Latest Teaching jobs   »   Hindi Questions For CTET/KVS Exam :1st...

Hindi Questions For CTET/KVS Exam :1st December 2018(Solutions)

Hindi Questions For CTET/KVS Exam :1st December 2018(Solutions)_30.1
हिंदी भाषा CTET परीक्षा का एक महत्वपूर्ण भाग है इस भाग को लेकर परेशान होने की जरुरत नहीं है .बस आपको जरुरत है तो बस एकाग्रता की. ये खंड न सिर्फ CTET Exam (परीक्षा) में एहम भूमिका निभाता है अपितु दूसरी परीक्षाओं जैसे UPTET, KVS,NVS DSSSB आदि में भी रहता है, तो इस खंड में आपकी पकड़, आपकी सफलता में एक महत्वपूर्ण कदम साबित हो सकती है.TEACHERS ADDA आपके इस चुनौतीपूर्ण सफ़र में हर कदम पर आपके साथ है।
निर्देश(1-6): दिये गये अनुच्छेद को पढ़िए और प्रश्नो के लिए सही विकल्प का चयन कीजिए:
सवाल बस के मासिक पास से समबन्धित था। उनसे पूछा जाता था कि मासिक पास बनवाना सस्ता पड़ता है या हर बार आते-जाते बस में बैठने पर टिकट खरीदना सस्ता पड़ता है। इस खास सवाल के जवाब के अनुसार महीने के कार्य दिवसों की संख्या को देखते हुए हर बार टिकट खरीदना सस्ता पड़ता था। फिर इस सवाल में कुछ चीजों को मानकार चला जा रहा था और ये चीजें बच्चों या उनके अभिभावकों के यथार्थ से मेल नहीं खाती थीं। बच्चे अच्छी तरह जानते थे कि वह उत्तर गलत है। अखिर उनमें से अनेक के अभिभावक परिवार के भरण-पोषण के लिए दो-दो अल्पकालिक काम करते थे। इस तरह इन बच्चों का अनुभव यह था कि हर आदमी को काम पर जाने और आने के लिए दिन में कम-से-कम चार बार बस बदलनी पड़ती थी। और काम भी ऐसा था जिसमें न कोई भत्ता था न कोई आगे की राह और पगार भी कम थी। यह पाठ्यक्रम स्पष्टतः थोड़ा पक्षपातपूर्ण और संवदेनाशून्य था, लेकिन अध्यापक ने पाठ्यक्रम के इस पक्षपात का भी रचनात्मक ढंग से उपयोग कर लिया। उसने पूछा कि बताओ इस उदाहरण में क्या गलत है और सोचो कि गणित तुम्हें अपनी और अपने अभिभावकों की रोजमर्रा की जिन्दगी को समझने में कैसे मदद करता है।
Q1. बच्चों को उत्तर गलत लगा क्योंकि –
(a) उत्तर गलत था
(b) प्रश्न गलत था
(c) उनके जीवन के वास्तविक अनुभव के अनुसार हर बार टिकट खरीदना सस्ता नहीं था
(d) उनके अभिभावकों को चार बार बस बदलनी पड़ती थी
Q2. अनुच्छेद के आधार पर कहा जा सकता है किं-
(a) पाठ्यक्रम को पक्षपातपूर्ण नहीं होना चाहिए
(b) पाठ्यक्रम को संवेदनाशून्य नहीं होना चाहिए
(c) पाठ्यक्रम में रचनात्मकता होनी चाहिए
(d) गलत चीज का भी सृजनात्मक प्रयोग किया जा सकता है
Q3. विषय का अध्यापन तब बेहतर होता है, जब-
(a) वह बहुत ज्यादा बोझिल न हो
(b) वह विद्यार्थियों की जिन्दगी से जुड़ा हो और उसकी व्यावहारिक उपयोगिता हो
(c) उसमें पक्षपात न हो
(d) वह संवेदनशून्य न हो
Q4. जब बतायी गयी बाते बच्चों के यथार्थ से मेल खाती हैं, तो-
(a) उत्तर गलत नहीं होते
(b) बच्चों को अच्छा लगता है
(c) बच्चों को समझने में आसानी होती है
(d) पाठ्यक्रम पक्षपातपूर्ण नहीं होता
Q5. पाठ्यक्रम निर्माण करते समय-
(a) परंपरा का ध्यान रखना चाहिए
(b) विद्यार्थी की पसंद-नापसंद को महत्व देना चाहिए
(c) परिवेश के अनुभवों का समावेश करना चाहिए
(d) इनमें से कोई नहीं
Q6. ‘काम भी ऐसा था जिसमें न कोई भत्ता था, न कोई आगे की राह और पगार भी कम थी’ इस वाक्य से पता चलता है-
(a) काम करने वाले मेहनती नहीं थे 
(b) जहाँ काम होता था, वहाँ मालिक गरीब थे
(c) काम करने के अवसरों का अभाव था
(d) इनमें से कोई नहीं
निर्देश(7-10):निम्नलिखित प्रश्नो के लिए सही विकल्प का चयन कीजिए:
Q7. हिन्दी में कारक के विभक्तियों सहित कितने भेद माने जाते हैं ?
(a) 8
(b) 14
(c) 7
(d) 10
Q8. ‘धनुष्टंकार’ का सन्धि-विच्छेद होगा-
(a) धनुष + टंकार
(b) धनुस + टंकार
(c) धनुः + टंकार
(d) धुनश + टंकार
Q9. ‘सकाम’ का विलोम है –
(a) सुकर्म
(b) निष्काम
(c) समादृत
(d) इनमें से कोई नहीं
Q10. ‘मुट्टी गरम करना’ मुहावरे का सही अर्थ है –
(a) वेतन देना
(b) रिश्वत देना
(c) लालच देना
(d) कर्ज देना
उत्तरतालिका
S1. Ans.(c)
Sol. बच्चों को उत्तर गलत लगा, क्योंकि उनके जीवन के वास्तविक अनुभव के अनुसार हर बार टिकट खरीदना सस्ता नहीं था।
S2. Ans.(c
Sol. अनुच्छेद के आधार पर कहा जा सकता है कि पाठ्यक्रम में रचनात्मकता होनी चाहिए।
S3. Ans.(b)
Sol. विषय का अध्यायन – अध्यापन तब बेहतर होता है, जब वह विद्यार्थीयों की जिन्दगी से जुड़ा हो और उसकी व्यावहारिक उपयोगिता हो।
S4. Ans.(a)
Sol. जब बतायी गयी बातें के यथार्थ से मेल खाती हैं, तो उत्तर गलत नहीं होते।
S5. Ans.(c)
Sol. पाठ्यक्रम निर्माण करते समय परिवेश के अनुभवों को समावेश करना चाहिए।
S6. Ans.(c)
Sol. ‘काम भी ऐसा था जिसमें न कोई भत्ता था, न कोई आगे की राह और पगार भी कम थी’, इस वाक्य से पता चलता है कि काम करने के अवसरों का अभाव था।
S7. Ans.(a)
Sol. हिन्दी में कारक के विभक्तियों सहित कुल 8 भेद हैं, जो इस प्रकार हैं-
कारक विभक्ति
कर्ता ने
कर्म को
करण से, के द्वारा
सम्प्रदान के लिए, को
अपादान से (अलग होने के अर्थ में)
सम्बन्ध का, की, के, रा, री, रे
अधिकरण में, पर
सम्बोधन अरे!, हे!, अहो!, रे!
S8. Ans.(c)
Sol. ‘धनुष्टंकार ’ का सन्धि विच्छेद धनुः + टंकार होता है। यह विसर्ग सन्धि है।
S9. Ans.(b)
Sol. ‘सकाम’ का विलोम ‘निष्काम’ होता है। ‘समादृत’, ‘निरादृत’ का विलोम है।
S10. Ans.(b)
Sol. ‘मुट्टी गरम करना’ मुहावरे का सही अर्थ है – रिश्वत देना।
You may also like to read
Hindi Questions For CTET/KVS Exam :1st December 2018(Solutions)_40.1Hindi Questions For CTET/KVS Exam :1st December 2018(Solutions)_50.1
Hindi Questions For CTET/KVS Exam :1st December 2018(Solutions)_60.1