Home   »   ‘द हिंदू’, ‘पीआईबी’, ‘इंडियन एक्सप्रेस’ एवं...

‘द हिंदू’, ‘पीआईबी’, ‘इंडियन एक्सप्रेस’ एवं अन्य समाचार पत्रों का दैनिक सार: 28 जून, 2021

दैनिक समाचार सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी को गति प्रदान करेंगे एवं ये समसामयिक विषयों को व्यापक रूप से समझने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। यहां हमने राष्ट्रीय, अंतर्राष्ट्रीय, खेल, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी इत्यादि समेत विभिन्न श्रेणियों से संबंधित अधिकांश प्रसंगों को समाविष्ट किया है।

 

1. यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी प्रथम विकलांग अंतरिक्ष यात्री को नियुक्त करेगी

समाचारों में क्यों है?

यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी विश्व के प्रथम शारीरिक रूप से अक्षम अंतरिक्ष यात्री को नियुक्त करने और प्रक्षेपित करने हेतु आशान्वित है और कई सौ पैरा-अंतरिक्ष यात्री पहले ही  इस भूमिका के लिए आवेदन कर चुके हैं, ईएसए प्रमुख जोसेफ एशबैकर ने हाल ही में रायटर को बताया।

मुख्य बिंदु हैं:

– 22-सदस्यीय अंतरिक्ष कार्यक्रम ने अंतरिक्ष यात्रियों के लिए अपनी नवीनतम दशकीय भर्ती की मांग को अभी बंद कर दिया है और 22,000 आवेदक प्राप्त किए हैं, एशबैकर ने कहा।

– ईएसए, जिसका एरियन रॉकेट कभी वाणिज्यिक उपग्रह प्रक्षेपण के लिए बाजार पर वर्चस्व था, को जेफ बेजोस के ब्लू ओरिजिन और एलोन मस्क के स्पेसएक्स जैसे तकनीकी-वित्त पोषित अपस्टार्ट से सदैव कड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ता है।

– अमेजन के संस्थापक बेजॉस आशान्वित हैं कि अगले महीने वह अपने स्वयं के रॉकेट पर अंतरिक्ष में जाने वाले प्रथम व्यक्ति बन जाएंगे, जो कि तकनीकी अरबपतियों की एक ऐसे क्षेत्र में बढ़ती भूमिका निभाने पर प्रकाश डालते हैं, जो कभी सार्वजनिक एजेंसियों के प्रभुत्व में था।

– चुनौतियाँ अत्यंत व्यापक हैं: ईएसए का 7 बिलियन यूरो का बजट नासा का एक तिहाई है, जबकि एक वर्ष में इसके सात या आठ प्रक्षेपण संयुक्त राज्य अमेरिका द्वारा किए गए 40 से वामन हैं।

– इस वर्ष के रोजगार विज्ञापन ने एक दशक पूर्व प्राप्त 8,000 आवेदनों का लगभग तीन गुना आकर्षित किया, और उनमें से एक चौथाई महिलाएं थीं, जो पूर्व में मात्र 15% थी। ईएसए ने विकलांग व्यक्तियों जैसे छोटे पैर वाले, द्वारा, एक संपूर्ण भूमिका निभाने को सुनिश्चित करने के लिए प्रौद्योगिकियों को विकसित करने का वादा किया है।

– और वे अंतरिक्ष यात्री अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन से आगे जाएंगे: कुछ चंद्रमा पर संयुक्त राज्य अमेरिका के नियोजित गेटवे स्टेशन पर परिनियोजित होंगे, जबकि ईएसए के सदस्य राज्य चीनी और रूसी अंतरिक्ष एजेंसियों से उनके तुल्य चंद्र आधारित परियोजना में सहभागिता के निमंत्रण पर विचार कर रहे हैं।

यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी (ईएसए) के बारे में

ईएसए एक अंतर सरकारी संगठन है जिसमें 22 सदस्य देश सम्मिलित हैं। 1975 में स्थापित एजेंसी, अंतरिक्ष के अन्वेषण के लिए समर्पित है। इसका मुख्यालय पेरिस में है। इसके अंतरिक्ष उड़ान कार्यक्रम में मानवयुक्त अंतरिक्ष उड़ान, अन्य ग्रहों और चंद्रमा के लिए मानव रहित अन्वेषण मिशनों का प्रक्षेपण और संचालन, पृथ्वी अवलोकन, विज्ञान और दूरसंचार आदि शामिल हैं

‘द हिंदू’, ‘पीआईबी’, ‘इंडियन एक्सप्रेस’ एवं अन्य समाचार पत्रों का दैनिक सार: 28 जून, 2021_40.1

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

 

2. सांख्यिकी दिवस

समाचारों में क्यों है?

इसे राष्ट्रीय स्तर पर मनाये जाने वाले विशेष दिनों में सेएक के रूप में नामित किया गया है और 29 जून को स्वर्गीय प्रो. पीसी महालनोबिस की जयंती पर राष्ट्रीय सांख्यिकी प्रणाली की स्थापना में उनके अमूल्य योगदान की मान्यता में, मनाया जाता है।

मुख्य बिंदु हैं:

– सरकार सांख्यिकी दिवस मनाती रही है, ताकि नित्य प्रति के जीवन में सांख्यिकी के उपयोग को लोकप्रिय बनाया जा सके और जनता को जागरूक किया जा सके कि सांख्यिकी नीतियों को आकार देने और गठन करने में किस प्रकार सहायता करती है।

– इस वर्ष, कोविड-19 महामारी के कारण, सांख्यिकी दिवस, 2021 का मुख्य कार्यक्रम नीति आयोग, नई दिल्ली में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग / वेबकास्टिंग के माध्यम से आयोजित किया जा रहा है।

– केंद्र/राज्य सरकारों के वरिष्ठ अधिकारी और अन्य हितधारक भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग/वेबकास्टिंग के माध्यम से कार्यक्रम में भाग लेंगे।

– प्रत्येक वर्ष, वर्तमान राष्ट्रीय महत्व की एक विशेष विषयवस्तु क्षेत्र की सांख्यिकीय प्रणालियों में सुधार और डेटा अंतराल को भरने की दिशा में केंद्रित परिचर्चा के लिए चयनित किया जाता है।

– सांख्यिकी दिवस, 2021 की विषयवस्तु सतत विकास लक्ष्य (एसडीजी) – 2 (भूख को समाप्त करना, खाद्य सुरक्षा और बेहतर पोषण प्राप्त करना और सतत कृषि को प्रोत्साहन देना) है।

– इस अवसर पर, एमओएसपीआई आधिकारिक सांख्यिकीय प्रणाली को लाभान्वित करने वाले व्यावहारिक और सैद्धांतिक सांख्यिकी के क्षेत्र में उच्च गुणवत्ता वाले शोध कार्य के लिए उत्कृष्ट योगदान को भी मान्यता प्रदान करता है।

– इस वर्ष, आधिकारिक सांख्यिकी में प्रो. पी. सी. महालनोबिस राष्ट्रीय पुरस्कार, 2021 और युवा सांख्यिकीविद् के लिए प्रो. सी. आर. राव राष्ट्रीय पुरस्कार, 2021 के विजेताओं की घोषणा इस कार्यक्रम के दौरान की जाएगी।

– अखिल भारतीय स्तर पर आयोजित सांख्यिकी से संबंधित विषय पर स्नातकोत्तर छात्रों के लिए ‘ऑन द स्पॉट निबंध लेखन प्रतियोगिता, 2021’ के विजेताओं को भी सम्मानित किया जाएगा।
Daily Gist of ‘The Hindu’, ‘PIB’, ‘Indian Express’ and Other Newspapers: 28 June, 2021

 

3. फेम योजना का 2024 तक विस्तार

समाचारों में क्यों है?

केंद्र सरकार ने फास्टर एडॉप्शन एंड मैन्युफैक्चरिंग ऑफ हाइब्रिड एंड इलेक्ट्रिक व्हीकल्स (फेम) योजना के दूसरे चरण को दो साल के लिए 31 मार्च 2024 तक बढ़ाने का फैसला किया।

प्रमुख बिंदु हैं:

– उद्योग के अधिकारियों और विश्लेषकों ने कहा कि आने वाले वर्षों में, यह विशेष रूप से दोपहिया और तिपहिया खंड में, इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री को बढ़ाने में सहायता करेगा।

– इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री को बढ़ावा देने के लिए 2019 में आरंभ की गई योजना, 2022 तक समाप्त होनी संभावित थी।

– भारी उद्योग विभाग द्वारा इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर्स (ई2Weई) के लिए मांग प्रोत्साहन 10,000 रुपये / किलो वाट घंटा से बढ़ाकर 15,000 रुपये / किलोवाट घंटा करने के पश्चात तिथि में वृद्धि कर दी गई थी।

फेम योजना के बारे में

– यह योजना राष्ट्रीय विद्युत गतिशीलता मिशन योजना का एक हिस्सा है। सब्सिडी प्रदान करके इलेक्ट्रिक वाहनों को प्रोत्साहित करने के लिए योजना आरंभ की गई थी।

– इस योजना का उद्देश्य सभी वाहन खंडों को प्रोत्साहन प्रदान करना है। इसे दो चरणों में  विमोचित किया गया था।  प्रथम चरण 2015 में आरंभ किया गया था और 31 मार्च, 2019 को समाप्त हुआ था।

– जबकि, द्वितीय चरण अप्रैल 2019 से आरंभ हुआ था और 2024 में समाप्त होगा (पूर्व में 2022 में समाप्त होना था)। योजना का अनुश्रवण भारी उद्योग और सार्वजनिक उद्यम मंत्रालय के अंतर्गत भारी उद्योग विभाग द्वारा  किया जाता है।

‘द हिंदू’, ‘पीआईबी’, ‘इंडियन एक्सप्रेस’ एवं अन्य समाचार पत्रों का दैनिक सार: 28 जून, 2021_50.1

UPSC प्रीलिम्स (पेपर- I + पेपर- II) 2021 ऑनलाइन टेस्ट सीरीज़

 

4. वर्ल्ड ड्रग रिपोर्ट 2021

समाचारों में क्यों है?

हाल ही में, मादक द्रव्य एवं अपराध पर संयुक्त राष्ट्र कार्यालय (यूएनओडीसी) ने अपनी वर्ल्ड ड्रग रिपोर्ट 2021 में इस बात पर प्रकाश डाला है कि कोविड -19 के दौरान लॉकडाउन प्रतिबंधों ने इंटरनेट का उपयोग करके मादक द्रव्यों की तस्करी को गति प्रदान की है।

प्रमुख बिंदु हैं:

– 2010-2019 के मध्य, वैश्विक जनसंख्या में वृद्धि के कारण, मादक द्रव्य (ड्रग्स) का उपयोग करने वाले लोगों की संख्या में 22% की वृद्धि हुई है।

– पिछले वर्ष विश्व भर में अनुमानतः 275 मिलियन लोगों ने मादक द्रव्यों का इस्तेमाल किया, जबकि 36 मिलियन से अधिक व्यक्ति मादक द्रव्य प्रयोग विकार से पीड़ित थे।

– मादक द्रव्यों के उपयोग के कारण होने वाले रोगों के सर्वाधिक भार के लिए ओपियोइड्स उत्तरदायी है।

– कोरोनावायरस महामारी के दौरान औषधीय दवाओं के गैर-चिकित्सीय उपयोग में भी वृद्धि देखी गई।

– पिछले 24 वर्षों में, कुछ हिस्सों में भांग की शक्ति चार गुना तक बढ़ गई थी, यहां तक ​​​​कि किशोरों का प्रतिशत जो ड्रग को हानिकारक मानते थे, उनमें 40% तक की गिरावट आई।

– भांग में प्रमुख मनो-सक्रिय घटक, Δ9-टीएचसी, दीर्घ अवधि में मानसिक स्वास्थ्य विकारों के विकास के लिए उत्तरदायी है।

– इसके पीछे कारण भांग उत्पादों का आक्रामक विपणन और सोशल मीडिया चैनलों के माध्यम से प्रचार है।

– ऑनलाइन बिक्री के साथ मादक द्रव्यों तक पहुंच भी पूर्व की तुलना में अधिक सुगम हो गई है, और डार्क वेब पर प्रमुख मादक द्रव्य बाजारों की कीमत अब लगभग 315 मिलियन डॉलर वार्षिक है।

– एशिया में, चीन और भारत मुख्य रूप से 2011-2020 में विश्लेषित 19 प्रमुख डार्कनेट बाजारों में बेची जाने वाली मादक द्रव्यों के शिपमेंट से संबंधित हैं।

– डार्क वेब पर स्वापक मादक द्रव्यों के लेनदेन में भांग हावी है और क्लियर वेब पर स्वापक मादक द्रव्यों और मनःप्रेरक पदार्थों (एनडीपीएस) और सिंथेटिक मादक द्रव्यों के निर्माण में उपयोग किए जाने वाले पदार्थों की बिक्री शामिल है।

 

 

5. ईडी ने बैंकों को ₹8,441.50 करोड़ की संपत्ति हस्तांतरित की

समाचारों में क्यों है?

प्रवर्तन निदेशालय ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को 8,441.50 करोड़ रुपए की संपत्ति हस्तांतरित की है, जिन्हें विजय माल्या, नीरव मोदी और मेहुल चौकसी द्वारा कथित रूप से किए गए धोखाधड़ी के कारण 22,585.83 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है।

मुख्य बिंदु हैं:

– ईडी ने एक मनी लॉन्ड्रिंग जांच आरंभ की थी, जिसने घरेलू और अंतरराष्ट्रीय लेनदेन के एक संजाल एवं आरोपी व्यक्तियों और उनके सहयोगियों द्वारा विदेशों में छुपा कर रखे गए परिसंपत्तियों का पता लगाने में सहायता की।

– उन्होंने बैंकों द्वारा उपलब्ध कराए गए धन के आवर्तन और गबन करने के लिए स्वयं द्वारा नियंत्रित नकली संस्थाओं का इस्तेमाल किया था। किंतु, तीनों आरोपी विदेश भाग गए थे।

– तीनों आरोपियों के विरुद्ध प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत जांच पूरी होने के पश्चात अभियोजन वाद दर्ज कराई गई थी।

– श्री माल्या के प्रत्यर्पण का आदेश वेस्टमिंस्टर दंडाधिकारी न्यायालय ने  दे दिया है और ब्रिटेन के उच्च न्यायालय ने इसकी पुष्टि की है। यह मामला ब्रिटेन के गृह विभाग के पास काफी समय से लंबित है।

– वेस्टमिंस्टर दंडाधिकारी न्यायालय ने भी श्री मोदी के भारत प्रत्यर्पण का आदेश दिया था। श्री चोकसी हाल ही में डोमिनिका में मिले थे।

प्रवर्तन निदेशालय के बारे में

– इस निदेशालय की उत्पत्ति 1 मई, 1956 को हुई, जब विदेशी मुद्रा विनियमन अधिनियम, 1947 (फेरा ’47) के तहत विनिमय नियंत्रण कानूनों के उल्लंघन से निपटने के लिए आर्थिक मामलों के विभाग में एक ‘प्रवर्तन इकाई’ का गठन किया गया था।

– वर्ष 1957 में इस इकाई का नाम परिवर्तित कर ‘प्रवर्तन निदेशालय’ कर दिया गया।

– वर्तमान में, यह राजस्व विभाग, वित्त मंत्रालय का हिस्सा है।

– संगठन को दो विशेष वित्तीय कानूनों – विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम, 1999 (फेमा) और धन शोधन निवारण अधिनियम, 2002 (पीएमएलए) के प्रावधानों को लागू करने का कार्य सौंपा गया है।

‘द हिंदू’, ‘पीआईबी’, ‘इंडियन एक्सप्रेस’ एवं अन्य समाचार पत्रों का दैनिक सार: 28 जून, 2021_60.1

UPSC CSE की तैयारी के लिए मुफ्त वीडियो प्राप्त करें और IAS/IPS/IRS बनने के अपने सपने को साकार करें

 

6. एफएटीएफ ने पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में बरकरार रखा

समाचारों में क्यों है?

फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) ने शुक्रवार (25 जून, 2021) को पाकिस्तान को 27 में से 26 शर्तों को पूरा करने के बावजूद अपनी ग्रे लिस्ट में बनाए रखा और इस्लामाबाद को वैश्विक दबाव की रणनीति से अवगत कराते हुए एक नई छह-सूत्रीय कार्य योजना सौंपी।

मुख्य बिंदु इस प्रकार हैं:

– एफएटीएफ ने जून 2018 में पाकिस्तान को ‘ग्रे लिस्ट’ में रखने के बाद 27-सूत्रीय कार्य योजना जारी की थी। कार्य योजना मनी लॉन्ड्रिंग औरआतंकवाद के वित्तीयन पर अंकुश लगाने से संबंधित है।

– संपूर्ण अक्टूबर-2020 के दौरान, कोविड-19 महामारी के कारण, पाकिस्तान को 27-सूत्रीय कार्य योजना के पूर्ण अनुपालन के लिए फरवरी 2021 तक विस्तार दिया गया था।

– तब उसने 27 निर्देशों में से 6 का पूर्णतः अनुपालन नहीं किया था।

– फरवरी 2021 में, एफएटीएफ ने आतंकवाद का मुकाबला करने में पाकिस्तान की महत्वपूर्ण प्रगति को स्वीकार किया, हालांकि उसे अभी भी 27-सूत्रीय कार्य योजना में से तीन का पूर्णतः अनुपालन करना था।

– तीन बिंदु, वित्तीय प्रतिबंधों और आतंकी वित्तीयन के आधारिक संरचना और इसमें सम्मिलित संस्थाओं के विरुद्ध दंड के संदर्भ में प्रभावी कदमों से संबंधित हैं।

एफएटीएफ के बारे में

– एफएटीएफ ने कहा कि पाकिस्तान 26/11 के आरोपी हाफिज सईद और जेईएम प्रमुख मसूद अजहर जैसे संयुक्त राष्ट्र द्वारा नामित आतंकवादियों के विरुद्ध उचित कार्रवाई करने में विफल रहा है। हालांकि, पाकिस्तान ने 27 में से 26 कार्य अंशों को पूरा कर लिया है।

– एफएटीएफ पाकिस्तान को आतंकवाद से संबंधित एक शेष आतंकवाद के वित्तपोषण के प्रत्युत्तर(सीएफटी) से संबंधित एक शेष मद संयुक्त राष्ट्र द्वारा नामित आतंकवादी समूहों के वरिष्ठ नेताओं और कमांडरों को लक्षित कर अभियोजन को यथाशीघ्र संबोधित करने के लिए प्रगति जारी रखने के लिए प्रोत्साहित करता है।

– इसके अतिरिक्त, एफएटीएफ ने मुख्य रूप से मनी लॉन्ड्रिंग कार्रवाइयों को पूरा करने के लिए भी कार्यों की एक अन्य 6-सूत्रीय सूची सौंपी है।

‘द हिंदू’, ‘पीआईबी’, ‘इंडियन एक्सप्रेस’ एवं अन्य समाचार पत्रों का दैनिक सार: 25 जून, 2021

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.