेरित विकास पर एक साहसिक प्रयास एशियन इंफ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट बैंक (एआईआईबी) कॉरपोरेट सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी: कॉरपोरेट इंडिया के लिए नया सीएसआर अधिदेश इसरो का पीएसएलवी-सी52/ईओएस-04 मिशन 
संपादकीय विश्लेषण: भारत के भू-स्थानिक क्षेत्र की क्षमता पर ज़ूमिंग कृषि उत्पाद विपणन समितियाँ (एपीएमसी): इतिहास, लाभ, चुनौतियां, मॉडल एपीएमसी अधिनियम  स्माइल योजना | विपरीतलिंगी तथा भि़क्षुक समुदाय के लिए एक योजना संपादकीय विश्लेषण- इंडियाज सेमीकंडक्टर ड्रीम
पंडित दीनदयाल उपाध्याय मिश्रित वित्त के माध्यम से भारत में स्वास्थ्य सेवा की पुनर्कल्पना मशीन टू मशीन संचार (एम2एम) क्षेत्र || व्याख्यायित|| मृदा संस्तर की विभिन्न परतें

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published.