UPSC Exam   »   Global Resilience Index Initiative

वैश्विक प्रतिस्थितित्व सूचकांक पहल

वैश्विक प्रतिस्थितित्व सूचकांक पहल- यूपीएससी परीक्षा हेतु प्रासंगिकता

  • जीएस पेपर 2: अंतर्राष्ट्रीय संबंध- द्विपक्षीय, क्षेत्रीय एवं वैश्विक समूह तथा भारत से जुड़े एवं / या भारत के हितों को प्रभावित करने वाले समझौते।
  • जीएस पेपर 3: पर्यावरण- संरक्षण, पर्यावरण प्रदूषण एवम क्षरण

वैश्विक खाद्य सुरक्षा सूचकांक 2021

वैश्विक प्रतिस्थितित्व सूचकांक पहल- संदर्भ

  • हाल ही में, दस वैश्विक संगठनों के गठबंधन द्वारा कॉप 26 में ग्लोबल रेजिलिएशन इंडेक्स इनिशिएटिव (जी आरआईआई) का विमोचन किया गया था।

वैश्विक प्रतिस्थितित्व सूचकांक पहल_40.1

क्या आपने यूपीएससी सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा 2021 को उत्तीर्ण कर लिया है?  निशुल्क पाठ्य सामग्री प्राप्त करने के लिए यहां रजिस्टर करें

वैश्विक प्रतिस्थितित्व सूचकांक पहल- प्रमुख बिंदु

  • वैश्विक प्रतिस्थितित्व सूचकांक पहल के बारे में: ग्लोबल रेजिलिएशन इंडेक्स इनिशिएप्रतिमानटिव का उद्देश्य जलवायु जोखिमों के प्रति लोचशीलता (प्रतिस्थितित्व) का आकलन करने हेतु एक सार्वभौमिक प्रारूप का निर्माण करना है।
    • ग्लोबल रेजिलिएशन इंडेक्स इनिशिएटिव (जीआरआईआई) सभी क्षेत्रों एवं भौगोलिक क्षेत्रों में प्रतिस्थितित्व के आकलन के लिए विश्व स्तर पर सुसंगत प्रतिमान प्रदान करेगा।
  • उद्देश्य: गठबंधन दो तात्कालिक लक्ष्यों को प्राप्त करना चाहता है।
  1. वे बीमा जोखिम प्रतिमान सिद्धांतों का उपयोग करके विकसित वैश्विक मुक्त संदर्भ जोखिम डेटा प्रदान करना चाहते हैं।
  2. वे साझा मानकों एवं उपयोगों की एक विस्तृत श्रृंखला के लिए लागू सुविधाएं प्रदान करना चाहते हैं: व्यावसायिक जलवायु जोखिम प्रकटीकरण, राष्ट्रीय अनुकूलन योजना एवं रिपोर्टिंग तथा पूर्व-व्यवस्थित मानवीय वित्त की योजना।

वैश्विक तापन एवं स्थायी तुषार

  • वित्त पोषण: ग्लोबल रेजिलिएशन इंडेक्स इनिशिएटिव (जीआरआईआई) को बीमा क्षेत्र और साझेदार संस्थानों से आंशिक वित्तपोषण एवं समान रूप के योगदान के साथ प्रारंभ किया गया है।
  • संबद्ध संगठन: जीआरआईआई के भागीदार एवं समर्थक हैं:
  1. आपदा रोधी अवसंरचना के लिए गठबंधन (सीडीआरआई)
  2. जलवायु प्रतिस्थितित्व निवेश हेतु गठबंधन (सीसीआरआई)
  3. फैदम
  4. जी ई एम फाउंडेशन
  5. बीमा विकास मंच (आईडीएफ)
  6. ओएसिस लॉस मॉडलिंग फ्रेमवर्क
  7. यूके सेंटर फॉर ग्रीनिंग फाइनेंस एंड इन्वेस्टमेंट (सीजीएफआई)
  8. आपदा जोखिम न्यूनीकरण हेतु संयुक्त राष्ट्र कार्यालय (यूएनडीआरआर)
  9. ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय
  10. विलिस टावर्स वाटसन

वैश्विक मीथेन संकल्प

वैश्विक प्रतिस्थितित्व सूचकांक पहल- प्रमुख लाभ

  • वैश्विक प्रतिस्थितित्व सूचकांक पहल देशों को राष्ट्रीय अनुकूलन निवेश पर ध्यान केंद्रित करने में सहायता प्रदान करेगी।
  • ग्लोबल रेजिलिएशन इंडेक्स इनिशिएटिव “निर्मित पर्यावरण, आधारिक अवसंरचना, कृषि एवं सामाजिक जोखिम में” उच्च स्तरीय मापक (मेट्रिक्स) प्रदान करेगा।
  • इस जोखिम विश्लेषण के परिणाम बीमा सुरक्षा अंतराल को पाटने में सहायता करेंगे एवं जहां उन्हें सर्वाधिक आवश्यकता है वहां प्रत्यक्ष निवेश एवं सहायता प्रदान करेंगे।
  • वैश्विक प्रतिस्थितित्व सूचकांक पहल डेटा आपातकाल को भी हल करेगा जो जलवायु संकट में योगदान दे रहा है।
    • जलवायु व्यवधान के प्रति प्रतिरोधक क्षमता प्रणाली एवं अर्थव्यवस्थाएं लाखों व्यक्तियों के जीवन एवं आजीविका की सुरक्षा कर सकती हैं।

जलवायु परिवर्तन प्रदर्शन सूचकांक

वैश्विक प्रतिस्थितित्व सूचकांक पहल_50.1

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.
Was this page helpful?

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *