Latest Teaching jobs   »   Hindi Questions For CTET & DSSSB...

Hindi Questions For CTET & DSSSB 2017 Exam

Hindi Questions For CTET & DSSSB 2017 Exam_30.1


Directions (1-4): नीचे दिए पद्यांश को ध्यानपूर्वक पढ़िए और उस पर आधारित प्रश्नों के उत्तर दीजिए।
आग लग रही, घात चल रहे, विधि का लेखा !
काले बादल में छिपती चाँदी की रेखा !
मुझे मृत्यु को भीती नहीं है,
पर अनीति से प्रीति नहीं है,
यह मनजोचित रीति नहीं है,
जन में प्रीति प्रतीति नहीं है !
देश जातियों का कब होगा,
नव मानवता में रे एका,
काले बादल में कल की
सोने की रेखा !
Q1. ‘जन में प्रीति प्रतीति नहीं है’ पंक्ति में ________ अलंकार है।
(a) अनुप्रास अलंकार
(b) रूपक अलंकार
(c) यमक अलंकार
(d) उपमा अलंकार

Q2. ‘मानवता’ से जातिवाचक संज्ञा बनेगी –

(a) मनवीय
(b) मानव
(c) मानवीकरण
(d) मनु

Q3. ‘सोने की रेखा’ प्रतीक है- 

(a) उज्ज्वल भविष्य 
(b) सोने की जंजीर 
(c) आजादी का 
(d) सुनहरी रेखा 

Q4. “चारो ओर हाहाकार मचा है षड्यंत्र रचे जा रहे हैं यह भाग्य का लिखा है।” यह भाव किस पंक्ति में निहित हैं ?

(a) यह मनुजोचित रीति नहीं है
(b) जन में प्रीति प्रतीति नहीं है।
(c) आग लग रही, घात चल रहे, विधि का लेखा
(d) इनमे से कोई नहीं
Direction (5-9): नीचे दिए गए गद्यांश को ध्यानपूर्वक पढ़िए और उस पर आधारित प्रश्नों के उत्तर दीजिए।
वैसे तो भारतीय साहित्य में ऋग्वेद से ही अनेक सुन्दर प्रेमाख्यान उपलब्ध होने लगते हैं, किन्तु इसकी अखण्ड परम्परा का सूत्रपात महाभारत से होता है। इसका मूल कारण कदाचित यह है कि महाभारत काल से पूर्व जहाँ भारतीय समाज में अति मर्यादावादी दृष्टिकोण की प्रमुखता दिखाई पड़ती है, वहाँ महाभारतीय समाज में हम स्वच्छन्द-प्रणय भावना का उन्मीलन और विकास देखते हैं। महाभारत में वर्णित विभिन्न प्रसंगों से स्पष्ट है कि उस युग में प्रणय के क्षेत्र में जाति, कुल, वर्ण व लोक-मर्यादा का विचार बहुत कुछ शिथिल हो गया था।
सौन्दर्य की प्रेरणा से ही प्रेम और विवाह-सम्बन्ध स्थापित होने लगे थे। प्रेम और विवाह के क्षेत्र में आर्य-अनार्य का भेद भी लुप्त हो गया था। इसीलिए भीम असुर-कन्या हिडिम्बा से, अर्जुन नाग-कन्या चित्रांगदा से, कृष्ण ऋक्ष-कन्या जाम्बवती से विवाह कर लेते हैं। प्रणय-स्वप्नों की पूर्ति के लिए सामाजिक मर्यादाओं का उल्लंघन, नायिका का बलात् अपहरण व नायिका के संरक्षकों से यु़द्ध भी अनुचित नहीं माना जाता था। कृष्ण द्वारा रूक्मिणी का तथा अर्जुन द्वारा सुभद्रा का अपहरण तथा भीम-हिडिम्बा, प्रद्युम्न-प्रभावती, अनिरूद्ध-उषा प्रसंगों में नायिका के संरक्षकों से युद्ध इसी को प्रमाणित करता है। ऐसी स्थिति में यदि महाभारत से ही स्वच्छन्द प्रेमाख्यानों या रोमांस-साहित्य का प्रवर्तन माना जाए, तो यह अनुचित न होगा। महाभारत में समाविष्ट प्रासंगिक उपाख्यानों में सर्वाधिक महत्वपूर्ण नल-दमयन्ती उपाख्यान है जिसमें स्वच्छन्द प्रेम या रोमांस की वे सभी प्रवृत्तियाँ उपलब्ध होती हैं, जो परवर्ती प्रेमाख्यानक उपाख्यानों में भी बराबर प्रचलित रहीं हैं, यथा नायक-नायिका के अप्रत्यक्ष परिचय से ही प्रेम की उत्पत्ति, हंस द्वारा संदेशों का आदान-प्रदान, नायक-नायिका के मिलन में अनेक बाधाओं की उपस्थिति, परिस्थितिवश नायक-नायिका का विच्छेद एवं पुनर्मिलन, अस्तु महाभारत यदि प्रेमाख्यानों की आधारभूमि है, तो नल-दमयन्ती उपाख्यान उसका सर्वाधिक आकर्षक केन्द्र-बिन्दु है।

Q5. उपर्युक्त अवतरण का सर्वाधिक उपयुक्त शीर्षक है-
(a) ऋग्वेद तथा महाभारत
(b) प्रेम कथाओं की निरर्थकता
(c) प्रणय और युद्ध
(d) प्रेमाख्यान परम्परा और सूत्रपात

Q6. प्रणय और परिणय-समबन्धों के विषय में महाभारत के कई प्रसंग इस ओर संकेत करते हैं कि उस काल में-
(a) युद्ध के बिना कोई प्रेम-विवाह सार्थक नहीं होता था
(b) प्रेम और विवाह के क्षेत्र में आर्य-अनार्य का भेद लुप्त हो रहा था
(c) प्रेम में व्याभिचार के लिए स्थान नहीं था
(d) प्रणय-स्वप्नों की पूर्ति सभ्भव नहीं थीं।

Q7. हमारे साहित्य की प्राचीनतम रोमांटिक रचना उपलब्ध है-
(a) उपनिषदों में
(b) ऋग्वेद में
(c) महाभारत में
(d) प्रेमाख्यानक सूफी काव्य में

Q8. महाभारत-काल से पूर्व भारतीय समाज में किस दृष्टिकोण की प्रमुखता दिखाई पड़ती है?
(a) सौन्दर्य-प्रधान
(b) सौम्य
(c) अतिमर्यादित
(d) इनमे से कोई नहीं

Q9. प्रद्युम्न-प्रभावती प्रसंग और अनिरूद्ध-उषा प्रसंग में समानता है-
(a) उनके ऋग्वेद से सम्बद्ध होने से
(b) उनके सर्वाधिक निकृष्ट प्रासंगिक उपाख्यान होने से
(c) उनके सर्वाधिक आकर्षक प्रेमाख्यान होने में
(d) उनकी नायिकाओं के संरक्षकों से युद्ध होने से
Directions (10): नीचे कुछ वाक्यांश या शब्द समूह दिए गए हैं। उनके साथ चार ऐसे शब्द दिये गये हैं जो पूरे वाक्यांश या शब्द समूह का अर्थ एक शब्द में स्पष्ट कर देते हैं। आपको वह शब्द ज्ञात कर उसको उत्तर के रूप में दर्शाना है।


Q10. विनयपूर्वक कुछ कहना
(a) विनीत
(b) आवेदन
(c) निवेदन
(d) अर्जी
Solutions:
S1. Ans.(a)
S2. Ans.(b)
S3. Ans.(a)
S4. Ans.(c)
S5. Ans.(d)
S6. Ans.(b)
S7. Ans.(c)
S8. Ans.(c)
S9. Ans.(d)
S10. Ans.(c)