UPSC Exam   »   लैंगिक भूमिकाओं पर प्यू स्टडी |...

लैंगिक भूमिकाओं पर प्यू स्टडी | 10 में से 9 भारतीय सोचते हैं कि पत्नी को सदैव पति का आज्ञापालन करना चाहिए

लैंगिक भूमिकाओं पर अध्ययन- यूपीएससी परीक्षा के लिए प्रासंगिकता

  • जीएस पेपर 2: भारतीय समाज की मुख्य विशेषताएं- भारतीय समाज में महिलाएं।

लैंगिक भूमिकाओं पर प्यू स्टडी | 10 में से 9 भारतीय सोचते हैं कि पत्नी को सदैव पति का आज्ञापालन करना चाहिए_40.1

लैंगिक भूमिकाओं पर Pew स्टडी- पृष्ठभूमि 

  • समकालीन भारतीय समाज में महिलाओं की स्थिति पर प्रकाश डालते हुए, हाल ही में “भारतीय परिवारों एवं समाज में लैंगिक भूमिकाओं को कैसे देखते हैं” शीर्षक से लैंगिक भूमिकाओं पर एक प्यू अध्ययन जारी किया गया था।
  • प्यू अध्ययन के निष्कर्ष नवंबर 2019 से मार्च 2020 तक किए गए 29,999 भारतीय वयस्कों के सर्वेक्षण पर आधारित हैं।
  • अध्ययन में पाया गया कि विभिन्न ऐतिहासिक, सामाजिक, धार्मिक एवं आर्थिक कारणों से परिवार पुत्रियों के स्थान पर पुत्रों को अधिक महत्व देते हैं।

 

लैंगिक भूमिकाओं पर Pew अध्ययन- मुख्य निष्कर्ष

  • महिलाओं के लिए पारंपरिक लैंगिक भूमिकाओं का पक्ष लें: अध्ययन में पाया गया कि, जबकि भारतीय महिलाओं को राजनीतिक नेतृत्व के रूप में स्वीकार करते हैं, वे ज्यादातर पारिवारिक जीवन में पारंपरिक  लैंगिक भूमिकाओं का पक्ष लेते हैं।
    • जबकि 55% भारतीयों का मानना ​​​​था कि पुरुष  एवं महिलाएं समान रूप से अच्छे राजनीतिक नेता हैं, “दस में से नौ भारतीय इस धारणा से सहमत हैं कि एक पत्नी को सदैव अपने पति का आज्ञा पालन करना चाहिए”।
    • भारतीय पुरुषों की तुलना में भारतीय महिलाओं की इस भावना से सहमत होने की संभावना थोड़ी ही कम थी (61% बनाम 67%)।
  • शिशु देखभाल पर:  यद्यपि अधिकांश भारतीयों ने लैंगिक भूमिकाओं पर समतावादी विचार व्यक्त किए,  जिसमें 62% ने कहा कि शिशु देखभाल के लिए पुरुषों एवं महिलाओं दोनों को जिम्मेदार होना चाहिए।
    • यद्यपि, पारंपरिक मानदंडों का अभी भी प्रभुत्व था, 34% ने दृढ़ मत प्रकट किया किया कि शिशु देखभाल “मुख्य रूप से महिलाओं द्वारा संभाला जाना चाहिए”।
  • कमाई की भूमिकाओं पर: 54% उत्तरदाताओं का कहना है कि पुरुषों एवं महिलाओं दोनों को पैसा कमाने के लिए जिम्मेदार होना चाहिए।
    • दूसरी ओर, लगभग 43% का मानना ​​था कि आय अर्जित करना मुख्य रूप से पुरुषों का दायित्व है।
    • 80% भारतीय इस विचार से सहमत थे कि जब नौकरियां कम हों, तो पुरुषों को महिलाओं की तुलना में नौकरी पर अधिक अधिकार प्राप्त होने चाहिए।
  • पुत्र वरीयता: जबकि भारतीय, पुत्रों तथा पुत्रियों दोनों को महत्व देते हैं, लगभग 94% ने कहा कि परिवार के लिए कम से कम एक पुत्र होना अत्यंत आवश्यक है, तदनुरूपी जिसमें पुत्रियों के लिए यह आंकड़ा 90% है।
  • विरासत अधिकारों पर: लगभग 64% भारतीयों ने यह भी कहा कि पुत्रों तथा पुत्रियों को माता-पिता से विरासत में समान अधिकार मिलने चाहिए।
  • माता-पिता की देखभाल पर: जबकि चार में से दस वयस्कों ने कहा कि वृद्ध माता-पिता की देखभाल करने का प्राथमिक उत्तरदायित्व पुत्रों का होना चाहिए,  मात्र 2% ने पुत्रियों के बारे में समान बात कही।
  • लिंग-चयनात्मक गर्भपात पर: 40% भारतीयों ने “कम से कम कुछ परिस्थितियों में लिंग-चयनात्मक गर्भपात को स्वीकार्य माना”।
  • यद्यपि, 42% ने इस प्रथा को “पूर्ण रूप से अस्वीकार्य” पाया।

लैंगिक भूमिकाओं पर प्यू स्टडी | 10 में से 9 भारतीय सोचते हैं कि पत्नी को सदैव पति का आज्ञापालन करना चाहिए_50.1

 लैंगिक भूमिकाओं पर Pew अध्ययन-

  • लैंगिक समानता पर: 70% के वैश्विक औसत ने कहा कि महिलाओं के लिए पुरुषों के समान अधिकार होना अत्यंत महत्वपूर्ण था।
    • इसी तरह भारत में 72% भारतीय मानते हैं कि लैंगिक समानता अत्यधिक महत्वपूर्ण है।
  • उत्तरी अमेरिका (92% औसत), पश्चिमी यूरोप (90%), एवं लैटिन अमेरिका (82%) के लोगों की तुलना में भारतीयों में लैंगिक समानता पर उच्च आदर्श रखने की संभावना कम थी।
  • उप-सहारा अफ्रीका (48% औसत)  एवं मध्य-पूर्व-उत्तरी अफ्रीका क्षेत्र (44%) की तुलना में उनके ऐसा करने की अधिक संभावना थी।
    • दक्षिण एशिया में, भारतीयों में पाकिस्तानियों (72% से 64%) की तुलना में लैंगिक समानता का पक्ष लेने की अधिक संभावना थी।
  • कॉलेज की डिग्री वाले भारतीयों में लैंगिक भूमिकाओं पर पारंपरिक विचार रखने की संभावना कम थी, यद्यपि यह सभी लिंग-संबंधी मुद्दों तक विस्तारित नहीं था।

 

द्वितीय आंग्ल-मराठा युद्ध भारत में जनसांख्यिकीय लाभांश के उपयोग मार्केट इंफ्रास्ट्रक्चर इंस्टीट्यूशंस संपादकीय विश्लेषण- ए कॉशनरी टेल
द्विपक्षीय विनिमय व्यवस्था राष्ट्रीय स्टार्टअप पुरस्कार 2022 जलवायु परिवर्तन 2022: आईपीसीसी की छठी आकलन रिपोर्ट प्रथम आंग्ल-मराठा युद्ध
भारत में आतंकवाद: प्रभाव तथा सरकार द्वारा उठाए गए कदम संपादकीय विश्लेषण: साइबर हमलों की रिपोर्टिंग  रूस यूक्रेन युद्ध पर यूएनजीए की बैठक  वेनेरा डी मिशन: रूस ने अमेरिकी भागीदारी को निलंबित किया 

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published.