Home   »   POSHAN Abhiyaan   »   POSHAN Abhiyaan

पोषण अभियान 2022 के तहत पोषण माह 2022 आयोजित 

पोषण माह 2022- यूपीएससी परीक्षा के लिए प्रासंगिकता

  • जीएस पेपर 2: शासन, प्रशासन एवं चुनौतियां
    • विभिन्न क्षेत्रों में विकास के लिए सरकारी नीतियां एवं अंतः क्षेप तथा उनकी अभिकल्पना एवं कार्यान्वयन से उत्पन्न होने वाले मुद्दे।

पोषण अभियान 2022 के तहत पोषण माह 2022 आयोजित  -_3.1

पोषण माह 2022 चर्चा में क्यों है?

  • महिला एवं बाल विकास मंत्रालय राष्ट्रीय पोषण माह 2022 का 5वां संस्करण मना रहा है।
  • राष्ट्रीय पोषण माह विगत पांच वर्षों से सितंबर के महीने में प्रतिवर्ष मनाया जाता है।

 

राष्ट्रीय पोषण माह 2022

  • पृष्ठभूमि: समग्र पोषण (पोषण) अभियान अथवा ​​​​राष्ट्रीय पोषण मिशन के लिए प्रधानमंत्री की सर्व समावेशी योजना 2018 में प्रारंभ की गई थी।
    • 6 वर्ष से कम आयु के बच्चों, गर्भवती महिलाओं, स्तनपान कराने वाली माताओं एवं किशोरियों को अच्छा पोषण प्रदान करने के उद्देश्य से पोषण अभियान प्रारंभ किया गया था।
    • 2018 से, जागरूकता उत्पन्न करने एवं महिलाओं तथा बाल स्वास्थ्य देखभाल को प्रोत्साहित करने हेतु सितंबर के महीने को पोषण माह के रूप में मनाया जाता है।
  • राष्ट्रीय पोषण माह 2022 के बारे में: पोषण माह 2022 उन प्रथाओं को विकसित करने के लिए मनाया जाता है जो स्वास्थ्य, आरोग्य एवं रोग प्रतिरोधक क्षमता का पोषण करते हैं एवं साथ ही राष्ट्र में कुपोषण के  संकट को समाप्त करते हैं।
  • अधिदेश: इसका उद्देश्य ग्राम पंचायतों के सहयोग से जमीनी स्तर पर पहुंच कर पोषण माह को सक्रिय करना है।
  • थीम: राष्ट्रीय पोषण माह 2022 की थीम “महिला एवं स्वास्थ्य” (वुमन एंड हेल्थ) तथा “बच्चा एवं शिक्षा” ( चाइल्ड एंड एजुकेशन) है।

 

पोषण माह 2022- प्रमुख क्रियाकलाप

  • वर्षा जल संचयन के महत्व पर भी ध्यान दिया जाएगा एवं आंगनबाड़ी केंद्रों पर महिलाओं को शिक्षित किया जाएगा।
  • जनजातीय (आदिवासी) क्षेत्रों में स्वस्थ माताओं एवं बच्चों के लिए पारंपरिक खाद्य पदार्थों से संबंधित जानकारी प्रदान की जाएगी।
  • पारंपरिक पौष्टिक व्यंजनों को महत्व देने वाली गतिविधि ‘अम्मा की रसोई’ भी आयोजित की जाएगी।
  • पोषण माह के दौरान स्थानीय त्योहारों के साथ उन्हें एकीकृत करके पारंपरिक खाद्य पदार्थों को प्रोत्साहित किया जाएगा।
  • आंगनबाड़ी केंद्रों में बच्चों को पढ़ाने के लिए देशी एवं स्थानीय खिलौनों के प्रयोग को प्रोत्साहित करने हेतु राष्ट्रीय स्तर पर खिलौना निर्माण कार्यशालाएं भी आयोजित की जाएंगी।

 

पोषण अभियान 2022

  • पोषण अभियान कुपोषण के जीवन चक्र के मुद्दों को हल करने हेतु एक कार्यक्रमिक (प्रोग्रामेटिक) दृष्टिकोण है।
    • प्रमुख मंत्रालयों/विभागों, मुख्य रूप से स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय (मिनिस्ट्री ऑफ हेल्थ एंड फैमिली वेलफेयर/MoH&FW) के साथ अभिसरण में रक्ताल्पता (एनीमिया) को कम करना पोषण अभियान के महत्वपूर्ण उद्देश्यों में से एक है।
    • विभिन्न रणनीतिक उपायों के माध्यम से वर्तमान स्वास्थ्य प्लेटफार्मों में पोषण संबंधी अंतःक्षेपों के एकीकरण में सुधार हेतु अनेक प्रयास जारी हैं।
  • पोषण अभियान के तहत निम्नलिखित हेतु भी प्रयास किए जा रहे हैं-
    • सामुदायिक जुड़ाव के लिए प्रक्रियाओं को सशक्त बनाना,
    • लाभार्थियों का सशक्तिकरण  एवं
    • बेहतर पोषण की दिशा में व्यवहार परिवर्तन जिसके लिए अभियान आंगनबाड़ी केंद्रों में समुदाय आधारित कार्यक्रम (कम्युनिटी बेस्ड इवेंटस/सीबीई) आयोजित करने के लिए एक मंच प्रदान करता है।
  • समुदाय आधारित कार्यक्रमों के तहत पोषण में सुधार एवं रोगों को कम करने, रक्ताल्पता की रोकथाम, पौष्टिक भोजन का महत्व, आहार विविधता इत्यादि के लिए जन स्वास्थ्य से संबंधित संदेश आयोजित किए जा रहे हैं।
  • अनेक राज्यों/संघ राज्य क्षेत्रों ने लौह की कमी को कम करने के लिए भोजन पकाने के लिए लोहे के बर्तनों का उपयोग, पूरक पोषण के साथ आयुर्वेद उत्पादों एवं योगों को एकीकृत करने जैसी स्वदेशी सर्वोत्तम प्रथाओं का विकास किया है।

 

स्वच्छ वायु सर्वेक्षण- एनसीएपी के तहत शहरों की रैंकिंग स्वच्छ अमृत महोत्सव के तहत स्वच्छ टॉयकैथॉन पूर्वोत्तर भारत में पर्यटन क्षेत्र को प्रोत्साहित करने हेतु ‘सिम्फनी’ (‘SymphoNE’) सम्मेलन नई विदेश व्यापार नीति
मृत्यु दंड नाविक (NavIC)- भारतीय नक्षत्र के साथ नेविगेशन  रॉटरडैम अभिसमय  भारत-यूएई सीईपीए का भारत-यूएई व्यापार पर प्रभाव
द्वेष वाक् (हेट स्पीच) धारावी पुनर्विकास परियोजना पोषण वाटिका या पोषक- उद्यान संपूर्ण देश में स्थापित किए जा रहे हैं डेफएक्सपो 2022

Sharing is caring!

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *