Latest Teaching jobs   »   Hindi Questions For CTET/KVS/DSSSB Exam :...

Hindi Questions For CTET/KVS/DSSSB Exam : 11th September 2018 (Solutions)

Hindi Questions For CTET/KVS/DSSSB Exam : 11th September 2018 (Solutions)_30.1
हिंदी भाषा CTET परीक्षा का एक महत्वपूर्ण भाग है इस भाग को लेकर परेशान होने की जरुरत नहीं है .बस आपको जरुरत है तो बस एकाग्रता की. ये खंड न सिर्फ CTET Exam (परीक्षा) में एहम भूमिका निभाता है अपितु दूसरी परीक्षाओं जैसे UPTET, KVS,NVS DSSSB आदि में भी रहता है, तो इस खंड में आपकी पकड़, आपकी सफलता में एक महत्वपूर्ण कदम साबित हो सकती है.CTET ADDA आपके इस चुनौतीपूर्ण सफ़र में हर कदम पर आपके साथ है।



पद्यांश 1

रवि जग में शोभा सरसाता, सोम सुधा बरसाता । 
सब हैं लगे कर्म में, कोई निष्क्रिय दृष्टि न आता । 
है उद्देश्य नितान्त तुच्छ तृण के भी लघु जीवन का। 
उसी पूर्ति में वह करता है अन्त कर्ममय तन का ।। 
तुम मनुष्य हो, अमित बुद्धि-बल-विलसित जन्म तुम्हारा। 
क्या उद्देश्य रहित हो जग में, तुमने कभी विचारा? 
बुरा न मानों एक बार सोचो तुम अपने मन में 
क्या कर्तव्य समाप्त कर लिया तुमने निज जीवन में


जिस पर गिरकर उदर-दरी से तुमने जन्म लिया है, 
जिसका खाकर अन्न सुधासम नीर, समीर पिया है। 
वही स्नेह की मूर्ति दयामयि माता तुल्य मही है।
उसके प्रति कर्त्तव्य तुम्हारा क्या कुछ शेष नही है? 


Q1. यह कविता क्या प्रेरणा देती है? 
(a) देश-प्रेम
(b) निरन्तर कर्म 
(c) निरन्तर गति
(d) सोच-विचार 


Q2. ‘सोम’ शब्द का पर्यायवाची है
(a) शराब 
(b) शहद 
(c) अमृत 
(d) चन्द्रमा


Q3. ‘निष्क्रिय’ शब्द का विपरीतार्थक लिखिए। 
(a) अक्रिय 
(b) सक्रिय 
(c) क्रियान्वयन 
(d) क्रियान्वित 


Q4, कवि को निरन्तर कर्म करने की प्रेरणा कौन देता है? 
(a) रवि 
(b) चन्द्रमा 
(c) तृण 
(d) प्रकृति


Q5. ‘है उद्देश्य नितान्त तुच्छ तृण के भी लघु जीवन का’ पंक्ति का आशय है
(a) प्रत्येक व्यक्ति का महत्त्व है
(b) अमीर व्यक्तियों का महत्त्व है
(c) जीवन लक्ष्यहीन होता है
(d) केवल सभ्य व्यक्तियों का महत्त्व होता है  


Q6. निष्क्रिय में प्रयुक्त उपसर्ग है
(a) नि 
(b) निस् 
(c) निति 
(d) इय


पद्यांश 2


हारा हूँ सौ बार 
गुनाहों से लड़लड़कर 
लेकिन बारम्बार लड़ा हूँ
मैं उठ-उठ कर 
इससे मेरा हर गुनाह भी मुझसे हारा 
मैंने अपने जीवन को इस तरह उबारा 
डूबा हूँ हर रोज 
किनारे तक आ-आकर 
लेकिन मैं हर रोज उगा हूँ जैसे दिनकर 
इससे मेरी असफलता भी मुझसे हारी
मैंने अपनी सुन्दरता इस तरह सँवारी। 


Q7. ‘किनारे तक आकर डूबने’ का अर्थ है
(a) काम तमाम होना 
(b) प्रयत्न व्यर्थ जाना 
(c) सफलता के समीप होकर भी नल न होना
(d) हार जाना 


Q8. कवि सूर्य का उदाहरण देकर या बताना चाहते हैं
(a) हार के बाद फिर संघर्ष करना 
(b) संसार में सुखमा साताराणा लाना
(c) क्रोध में आकर आग बरसा 
(d) ये सभी 


Q9. ‘उठ-उठ’ में अलकार है
(a) अनुप्रास 
(b) पुनरुक्तिप्रकाश
(c) उपमा
(d) रूपक


Q10. असफलता में प्रयुक्त उपसर्ग है
(a) ता
(b) अस
(c) लता
(d) अ


Solutions



पद्यांश-1
S1. Ans. (b)
Sol.


S2. Ans. (c)
Sol.


S3. Ans. (a)
Sol.


S4. Ans. (d)
Sol.


S5. Ans. (b)
Sol.


S6. Ans. (d)
Sol.


पद्यांश-2


S7. Ans. (a)
Sol.


S8. Ans. (a)
Sol.


S9. Ans. (c)
Sol.


S10. Ans. (d)
Sol.



You may also like to read: