Home   »   LGBTQ and Human Rights   »   Personality Rights

व्यक्तित्व अधिकार- व्यक्तित्व अधिकार प्रमुख हस्तियों (सेलेब्रिटीज) की सुरक्षा कैसे करते हैं?

व्यक्तित्व अधिकार: यूपीएससी के लिए प्रासंगिकता

सेलेब्रिटीज के व्यक्तित्व अधिकार: प्रमुख हस्तियों (सेलिब्रिटीज) के लिए व्यक्तित्व अधिकार अत्यधिक महत्वपूर्ण हैं, जिन्हें प्रायः लोगों द्वारा अत्यधिक प्रेम किया जाता है, जिससे कभी-कभी सेलेब्रिटीज को कुछ असुविधा होती है। यूपीएससी प्रारंभिक परीक्षा 2023 एवं यूपीएससी मुख्य परीक्षा (जीएस पेपर 2- व्यक्तियों के अधिकार एवं विभिन्न शासन पहल) के लिए व्यक्तित्व अधिकार महत्वपूर्ण है।

व्यक्तित्व अधिकार- व्यक्तित्व अधिकार प्रमुख हस्तियों (सेलेब्रिटीज) की सुरक्षा कैसे करते हैं? -_3.1

व्यक्तित्व अधिकार चर्चा में क्यों है

  • दिल्ली उच्च न्यायालय ने हाल ही में बॉलीवुड स्टार अमिताभ बच्चन के नाम, छवि एवं आवाज के अवैध उपयोग को रोकने के लिए एक अंतरिम आदेश पारित किया।
  • उच्च न्यायालय ने अपने आदेश के माध्यम से व्यापक रूप से व्यक्तियों को अभिनेता के व्यक्तित्व अधिकारों का उल्लंघन करने से रोक दिया।

 

व्यक्तित्व अधिकार क्या हैं?

  • व्यक्तित्व अधिकार एक व्यक्ति के निजता या संपत्ति के अधिकार के तहत उसके व्यक्तित्व की रक्षा करने के अधिकार को संदर्भित करता है।
  • ये अधिकार प्रख्यात हस्तियों के लिए महत्वपूर्ण हैं क्योंकि विभिन्न कंपनियों को उनकी बिक्री को बढ़ावा देने के लिए कंपनियों द्वारा विभिन्न विज्ञापनों में प्रख्यात हस्तियों के नाम, फोटो या यहां तक ​​कि आवाज का सरलता से दुरुपयोग किया जा सकता है।
  • इसलिए, अपने व्यक्तित्व अधिकारों को सुरक्षित करने के लिए प्रसिद्ध व्यक्तित्वों / मशहूर हस्तियों के लिए अपना नाम पंजीकृत करना आवश्यक है।

 

व्यक्तित्व अधिकारों के तहत क्या संरक्षित हैं?

  • अद्वितीय व्यक्तिगत विशेषताओं की एक बड़ी सूची एक सेलिब्रिटी के निर्माण में योगदान करती है।
  • इन सभी विशेषताओं को संरक्षित करने की आवश्यकता है, जैसे नाम, उपनाम, मंच का नाम, चित्र, समानता, छवि एवं कोई पहचान योग्य व्यक्तिगत संपत्ति, जैसे कि एक विशिष्ट रेस कार।

 

व्यक्तित्व अधिकार प्रचार अधिकार से किस प्रकार भिन्न हैं?

  • व्यक्तित्व अधिकार प्रचार अधिकार से पृथक हैं।
  • व्यक्तित्व अधिकार: व्यक्तित्व अधिकार में दो प्रकार के अधिकार सम्मिलित होते हैं –
    • प्रचार का अधिकार, या किसी की छवि एवं समानता को बिना अनुमति या संविदात्मक क्षतिपूर्ति के व्यावसायिक रूप से शोषण से सुरक्षित करने का अधिकार, जो ट्रेडमार्क के उपयोग के समान (किंतु अभिन्न नहीं) है; तथा
    • निजता का अधिकार या बिना अनुमति के किसी के व्यक्तित्व का सार्वजनिक रूप से प्रतिनिधित्व नहीं करने का अधिकार।
  • प्रचार अधिकार: यद्यपि, सामान्य कानून के अधिकार क्षेत्र के तहत, प्रचार अधिकार ‘प्रकट करने का अपकृत्य’ के दायरे में आते हैं।
    • प्रकट करना (पासिंग ऑफ) तब होता है जब कोई जानबूझकर या अनजाने में अपनी वस्तुओं अथवा सेवाओं को किसी अन्य पक्ष से संबंधित के रूप में उसे प्रकट करता है।
  • प्रभाव: प्रायः, इस प्रकार की मिथ्या प्रस्तुति किसी व्यक्ति या व्यवसाय की साख को हानि पहुँचाती है, जिसके परिणामस्वरूप वित्त या प्रतिष्ठा को हानि पहुंचती है। प्रचार अधिकार ट्रेड-मार्क अधिनियम 1999 एवं कॉपीराइट अधिनियम 1957 जैसी विधियों द्वारा शासित होते हैं।

 

क्या इंटरनेट पर नाम का उपयोग व्यक्तित्व अधिकारों को प्रभावित करता है?

2011 में दिल्ली उच्च न्यायालय ने अरुण जेटली बनाम नेटवर्क सॉल्यूशंस प्राइवेट लिमिटेड तथा अन्य के वाद में एक अवलोकन किया।

  • न्यायालय ने कहा कि “किसी व्यक्ति की लोकप्रियता या प्रसिद्धि वास्तविकता से इंटरनेट पर पृथक नहीं होगी।”
  • न्यायालय ने श्री अरुण जेटली के पक्ष में फैसला सुनाते हुए कहा कि “नाम भी उस श्रेणी में आता है जिसमें व्यक्तिगत नाम होने के अतिरिक्त इसने अपना विशिष्ट संकेत प्राप्त किया है।
  • इसलिए, उक्त नाम अपनी विशिष्ट प्रकृति / विशिष्ट चरित्र के कारण विभिन्न क्षेत्रों में प्राप्त लोकप्रियता के साथ जुड़ा हुआ है, चाहे वह राजनीति में हो, या वकालत में।
    • इसलिए, यह व्यापार चिह्न कानून के तहत एक प्रसिद्ध व्यक्तिगत नाम/चिह्न बन गया है जो उसे अपने नाम के दुरुपयोग के लिए मुकदमा करने के अपने व्यक्तिगत अधिकार के अतिरिक्त दूसरों को इस नाम का अनुचित रूप से उपयोग करने से रोकने का लाभ सुनिश्चित करता है।

 

उपभोक्ता अधिकारों के बारे में क्या?

  • जबकि प्रख्यात हस्तियों को उनके नाम एवं व्यक्तित्व के व्यावसायिक दुरुपयोग से बचाया जाता है, ऐसे उदाहरण भी सामने आए हैं जहां ऐसे व्यक्तित्वों द्वारा झूठे विज्ञापनों या समर्थन के कारण उपभोक्ताओं को गुमराह किया जाता है।
  • ऐसे मामलों के कारण, उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय ने 2022 में भ्रामक विज्ञापनों एवं उपभोक्ता उत्पादों के समर्थन पर रोक लगाने के लिए अनुमोदकों (एंडोर्सर) पर जुर्माना लगाकर एक अधिसूचना जारी की है।

 

अन्य देशों में भारतीय राजदूतों की सूची यूपीएससी के लिए दैनिक समसामयिकी- 05 नवंबर |प्रीलिम्स बिट्स हॉर्नबिल महोत्सव- 23वें संस्करण का उद्घाटन उपराष्ट्रपति द्वारा किया गया बागवानी संकुल विकास कार्यक्रम (सीडीपी) किसानों के लाभ के लिए तैयार
भारत के समस्त उच्च न्यायालय – समस्त उच्च न्यायालयों की सूची, नवीनतम, सबसे छोटा, सबसे बड़ा, सबसे पुराना एवं अन्य जानकारी हरित सड़कें, सुरक्षित सड़कें | यूपीएससी के लिए हिंदू संपादकीय विश्लेषण भारतीय रिजर्व बैंक ने प्रायोगिक आधार पर रिटेल सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (CBDC) का विमोचन किया यूपीएससी परीक्षा के लिए दैनिक समसामयिकी- 03 दिसंबर 2022 |प्रीलिम्स बिट्स
यूपीएससी परीक्षा के लिए दैनिक समसामयिकी- 02 दिसंबर 2022 |प्रीलिम्स बिट्स सिलहट-सिलचर महोत्सव 2022 क्या है? |यूपीएससी के लिए सभी विवरण गैस मूल्य समीक्षा पैनल ने अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत की: मुख्य सिफारि भारत में बढ़ते रैंसमवेयर हमले: यूपीएससी के लिए सबकुछ जानें

Sharing is caring!

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *