Latest Teaching jobs   »   UPTET Online Test – Hindi Questions...

UPTET Online Test – Hindi Questions for UPTET Exam | 2nd August 2019

UPTET Online Test – Hindi Questions for UPTET Exam | 2nd August 2019_30.1

हिंदी भाषा TET परीक्षा का एक महत्वपूर्ण भाग है इस भाग को लेकर परेशान होने की जरुरत नहीं है .बस आपको जरुरत है तो बस एकाग्रता की. ये खंड न सिर्फ CTET Exam (परीक्षा) में एहम भूमिका निभाता है अपितु दूसरी परीक्षाओं जैसे UPTET, KVS,NVS DSSSB आदि में भी रहता है, तो इस खंड में आपकी पकड़, आपकी सफलता में एक महत्वपूर्ण कदम साबित हो सकती है.TEACHERS ADDA आपके इस चुनौतीपूर्ण सफ़र में हर कदम पर आपके साथ है।

Q1. “राग दरबारी” (उपन्यास) के रचयिता हैं-


(a) हजारी प्रसाद द्विवेदी
(b) श्री लाल शुक्ल
(c) जयशंकर प्रसाद
(d) महावीर प्रसाद द्विवेदी

Q2. ‘संकीर्ण’ का विलोम, नीचे दिए गए विकल्पों में से चुनें।
(a) कुंठित
(b) विस्तीर्ण
(c) अजीर्ण
(d) तीक्ष्ण

Q3. निम्नलिखित में से कौन-सी भाषा देवनागरी लिपि में लिखी जाती है?
(a) गुजरती
(b) उड़िया
(c) मराठी
(d) पंजाबी

Q4. “तरनि तनुजा तट तमाल तरुवर बहु छाए”, इसमें कौन सा अलंकार है?
(a) अनुप्रास
(b) यमक
(c) उत्प्रेक्षा
(d) उपमा

Q5. ‘विद्युत’ शब्द के लिए नीचे दिए विकल्पों में से पर्यायवाची शब्द छाँटिए –
(a) यामिनी
(b) दामिनी
(c) चमक
(d) पयोद

Q6. फणीश्वर नाथ ‘रेणु’ किसके लेखक हैं?
(a) गबन
(b) गीतांजली
(c) मैला आँचल
(d) कामायनी

Q7. य, र, ल, व – किस वर्ग के व्यंजन हैं?
(a) तालव्य
(b) ऊष्म
(c) अन्त:स्थ
(d) ओष्ठ्य

Q8. ‘जीतने की इच्छा’, इस वाक्य खंड के लिए नीचे दिए गए विकल्पों में से एक शब्द चुनिए:
(a) जिजीविषा
(b) जिगीषा
(c) युयुत्सा
(d) शुभेच्छा

Q9. ‘स्थावर’ का विलोम, नीचे दिए गए विकल्पों में से चुनें।
(a) प्रखर
(b) आभ्यंतर
(c) चेतन
(d) जंगम

Q10. निम्नलिखित में से कौन सी बोली अथवा भाषा हिन्दी के अंतर्गत नहीं आती है ?
(a) कन्नौजी
(b) बांगरू
(c) अवधी
(d) तेलुगू 

उत्तरतालिका

S1. Ans. (b): “राग दरबारी” (उपन्यास) के रचयिता हैं- श्री लाल शुक्ल।

S2. Ans. (b): ‘संकीर्ण’ का विलोम शब्द ‘विस्तीर्ण’ है। अजीर्ण का अर्थ है- जो जर्जर या बूढ़ा न हो। तीक्ष्ण का अर्थ है- तीव्र, तेज धार या नोंकवाला, पैना, तीखा, चटपटा।

S3. Ans. (c): देवनागरी एक लिपि है जिसमें अनेक भारतीय भाषाएँ तथा कुछ विदेशी भाषाएं लिखीं जाती हैं। संस्कृत, पालि, हिन्दी, मराठी, कोंकणी, सिन्धी, कश्मीरी, नेपाली, तामाङ भाषा, गढ़वाली, बोडो, अंगिका, मगही, भोजपुरी, मैथिली, संथाली आदि भाषाएँ देवनागरी में लिखी जाती हैं।

S4. Ans. (a): “तरनि तनुजा तट तमाल तरुवर बहु छाए”, इसमें अनुप्रास अलंकर है। अनुप्रास शब्द ‘अनु’ तथा ‘प्रास’ शब्दों से मिलकर बना है। ‘अनु’ शब्द का अर्थ है- बार- बार तथा ‘प्रास’ शब्द का अर्थ है- वर्ण। जिस जगह स्वर की समानता के बिना भी वर्णों की बार -बार आवृत्ति होती है, उस जगह अनुप्रास अलंकार होता है।
उदाहरण:- “चारु- चन्द्र की चंचल किरणें, खेल रही थी जल- थल में।”

S5. Ans. (b): ‘विद्युत’ शब्द का पर्यायवाची ‘दामिनी’ है। दामिनी का अर्थ है -आसमान में चकमने वाली बिजली, विद्युत आदि। ‘यामिनी’ रात्रि का पर्यायवाची शब्द है।

S6. Ans. (c): फणीश्वर नाथ ‘रेणु’, ‘मैला आँचल’ के लेखक हैं।

S7. Ans. (c): य, र, ल, व – अन्त:स्थ वर्ग के व्यंजन हैं। अन्तःस्थ व्यंजन = इन व्यंजनों का उच्चारण जीभ, तालु, दन्त, ओष्ठ के स्पर्श से होता है किन्तु ये अंग कहीं भी एक-दूसरे का पूर्ण स्पर्श नहीं करते। अतः इन्हें अन्तःस्थ व्यंजन कहते है। इनकी संख्या चार है- य, र, ल, व।

S8. Ans. (b): ‘जीतने की इच्छा’ – जितने की इच्छा। जिजीविषा- जीने की इच्छा। युयुत्सा -युद्ध करने की इच्छा।

S9. Ans. (d): ‘स्थावर’ का विलोम शब्द ‘जंगम है। स्थावर का अर्थ है- एक ही स्थान पर बने रहने वाला। जंगम का अर्थ है- चलने-फिरने वाला।

S10. Ans. (d): हिन्दी की अनेक बोलियाँ (उपभाषाएँ) हैं, जिनमें अवधी, ब्रजभाषा, कन्नौजी, बुंदेली, बघेली, भोजपुरी, हरयाणवी, राजस्थानी, छत्तीसगढ़ी, मालवी, झारखंडी, कुमाउँनी, मगही आदि प्रमुख हैं।


Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published.