Home   »   Jal Jeevan Mission

जल जीवन मिशन | 2024 तक हर घर जल

जल जीवन मिशन- यूपीएससी परीक्षा के लिए प्रासंगिकता

  • जीएस पेपर 2: शासन, प्रशासन एवं चुनौतियां– विभिन्न क्षेत्रों में विकास के लिए सरकार की नीतियां  एवं अंतः क्षेप तथा उनकी अभिकल्पना एवं कार्यान्वयन से उत्पन्न होने वाले मुद्दे।

 

जल जीवन मिशन सुर्ख़ियों में

  • हाल ही में एक वेबिनार को संबोधित करते हुए, प्रधानमंत्री ने 2024 तक जल जीवन मिशन के अंतर्गत ‘हर घर जल’  के लक्ष्य को प्राप्त करने हेतु प्रौद्योगिकी, सेवा वितरण एवं सामुदायिक भागीदारी के उपयोग पर  बल दिया।
  • जल जीवन मिशन के अंतर्गत ‘हर घर जल’ का लक्ष्य इस वर्ष ग्रामीण घरों में लगभग 4 करोड़ नल के जल के कनेक्शन उपलब्ध कराना है।

यूपीएससी एवं राज्य पीसीएस परीक्षाओं के लिए  निशुल्क अध्ययन सामग्री प्राप्त करें

केंद्रीय बजट 2022 में जल जीवन मिशन के लिए कितना आवंटन किया गया है?

  • जल जीवन मिशन के अंतर्गत ‘हर घर जल’ के लिए केंद्रीय बजट 2022 के तहत चालू वित्त वर्ष में 60,000 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं।

 

जल जीवन मिशन की उपलब्धियां

  • समग्र आच्छादन: हर घर जल योजना के प्रभावी कार्यान्वयन के कारण, भारत अपनी 50% आबादी को नल के जल के कनेक्शन प्रदान करने के करीब है। 100 जिले, 1,144 प्रखंड, 66,763-ग्राम पंचायत  एवं 1,37,940 गांव ‘हर घर जल’ युक्त बन गए हैं।
    • 100% आच्छादन वाले राज्य एवं केंद्र शासित प्रदेश: तीन राज्यों- गोवा, तेलंगाना  तथा हरियाणा  एवं तीन केंद्र शासित प्रदेशों- अंडमान तथा निकोबार द्वीप समूह,  दादर एवं नगर हवेली तथा दमन एवं दीव और पुडुचेरी ने 100% नल जल आच्छादन प्रदान किया है।
  • अन्य प्रमुख राज्य: अन्य राज्य तेजी से आगे बढ़ रहे हैं  एवं शीघ्र ही 100% आच्छादन प्राप्त करने के करीब हैं। इनमें से पंजाब 99%, हिमाचल प्रदेश 93%, गुजरात 92% तथा बिहार 90% पर है।

 

जल जीवन मिशन का विजन क्या है

  • जल जीवन मिशन (जेजेएम) का उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि प्रत्येक ग्रामीण परिवार को नियमित  एक दीर्घकालिक आधार पर निर्धारित गुणवत्ता की पर्याप्त मात्रा में पेयजल आपूर्ति वहनीय सेवा वितरण शुल्क पर उपलब्ध हो।
    • गुणवत्तापूर्ण पेयजल तक वहनीय पहुंच से ग्रामीण समुदायों के जीवन स्तर में सुधार होगा।

जल जीवन मिशन | 2024 तक हर घर जल_40.1

जल जीवन मिशन (हर घर जल)

  • नल के जल तक पहुंच: जेजेएम का लक्ष्य प्रत्येक ग्रामीण परिवार को एफएचटीसी प्रदान करना है।
  • लक्षित दृष्टिकोण: जल जीवन मिशन गुणवत्ता प्रभावित क्षेत्रों, सूखाग्रस्त एवं मरुस्थलीय क्षेत्रों के गांवों, सांसद आदर्श ग्राम योजना (एसएजीवाई) गांवों इत्यादि में एफएचटीसी की उपलब्धता को प्राथमिकता देता है।
  • सार्वजनिक स्थलों पर नल के जल तक पहुंच: जेजेएम का उद्देश्य विद्यालयों, आंगनबाड़ी केंद्रों, जीपी भवनों, स्वास्थ्य केंद्रों, कल्याण केंद्रों एवं सामुदायिक भवनों को कार्यात्मक नल कनेक्शन प्रदान करना है।
  • अनुश्रवण: जल जीवन मिशन नल कनेक्शन की कार्यक्षमता के अनुश्रवण हेतु भी प्रावधान करता है।
  • स्थानीय स्वामित्व: जेजेएम नकद, वस्तु एवं/या श्रम तथा स्वैच्छिक श्रम (श्रमदान) में योगदान के माध्यम से स्थानीय समुदाय के मध्य स्वैच्छिक स्वामित्व को प्रोत्साहित करता है एवं सुनिश्चित करता है।
  • जल प्रणाली की धारणीयता सुनिश्चित करना: जेजेएम जल आपूर्ति प्रणाली, अर्थात जल स्रोत, जल आपूर्ति बुनियादी ढांचे एवं नियमित ओ एंड एम के लिए धन की स्थिरता सुनिश्चित करने में भी सहायता करता है।
  • मानव संसाधन विकास: जेजेएम के पास इस क्षेत्र में मानव संसाधनों को सशक्त बनाने तथा विकसित करने के प्रावधान हैं जैसे कि निर्माण, नलसाजी, विद्युत, जल गुणवत्ता प्रबंधन, जल उपचार, जलग्रहण संरक्षण, ओ एंड एम, इत्यादि की मांगों को अल्प एवं दीर्घ अवधि में पूरा किया जाता है।
  • जागरूकता सृजित करना: जेजेएम का उद्देश्य विभिन्न पहलुओं एवं सुरक्षित पेयजल के महत्व  तथा हितधारकों की भागीदारी के बारे में जागरूकता लाना है जिससे  जल हर किसी का सरोकार बन जाए।

 

मिलन 2022 एनुअल फ्रंटियर रिपोर्ट 2022 वित्तीय स्थिरता एवं विकास परिषद ड्राफ्ट इंडिया डेटा एक्सेसिबिलिटी एंड यूज पॉलिसी 2022
युवा गणितज्ञों के लिए रामानुजन पुरस्कार संपादकीय विश्लेषण- रूसी मान्यता सीमा अवसंरचना एवं प्रबंधन योजना रूस-यूक्रेन संघर्ष पर भारत का रुख
पर्यावरणीय प्रभाव आकलन सिंथेटिक बायोलॉजी पर नीति विज्ञान सर्वत्र पूज्यते | धारा- भारतीय ज्ञान प्रणाली के लिए एक संबोधन गीत अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस | अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस 2022

Sharing is caring!