Home   »   International Women's Day 2022   »   समर्थ पहल

समर्थ पहल

समर्थ पहल: प्रासंगिकता

  • जीएस 2: केंद्र एवं राज्यों द्वारा आबादी के कमजोर वर्गों के लिए कल्याणकारी योजनाएं।

समर्थ पहल_40.1

समर्थ पहल: संदर्भ

  • हाल ही में, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्रालय ने महिलाओं के लिए एक विशेष उद्यमिता प्रोत्साहन अभियान –समर्थप्रारंभ किया है, ताकि उन्हें स्व-रोजगार के अवसर प्रदान करके उन्हें आत्मनिर्भर एवं स्वतंत्र होने का अवसर प्रदान किया जा सके।

 

समर्थ पहल: प्रमुख बिंदु

  • अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाने के लिए, एमएसएमई मंत्रालय ने राष्ट्रीय लघु उद्योग निगम एवं भारत  एसएमई फोरम के सहयोग से एक अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन – महिला उद्यमियों को सशक्त बनाना” (एंपावरिंग  वूमेन एंटरप्रेन्योर्स) का आयोजन किया।
  • सम्मेलन का आयोजन वर्तमान एवं आकांक्षी भारतीय महिला उद्यमियों को विश्व के विभिन्न हिस्सों से  सर्वाधिक सफल महिला उद्यमियों के अनुभवों तथा उद्यमशीलता की यात्रा के साथ-साथ अंतरराष्ट्रीय विशेषज्ञों के साथ उद्यमिता में सर्वोत्तम प्रथाओं एवं नवाचारों पर चर्चा करने हेतु एक मंच प्रदान करने के लिए किया गया है।
  • मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा मंत्रालय द्वारा कार्यान्वित की जा रही विभिन्न योजनाओं पर एक व्यापक प्रस्तुति भी दी गई।

 

एमएसएमई में महिलाएं

  • एमएसएमई क्षेत्र महिलाओं के लिए विपुल अवसर प्रदान करता है एवं इसलिए महिला उद्यमिता को बढ़ावा देने हेतु कदम उठाने की आवश्यकता है।
  • महिलाएं आज जीवन के हर क्षेत्र में असाधारण एवं अभूतपूर्व उपलब्धियां हासिल कर रही हैं तथा इस बारे में आशावादी हैं कि उनके लिए भविष्य में उनके लिए क्या है।
  • सरकार द्वारा बढ़ी हुई समर्थनकारी पहलों के साथ, हम एक साथ भारत के भविष्य में एक नए युग की शुरुआत कर सकते हैं।

समर्थ पहल_50.1

समर्थ पहल क्या है?

  • इस पहल के माध्यम से,एमएसएमई मंत्रालय महिलाओं को कौशल विकास एवं बाजार विकास सहायता प्रदान करने पर ध्यान केंद्रित कर रहा है तथा ग्रामीण एवं उप-शहरी क्षेत्रों की 7500 से अधिक महिला उम्मीदवारों को वित्त वर्ष 2022-23 में प्रशिक्षित किया जाएगा।
  • इसके अतिरिक्त, हजारों महिलाओं को घरेलू एवं अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनियों में अपने उत्पादों को प्रदर्शित करने के लिए विपणन के अवसर प्राप्त होंगे।

 

समर्थ पहल के लाभ

  • मंत्रालय की कौशल विकास योजनाओं के अंतर्गत आयोजित निशुल्क कौशल विकास कार्यक्रमों में 20% सीटें महिलाओं के लिए आवंटित की जाएंगी। 7500 से अधिक महिलाएं लाभान्वित होंगी।
  • मंत्रालय द्वारा कार्यान्वित विपणन सहायता के लिए योजनाओं के अंतर्गत घरेलू एवं अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनियों में भेजे गए एमएसएमई व्यापार प्रतिनिधिमंडल का 20% महिलाओं के स्वामित्व वाले एमएसएमई को समर्पित होगा।
  • एनएसआईसी की वाणिज्यिक योजनाओं पर वार्षिक प्रक्रिया शुल्क पर 20% की छूट
  • उद्यम पंजीकरण के अंतर्गत महिलाओं के स्वामित्व वाले एमएसएमई के पंजीकरण हेतु विशेष अभियान

 

संपादकीय विश्लेषण: महिला कार्यबल की क्षमता का दोहन अभ्यास स्लिनेक्स 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था के लिए, निर्यात सकल घरेलू उत्पाद के 20% तक बढ़ना चाहिए  अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस
स्वयं सहायता समूह एवं ई-शक्ति संपादकीय विश्लेषण- विदेश में छात्रों के लिए सुरक्षा व्यवस्था  भारतीय रेलवे की कवच ​​प्रणाली सहायक संधि व्यवस्था | प्रभाव एवं महत्व
प्लास्टिक पुनर्चक्रण एवं अपशिष्ट प्रबंधन पर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन  रूस यूक्रेन युद्ध पर संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद संकल्प  सहायक संधि व्यवस्था | पृष्ठभूमि एवं प्रमुख विशेषताएं संपादकीय विश्लेषण- केयर इनफॉर्म्ड बाय डेटा
Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.