Home   »   Convention on International Trade in Endangered...   »   COP 19 Panama

सीओपी 19 सीआईटीईएस मीटिंग 2022- भारतीय हस्तशिल्प निर्यातकों को राहत प्रदान की गई

सीओपी 19 सीआईटीईएस मीटिंग: यूपीएससी के लिए प्रासंगिकता

सीआईटीईएस का सीओपी 19: वन्य जीवों एवं वनस्पतियों की लुप्तप्राय प्रजातियों में अंतर्राष्ट्रीय व्यापार पर अभिसमय (कन्वेंशन ऑन इंटरनेशनल ट्रेड इन इनडेंजर्ड  स्पीशीज ऑफ वाइल्ड फौना एंड फ्लोरा/सीआईटीईएस) एक अंतर्राष्ट्रीय संगठन है जिसका उद्देश्य इन प्रजातियों के व्यापार पर रोक लगाकर विभिन्न लुप्तप्राय प्रजातियों की रक्षा करना है। सीआईटीईएस यूपीएससी प्रारंभिक परीक्षा (पर्यावरण एवं वन्यजीव संरक्षण के संबंध में अंतर्राष्ट्रीय अभिसमय) तथा यूपीएससी मुख्य परीक्षा (अंतर्राष्ट्रीय संबंध) के लिए महत्वपूर्ण है।

सीओपी 19 सीआईटीईएस मीटिंग 2022- भारतीय हस्तशिल्प निर्यातकों को राहत प्रदान की गई_3.1

सीओपी 19 सीआईटीईएस 2022

  • हाल ही में, सीआईटीईएस अभिसमय के सीओपी 19 में, भारत के शीशम (डलबर्जिया सीसों) को कन्वेंशन के परिशिष्ट II में शामिल किया गया है, जिससे प्रजातियों के व्यापार के लिए सीआईटीईएस नियमों का अनुपालन करने की आवश्यकता है।
  • यद्यपि,  शीशम (डलबर्जिया सीसों) आधारित उत्पादों के निर्यात के लिए सीआईटीईएस नियमों को सरल बनाकर राहत प्रदान की गई। इससे भारतीय हस्तशिल्प निर्यात को बढ़ावा मिलने की संभावना है।

सीओपी 19 पनामा 2022

  • पनामा के सुरम्य शहर में 14 से 25 नवंबर 2022 तक वन्य जीवों एवं वनस्पतियों की लुप्तप्राय प्रजातियों में अंतर्राष्ट्रीय व्यापार पर अभिसमय (सीआईटीईएस) के लिए पक्षकारों के सम्मेलन की 19 वीं बैठक आयोजित की जा रही है।

 

शीशम (डलबर्जिया सीसों) परिशिष्ट II सीआईटीईएस को शामिल करने से भारत कैसे प्रभावित हुआ?

  • अब तक 10 किलो से अधिक वजन की प्रत्येक खेप के लिए सीआईटीईएस अनुज्ञापत्र (परमिट) की आवश्यकता होती है।
  • इस प्रतिबंध के कारण भारत से डलबर्जिया सीसों से बने फर्नीचर एवं हस्तशिल्प का निर्यात सूचीयन से पूर्व अनुमानित 1000 करोड़ रुपये (~129 मिलियन अमरीकी डालर) प्रति वर्ष से लगातार गिरकर प्रति वर्ष सूचीयन के बाद 500-600 करोड़ भारतीय रुपये (~64 से 77 मिलियन अमरीकी डालर) हो गया है।
  • डलबर्जिया सीसों उत्पादों के निर्यात में कमी ने प्रजातियों के साथ काम करने वाले लगभग 50,000 कारीगरों की आजीविका को प्रभावित किया है।

 

सीआईटीईएस 19 सीआईटीईएस में भारतीय हस्तशिल्प निर्यातक को राहत प्रदान की गई

  • भारत की पहल पर सीआईटीईएस 19 पनामा बैठक 2022 में फर्नीचर एवं कलाकृतियों जैसे शीशम (दलबर्गिया सिसो) की मात्रा को स्पष्ट करने के प्रस्ताव पर विचार किया गया था।
  • भारतीय प्रतिनिधियों द्वारा निरंतर विचार-विमर्श के बाद, इस बात पर सहमति बनी कि किसी भी संख्या में डलबर्जिया सीसों काष्ठ-आधारित वस्तुओं को बिना सीआईटीईएस  अनुज्ञा पत्र (परमिट) के शिपमेंट में एकल खेप के रूप में निर्यात किया जा सकता है, यदि इस खेप के प्रत्येक व्यक्तिगत मद का वजन 10 किलो से कम है।
  • इसके अतिरिक्त, यह सहमति हुई कि प्रत्येक वस्तु के निवल वजन के लिए केवल काष्ठ पर विचार किया जाएगा एवं उत्पाद में प्रयुक्त किसी अन्य वस्तु जैसे धातु इत्यादि को नजरअंदाज कर दिया जाएगा।
  • यह भारतीय कारीगरों एवं फर्नीचर उद्योग के लिए बड़ी राहत की बात है।

 

उत्तर भारतीय रोजवुड या शीशम को सीआईटीईएस में कैसे शामिल किया गया?

  • यह याद किया जा सकता है कि 2016 में जोहान्सबर्ग, दक्षिण अफ्रीका में पक्षकारों के सम्मेलन (सीआईटीईएस) की 17वीं बैठक में सम्मेलन के परिशिष्ट II में दलबर्गिया उपवर्ग की सभी प्रजातियों को शामिल किया गया था, जिससे प्रजातियों के व्यापार के लिए सीआईटीईएस नियमों का अनुपालन करने की आवश्यकता थी।
  • भारत में, डलबर्जिया सीसों (उत्तर भारतीय रोज़वुड या शीशम) प्रजाति बहुतायत में पाई जाती है एवं इसे लुप्तप्राय प्रजातियों के रूप में नहीं माना जाता है।
  • चर्चा के दौरान पक्षकारों द्वारा यह विधिवत रूप से स्वीकार किया गया था कि दलबर्गिया सिस्सू एक संकटग्रस्त प्रजाति नहीं थी।
  • यद्यपि, दलबर्गिया की विभिन्न प्रजातियों को उनके तैयार रूपों में भेज करने में चुनौतियों के बारे में चिंता व्यक्त की गई थी।
  • देशों ने अभिव्यक्त किया कि विशेष रूप से सीमा शुल्क बिंदु पर दलबर्गिया की तैयार लकड़ी को पृथक करने हेतु उन्नत तकनीकी उपकरण विकसित करने की तत्काल आवश्यकता थी।
  • इस पहलू को ध्यान में रखते हुए एवं तैयार लकड़ी को पृथक करने के लिए एक स्पष्ट तकनीक के अभाव में, सीआईटीईएस सीआईटीईएस परिशिष्ट: II से प्रजातियों को हटाने के लिए सहमत नहीं हुआ।
  • यद्यपि, प्रत्येक वस्तु के वजन के मामले में दी गई राहत से भारतीय कारीगर समुदायों की समस्या काफी हद तक हल हो जाएगी एवं उनके द्वारा उत्पादित वस्तुओं के निर्यात को जबरदस्त बढ़ावा मिलेगा।

 

सीआईटीईएस क्या है?

  • सीआईटीईएस का अर्थ है: सीआईटीईएस संकटग्रस्त प्रजातियों में अंतर्राष्ट्रीय व्यापार को विनियमित करने अथवा प्रतिबंधित करने के लिए एक वैश्विक अंतर-सरकारी समझौता है।
  • सीआईटीईएस अंतरराष्ट्रीय व्यापार के कारण प्रजातियों को लुप्तप्राय या विलुप्त होने से रोकने के लिए एक अंतरराष्ट्रीय संधि है।
  • इस संधि के तहत, देश पशुओं एवं पौधों की प्रजातियों के अंतर्राष्ट्रीय व्यापार को विनियमित करने के लिए मिलकर कार्य करते हैं तथा यह सुनिश्चित करते हैं कि यह व्यापार वन्य आबादी के अस्तित्व के लिए हानिकारक नहीं है।
  • सीआईटीईएस के अनुसार, संरक्षित पौधों एवं पशुओं की प्रजातियों में कोई भी व्यापार धारणीय होना चाहिए, जो अच्छी जैविक समझ एवं सिद्धांतों पर आधारित हो।
  • यद्यपि सीआईटीईएस पक्षकारों पर कानूनी रूप से बाध्यकारी है, यह राष्ट्रीय कानूनों का स्थान नहीं लेता है। बल्कि यह प्रत्येक पक्षकार द्वारा सम्मान दिए जाने के लिए एक ढांचा प्रदान करता है, जिसे राष्ट्रीय स्तर पर सीआईटीईएस को लागू करने के लिए अपने घरेलू कानून को अपनाना पड़ता है।

 

सीआईटीईएस के सीओपी का अधिदेश

सीआईटीईएस अभिसमय के कार्यान्वयन की समीक्षा करने के लिए सीआईटीईएस सीओपी प्रत्येक दो से तीन वर्षों में आयोजित करता है, जिसमें शामिल हैं:

  • परिशिष्ट में सम्मिलित प्रजातियों के संरक्षण में प्रगति की समीक्षा;
  • परिशिष्ट I तथा II में प्रजातियों की सूची में संशोधन के प्रस्तावों पर विचार करना;
  • पक्षकारों, स्थायी समितियों, सचिवालय एवं कार्यकारी समूहों से चर्चा दस्तावेजों एवं रिपोर्टों पर विचार करना;
  • अभिसमय की प्रभावशीलता में सुधार के उपायों की सिफारिश करना; तथा
  • सचिवालय को प्रभावी ढंग से कार्य करने की अनुमति प्रदान करने हेतु आवश्यक प्रावधान करना।

 

सीआईटीईएस के सीओपी 19 पनामा शिखर सम्मेलन के संदर्भ में प्रायः पूछे जाने वाले प्रश्न

  1. सीओपी 19 सीआईटीईएस सम्मेलन कहाँ आयोजित किया जा रहा है?

उत्तर. सीआईटीईएस सीओपी 19 सम्मेलन पनामा में आयोजित किया जा रहा है।

  1. सीआईटीईएस क्या है?

उत्तर. सीआईटीईएस संकटग्रस्त प्रजातियों के अंतर्राष्ट्रीय व्यापार को विनियमित करने या प्रतिबंधित करने के लिए एक वैश्विक अंतर-सरकारी समझौता है।

  1. सीआईटीईएस कांफ्रेंस ऑफ पार्टीज (सीओपी) कितनी बार बुलाई जाती है?

उत्तर. सीआईटीईएस सम्मेलन के कार्यान्वयन की समीक्षा करने के लिए सीआईटीईएस सीओपी प्रत्येक दो से तीन वर्षों में बैठक करता है।

 

कृत्रिम प्रज्ञान पर वैश्विक भागीदारी (जीपीएआई) 53 वां भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (IFFI) सीओपी 27 एक विशेष हानि एवं क्षति कोष निर्मित करने वाला है | यूपीएससी के लिए आज का द हिंदू संपादकीय विश्लेषण भारत-बांग्लादेश मैत्री पाइपलाइन (इंडिया-बांग्लादेश फ्रेंडशिप पाइपलाइन/IBFPL) क्या है?
गगनयान कार्यक्रम के लिए इसरो का आईएमएटी टेस्ट क्या है? |पैराशूट ड्रॉप टेस्ट भारत में बांधों की सूची- महत्वपूर्ण बांध, सबसे ऊंचे एवं सबसे पुराने  बांधों की सूची प्रारूप डिजिटल व्यक्तिगत डेटा संरक्षण विधेयक 2022 पीएम मोदी द्वारा संबोधित ‘नो मनी फॉर टेरर’ तीसरा मंत्रिस्तरीय सम्मेलन 2022′
ओडिशा की बाली यात्रा क्या है? | यूपीएससी के लिए महत्व डिजिटल शक्ति 4.0 क्या है? | यूपीएससी लिए मुख्य विवरण फीफा विश्व कप 2022: यूपीएससी के लिए सभी विवरण जी-20 शिखर सम्मेलन 2023- पूर्वोत्तर राज्यों के लिए भारत की जी-20 की अध्यक्षता एवं पर्यटन अवसर

Sharing is caring!

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *