UPSC Exam   »   India-Mauritius Relations   »   India-Mauritius CECPA

भारत-मॉरीशस सीईसीपीए

भारत-मॉरीशस सीईसीपीए- यूपीएससी परीक्षा के लिए प्रासंगिकता

  • जीएस पेपर 2: अंतर्राष्ट्रीय संबंध- द्विपक्षीय, क्षेत्रीय  एवं वैश्विक समूह तथा भारत से जुड़े एवं/या भारत के हितों को प्रभावित करने वाले समझौते।

भारत-मॉरीशस सीईसीपीए_40.1

भारत-मॉरीशस सीईसीपीए चर्चा में क्यों है?

  • भारत एवं मॉरीशस ने नई दिल्ली में भारत-मॉरीशस उच्चाधिकार प्राप्त संयुक्त व्यापार समिति का पहला सत्र आयोजित किया।
  • भारत-मॉरीशस व्यापक आर्थिक सहयोग एवं साझेदारी समझौते (कंप्रिहेंसिव इकोनॉमिक कोऑपरेशन एंड पार्टनरशिप एग्रीमेंट/सीईसीपीए) के अधिदेश के अनुसार भारत-मॉरीशस उच्च-शक्ति युक्त संयुक्त व्यापार समिति का गठन किया गया था।
  • भारत-मॉरीशस उच्चाधिकार प्राप्त संयुक्त व्यापार समिति (ज्वाइंट  ट्रेड कमिटी/जेटीसी) की स्थापना भारत-मॉरीशस सीईसीपीए के सामान्य कार्यकरण एवं कार्यान्वयन की समीक्षा के लिए की गई थी।
  • दोनों पक्ष 2023 में भारत-मॉरीशस उच्चाधिकार प्राप्त संयुक्त व्यापार समिति बैठक का अगला सत्र आयोजित करने पर सहमत हुए।

 

भारत-मॉरीशस सीईसीपीए

  • भारत-मॉरीशस सीईसीपीए के बारे में: भारत-मॉरीशस सीईसीपीए दोनों देशों के मध्य व्यापार को प्रोत्साहित करने एवं सुधारने हेतु एक संस्थागत तंत्र का प्रावधान करता है।
    • भारत-मॉरीशस सीईसीपीए 1 अप्रैल, 2021 को प्रवर्तन में आया।
    • सीईसीपीए अफ्रीका में किसी देश के साथ भारत द्वारा हस्ताक्षरित प्रथम व्यापार समझौता है।
  • समझौते का विस्तार क्षेत्र: भारत-मॉरीशस सीईसीपीए समझौता एक सीमित समझौता है, जिसमें सम्मिलित होंगे-
    • वस्तुओं का व्यापार,
    • उत्पत्ति के नियम,
    • सेवाओं में व्यापार,
    • व्यापार के लिए तकनीकी बाधाएं ( टेक्निकल बैरियर्स टू ट्रेड/टीबीटी),
    • स्वच्छता एवं पादप स्वच्छता ( सेनेटरी एंड फाइटोसैनिटरी/एसपीएस) उपाय,
    • विवाद निपटान,
    • प्राकृतिक व्यक्तियों का आवागमन,
    • दूरसंचार,
    • वित्तीय सेवाएं,
    • सीमा शुल्क प्रक्रियाएं एवं
    • अन्य क्षेत्रों में सहयोग।
  • उत्पत्ति का प्रमाण पत्र (सर्टिफिकेट ऑफ ओरिजिन/सीओओ): भारतीय निर्यातकों को सीईसीपीए के तहत अधिमान्य लाभ प्राप्त करने के लिए अधिकृत भारतीय एजेंसियों से उत्पत्ति प्रमाण पत्र (सीओओ) प्राप्त करना होगा।
    • भारत-मॉरीशस सीईसीपीए के लिए सीओओ हेतु ऑनलाइन आवेदन विदेश व्यापार महानिदेशालय (डायरेक्टरेट जनरल ऑफ फॉरेन ट्रेड/डीजीएफटी) की उत्पत्ति का प्रमाण पत्र जारी करने के लिए सामान्य डिजिटल प्लेटफॉर्म के माध्यम से 01 अप्रैल 2021 से किया जा सकता है।

 

भारत-मॉरीशस सीईसीपीए- वस्तुओं में व्यापार 

  • भारत से: भारत एवं मॉरीशस के मध्य सीईसीपीए में भारत के लिए 310 निर्यात मद सम्मिलित हैं, जिनमें शामिल हैं-
    • खाद्य पदार्थ एवं पेय पदार्थ (80 लाइनें),
    • कृषि उत्पाद (25 लाइनें),
    •  वस्त्र एवं वस्त्र उत्पाद (27 लाइनें),
    • आधार धातु एवं उसकी वस्तुएँ (32 पंक्तियाँ),
    • विद्युत एवं इलेक्ट्रॉनिक वस्तुएं (13 लाइनें),
    • प्लास्टिक तथा रसायन (20 लाइनें),
    • काष्ठ एवं उसकी वस्तुएं (15 लाइनें) तथा अन्य।
  • मॉरीशस से: मॉरीशस को अपने 615 उत्पादों के लिए भारत में तरजीही बाजार पहुंच से लाभ प्राप्त होगा, जिसमें शामिल हैं-
    • हिमशीतित मछली,
    • विशेष चीनी,
    • बिस्कुट,
    • ताजे फल,
    • रस,
    • शुद्ध जल,
    • बीयर,
    • मादक पेय,
    • साबुन,
    • बैग,
    • चिकित्सा एवं शल्य चिकित्सा उपकरण, तथा
    • परिधान

भारत-मॉरीशस सीईसीपीए_50.1

भारत-मॉरीशस सीईसीपीए- सेवाओं में व्यापार 

  • भारत से निर्यात: सेवाओं में व्यापार के संबंध में, भारतीय सेवा प्रदाताओं की 11 व्यापक सेवा क्षेत्रों से लगभग 115 उप-क्षेत्रों तक पहुंच होगी यथा-
    • व्यावसायिक सेवाएं,
    • कंप्यूटर से संबंधित सेवाएं,
    • अनुसंधान एवं विकास,
    • अन्य व्यावसायिक सेवाएं,
    • दूरसंचार,
    • निर्माण,
    • वितरण,
    • शिक्षा,
    • पर्यावरण,
    • वित्तीय,
    • पर्यटन एवं यात्रा संबंधी,
    • मनोरंजनात्मक,
    • योग,
    • ऑडियो-विजुअल सेवाएं, तथा
    • परिवहन सेवाएं।
  • मॉरीशस से निर्यात: भारत ने 11 व्यापक सेवा क्षेत्रों से लगभग 95 उप-क्षेत्रों की पेशकश की है, जिनमें शामिल हैं-
    • व्यावसायिक सेवाएं,
    • अनुसंधान एवं विकास,
    • अन्य व्यावसायिक सेवाएं,
    • दूरसंचार,
    • वित्तीय,
    • वितरण,
    • उच्च शिक्षा,
    • पर्यावरण,
    • स्वास्थ्य,
    • पर्यटन एवं यात्रा संबंधी सेवाएं,
    • मनोरंजक सेवाएं तथा
    • परिवहन सेवाएं।

 

संपादकीय विश्लेषण- स्टीकिंग टू कमिटमेंट्स, बैलेंसिंग एनर्जी यूज एंड क्लाइमेट चेंज इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ हेरिटेज’ (आईआईएच) संपादकीय विश्लेषण- सोप और वेलफेयर डिबेट उत्तर पूर्वी अंतरिक्ष अनुप्रयोग केंद्र (एनईएसएसी)
आसियान एवं भारत यूएनएफसीसीसी में भारत का अद्यतन राष्ट्रीय रूप से निर्धारित योगदान (एनडीसी) ग्लोबल इंगेजमेंट स्कीम: भारतीय भारतीय लोक कला एवं संस्कृति को प्रोत्साहित करना एनीमिया मुक्त भारत (एएमबी) रणनीति
समान नागरिक संहिता स्कूल इनोवेशन काउंसिल (एसआईसी) ‘मादक द्रव्यों की तस्करी एवं राष्ट्रीय सुरक्षा’ पर राष्ट्रीय सम्मेलन  कृषि में डिजिटल प्रौद्योगिकी

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published.