Home   »   Essay   »   Essay: Save Water Save Life

Save Water and Save Life Essay

Save Water Save Life

The most vital and exquisite natural resource on the planet is water. All life depends on it. Water is necessary for life. Water is essential not only for humans but also for the entire ecosystem. The existence of people and animals is nearly impossible without enough water. Water is the second most vital natural resource for any living being after fresh air. Every living species on our planet, whether a little worm, a plant, or a fully grown tree, requires water to survive. Water is essential for animals and plants to exist. Water covers over 71 percent of the Earth’s surface. Unfortunately, freshwater makes up only 3% of the available water. Approximately two-thirds of all freshwater is frozen.

Frozen glaciers and ice caps hold about two-thirds of the world’s freshwater. The remainder of the modest amount is available as groundwater and surface water. For a variety of reasons, we are completely reliant on water. Agriculture makes use of water to irrigate crops. Water is used in our homes for drinking, cooking, cleaning, bathing, and other activities. Recreational activities take place on the water. Water is utilised in industries as a coolant, solvent, and in other production processes. Water is used to generate hydroelectric power. Navigation and cargo transportation are also done on the water. This demonstrates how water is the most important component of life, and that every drop is necessary for survival. As a result, water conservation is important.

Save Water Save Life Essay

Water conservation is critical to the survival of life on this planet. Drinking, bathing, agriculture, irrigation, hospitality, manufacturing, and other basic uses of water are all important. Water increases metabolism and blood circulation in the human body. Water is home to the entire aquatic ecosystem. It is a haven for all aquatic creatures. After land and air, water is a major mode of transportation. Saliva secretion and oxygen delivery to our cells are both aided by water. Some countries have plentiful water resources for their citizens and serve them, whereas others lack natural resources even for survival. Fresh water scarcity has become a hazard to human survival. Water quality and quantity, according to some scientists, are deteriorating day by day.

Although about 71% of the Earth’s surface is covered in water, the quality is such that we cannot use it for domestic purposes. People in particular areas are susceptible to many water-borne diseases, including Eluru, which is caused by contaminated water. These are eye-opening examples that must be taken seriously in order to improve living conditions for ourselves and future generations. The following are the causes of fresh water scarcity: Water use increases as the population grows. Excessive water waste on a daily basis. The problem of efficient garbage disposal has grown in tandem with the fast rise of industries. These companies’ waste products contain extremely hazardous materials that pollute rivers and other bodies of water.

Pesticides and chemical fertilisers used to treat crops harm the water supply. Waterborne diseases such as cholera, jaundice, and typhoid are caused by sewage waste thrown into rivers, making the water unfit for drinking and washing. The use of plastics and their negligent disposal in water bodies has an impact on aquatic life, further disrupting the ecology. Another major cause of water scarcity on Earth is global warming. According to various studies, the globe will confront increased water scarcity due to global warming until the year 2050. We must now be conscious of the threat of freshwater depletion and take appropriate efforts to prevent it.

Save Water Save life Methods

Water conservation is a pressing issue. Due to extreme weather conditions, several places are experiencing severe water scarcity, resulting in reduced rainfall and groundwater depletion. Groundwater is either unsuitable or overused in other parts of the earth. Groundwater is being misused, resulting in water scarcity, as the world’s population grows, as do industry and globalisation. According to data from the World Health Organization (WHO), many people on the earth do not have access to safe, clean drinking water. These circumstances are deteriorating by the day, and we require an emergency plan to address them. To reduce water scarcity, every individual on this planet and every country’s government must take a variety of collective efforts.

Save Water Save life Projects in India

Water conservation should be governed by rigorous government regulations. The government and citizens must take the lead in raising awareness and promoting “water conservation.” “JANSHAKTI FOR JALSHAKTI” was one of the Modi government’s initiatives in India. This programme started as a way to work toward a better future. Some state governments have pursued the following initiatives: By avoiding waterlogging and repairing drain leakage, the Punjab government helped to conserve water resources. The Rajasthan government took the initiative to build small ponds, which aided the Rajasthani people in a variety of ways. Telangana villages have built water tanks to store rainfall for future use.

These states should serve as an example to others, encouraging them to conserve and clean water, bodies of water, and groundwater. Water conservation should and is the responsibility of every human being who lives on this planet. There are numerous strategies to conserve water and prevent pollution: Every day, be responsible and save water. Avoid wasting water by only using the amount needed. We must conserve water. For washing garments, we should use a washing machine to its utmost capacity. While washing our hands and faces, we should not leave the tap running. To reduce evaporation, we should water plants in the evening or early morning. We should develop plans to collect rainwater on rooftops and reuse it for domestic uses.

Rainwater collection should be adopted by larger communities and farmers. Instead of discharging industrial trash into rivers, it should be appropriately treated. We should cease using plastics and properly dispose of them. We can raise public awareness about water issues through social campaigns and other means. We should start teaching our children about water conservation at a young age. Water reuse is a significant strategy to conserve and prevent water scarcity. Bathwater can be reused for gardening or cleaning. Rainwater harvesting is the process of collecting and storing rainwater for later use. Groundwater conservation is another key approach for preserving and utilising groundwater in the future. Waterlogging is avoided.

Save Water Save life-Water Conservation Slogan

Save Water Save Life

Save Water Save life Water Conservation Poster

Save Water and Save Life Essay_40.1

 

Water Conservation- Save Water Save Life Essay: Conclusion

We couldn’t fathom living without it. Unfortunately, mankind has ignored this priceless gift from God. Water conservation is essential for survival. Water is required for the survival of all living species on this planet. Our future generations will experience water scarcity if we do not prioritise water conservation and conserving.

   Water = Life, Conservation = Future!

Water Conservation Drawing

Save Water and Save Life Essay_50.1

Water Conservation- Save Water Save Life Essay in Hindi

इस ग्रह पर जीवन के अस्तित्व के लिए जल संरक्षण महत्वपूर्ण है। पीने, स्नान, कृषि, सिंचाई, आतिथ्य, निर्माण और पानी के अन्य बुनियादी उपयोग सभी महत्वपूर्ण हैं। पानी मानव शरीर में चयापचय और रक्त परिसंचरण को बढ़ाता है। जल पूरे जलीय पारिस्थितिकी तंत्र का घर है। यह सभी जलीय जीवों का आश्रय स्थल है। भूमि और वायु के बाद जल परिवहन का एक प्रमुख साधन है। लार स्राव और हमारी कोशिकाओं तक ऑक्सीजन पहुंचाना दोनों ही पानी से सहायता प्राप्त करते हैं। कुछ देशों में अपने नागरिकों के लिए प्रचुर मात्रा में जल संसाधन हैं और उनकी सेवा करते हैं, जबकि अन्य में जीवित रहने के लिए भी प्राकृतिक संसाधनों की कमी है। मीठे पानी की कमी मानव अस्तित्व के लिए खतरा बन गई है। कुछ वैज्ञानिकों के अनुसार पानी की गुणवत्ता और मात्रा दिन-ब-दिन खराब होती जा रही है।

यद्यपि पृथ्वी की सतह का लगभग 71 प्रतिशत भाग जल से ढका हुआ है, गुणवत्ता ऐसी है कि हम इसे घरेलू प्रयोजनों के लिए उपयोग नहीं कर सकते हैं। विशेष क्षेत्रों के लोग एलुरु सहित कई जल जनित बीमारियों के प्रति संवेदनशील हैं, जो दूषित पानी के कारण होता है। ये आंखें खोलने वाले उदाहरण हैं जिन्हें गंभीरता से लिया जाना चाहिए ताकि हमारे और आने वाली पीढ़ियों के लिए रहने की स्थिति में सुधार हो सके। मीठे पानी की कमी के निम्नलिखित कारण हैं: जैसे-जैसे जनसंख्या बढ़ती है, पानी का उपयोग बढ़ता जाता है। रोजाना अत्यधिक पानी की बर्बादी। उद्योगों के तेजी से बढ़ने के साथ-साथ कुशल कचरा निपटान की समस्या बढ़ गई है। इन कंपनियों के अपशिष्ट उत्पादों में अत्यंत खतरनाक सामग्री होती है जो नदियों और पानी के अन्य निकायों को प्रदूषित करती है।

फसलों को उपचारित करने के लिए प्रयोग किए जाने वाले कीटनाशक और रासायनिक उर्वरक पानी की आपूर्ति को नुकसान पहुंचाते हैं। हैजा, पीलिया और टाइफाइड जैसे जलजनित रोग नदियों में फेंके गए सीवेज कचरे के कारण होते हैं, जिससे पानी पीने और धोने के लिए अनुपयुक्त हो जाता है। प्लास्टिक के उपयोग और जल निकायों में उनके लापरवाही से निपटान से जलीय जीवन पर प्रभाव पड़ता है, जिससे पारिस्थितिकी और बाधित होती है। पृथ्वी पर पानी की कमी का एक अन्य प्रमुख कारण ग्लोबल वार्मिंग है। विभिन्न अध्ययनों के अनुसार, वर्ष 2050 तक ग्लोबल वार्मिंग के कारण दुनिया में पानी की कमी का सामना करना पड़ेगा। अब हमें मीठे पानी की कमी के खतरे के बारे में जागरूक होना चाहिए और इसे रोकने के लिए उचित प्रयास करना चाहिए।

जल संरक्षण के तरीके

जल संरक्षण एक ज्वलंत मुद्दा है। चरम मौसम की स्थिति के कारण, कई स्थानों पर पानी की गंभीर कमी का सामना करना पड़ रहा है, जिसके परिणामस्वरूप कम वर्षा और भूजल की कमी हो रही है। भूजल या तो अनुपयुक्त है या पृथ्वी के अन्य भागों में अत्यधिक उपयोग किया जाता है। भूजल का दुरुपयोग किया जा रहा है, जिसके परिणामस्वरूप दुनिया की आबादी बढ़ने के साथ-साथ उद्योग और वैश्वीकरण में पानी की कमी हो रही है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के आंकड़ों के अनुसार, पृथ्वी पर बहुत से लोगों के पास सुरक्षित, स्वच्छ पेयजल उपलब्ध नहीं है। ये परिस्थितियाँ दिन-ब-दिन बिगड़ती जा रही हैं, और हमें इनसे निपटने के लिए एक आपातकालीन योजना की आवश्यकता है। पानी की कमी को कम करने के लिए इस ग्रह पर हर व्यक्ति और हर देश की सरकार को कई तरह के सामूहिक प्रयास करने होंगे।

भारत में जल संरक्षण परियोजना

जल संरक्षण कठोर सरकारी नियमों द्वारा शासित होना चाहिए। सरकार और नागरिकों को जागरूकता बढ़ाने और “जल संरक्षण” को बढ़ावा देने का बीड़ा उठाना चाहिए। “जलशक्ति के लिए जनशक्ति” भारत में मोदी सरकार की पहलों में से एक थी। यह कार्यक्रम बेहतर भविष्य की दिशा में काम करने के तरीके के रूप में शुरू हुआ। कुछ राज्य सरकारों ने निम्नलिखित पहल की हैं: जलजमाव से बचने और नाले के रिसाव की मरम्मत करके, पंजाब सरकार ने जल संसाधनों के संरक्षण में मदद की। राजस्थान सरकार ने छोटे तालाब बनाने की पहल की, जिससे राजस्थानी लोगों को कई तरह से मदद मिली। तेलंगाना के गांवों ने भविष्य में उपयोग के लिए बारिश को स्टोर करने के लिए पानी के टैंक बनाए हैं।

इन राज्यों को दूसरों के लिए एक उदाहरण के रूप में काम करना चाहिए, उन्हें जल, जल निकायों और भूजल को संरक्षित और स्वच्छ करने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए। जल संरक्षण इस ग्रह पर रहने वाले प्रत्येक मनुष्य की जिम्मेदारी होनी चाहिए और होनी चाहिए। जल संरक्षण और प्रदूषण को रोकने के लिए कई रणनीतियाँ हैं: हर दिन जिम्मेदार बनें और पानी बचाएं। केवल आवश्यक मात्रा का उपयोग करके पानी बर्बाद करने से बचें। हमें जल संरक्षण करना चाहिए। कपड़े धोने के लिए हमें वॉशिंग मशीन का इस्तेमाल पूरी क्षमता से करना चाहिए। हाथ और चेहरे धोते समय हमें नल को चालू नहीं छोड़ना चाहिए। वाष्पीकरण को कम करने के लिए हमें पौधों को शाम या सुबह जल्दी पानी देना चाहिए। हमें छतों पर वर्षा जल एकत्र करने और घरेलू उपयोग के लिए इसका पुन: उपयोग करने की योजना विकसित करनी चाहिए।

बड़े समुदायों और किसानों द्वारा वर्षा जल संग्रह को अपनाया जाना चाहिए। औद्योगिक कचरे को नदियों में छोड़ने के बजाय उसका उचित उपचार किया जाना चाहिए। हमें प्लास्टिक का उपयोग बंद कर देना चाहिए और उसका उचित तरीके से निपटान करना चाहिए। हम सामाजिक अभियानों और अन्य माध्यमों से पानी के मुद्दों के बारे में जन जागरूकता बढ़ा सकते हैं। हमें अपने बच्चों को छोटी उम्र से ही जल संरक्षण के बारे में पढ़ाना शुरू कर देना चाहिए। जल की कमी को बचाने और रोकने के लिए जल का पुन: उपयोग एक महत्वपूर्ण रणनीति है। नहाने के पानी का बागवानी या सफाई के लिए पुन: उपयोग किया जा सकता है। वर्षा जल संचयन आईएनजी बाद में उपयोग के लिए वर्षा जल को इकट्ठा करने और संग्रहीत करने की प्रक्रिया है। भूजल संरक्षण भविष्य में भूजल के संरक्षण और उपयोग के लिए एक और महत्वपूर्ण दृष्टिकोण है। जलभराव से बचा जाता है।

Related Posts:

Save Water and Save Life Essay- FAQs

Ques. What is the importance of water conservation?

Ans. Water conservation saves energy. Filtering, heating, and pumping water to your home all require energy, so conserving water minimises your carbon footprint. Using less water conserves resources in our ecosystems, allowing species such as otters, water voles, herons, and fish to thrive.

Ques. What are ways to conserve water?

Ans. According to data from the World Health Organization (WHO), many people on the earth do not have access to safe, clean drinking water. These circumstances are deteriorating by the day, and we require an emergency plan to address them. To reduce water scarcity, every individual on this planet and every country’s government must take a variety of collective efforts.

Ques. What is the main purpose of conservation?

Ans. Many natural resources exist in our surroundings that play an important function and cannot be created artificially. As a result, conservation’s primary goal is to protect natural resources, forests, wildlife, plants, and biodiversity.

Ques. What are three reasons conserve water?

Ans. Saving water has a good impact on you and your immediate surrounds since it saves energy, pollutes the environment, removes water from plants and damages the soil, items consume much more water than we believe, and so on.

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.