COVID-19 pandemic: सेरो सर्वे (Serosurvey) क्या है और यह क्या दर्शाता है?

जैसा कि हम जानते हैं कि कोरोनावायरस ने बड़ी संख्या में लोगों को संक्रमित किया है, लेकिन अभी तक यह स्पष्ट नहीं है कि अब तक कितने लोग संक्रमित हुए हैं।

दिसंबर 2019 से पूरी दुनिया में कोरोनावायरस फैल गया है और इस वायरस से COVID-19 नामक बीमारी होती है। संक्रमण दिनों-दिन बढ़ता जा रहा है। चुकि  यह एक नई बीमारी है अभी भी संक्रमण फैल रहे हैं। इस महामारी के बारे में बहुत अनिश्चितता है और अभी तक कितने लोग संक्रमित हैं, यह भी स्पष्ट नहीं है।

पिछले दो महीनों से दिल्ली, बैंगलोर, मुंबई और पुणे सहित देश भर के कई शहरों में सेरो सर्वे का आयोजन किया गया है। और ये नतीजे बताते हैं कि COVID-19 वायरस परीक्षणों की तुलना में कहीं अधिक व्यापक है। असम में, गुवाहाटी में पहला सेरो सर्वे लॉन्च किया गया। यह सर्वेक्षण मेडिसिटी गुवाहाटी ग्रुप ऑफ क्लिनिक एंड डायग्नोस्टिक्स के साथ मिलकर एक NGO श्रीजनसोम (Srijanasom) द्वारा किया जा रहा है। ऐसा बताया जा रहा है कि दिल्ली में सेरो सर्वे का तीसरा चरण 1 सितम्बर से शुरू हो गया था और अब खत्म हो गया है लेकिन नतीजे आने अभी बाकी हैं।

सेरो सर्वे क्या है और यह क्या संकेत देता है?

यह एक सेरोलॉजिकल सर्वेक्षण के रूप में भी जाना जाता है जिसमें रक्त के नमूनों को इकट्ठा किया जाता है और पता लगाया जाता है कि क्या कोई व्यक्ति COVID-19 महामारी से संक्रमित है और यह भी पता लगाने के लिए किया जाता है कि क्या व्यक्ति अतीत में या पहले कोरोनोवायरस से संक्रमित हुआ था। इसके अलावा, यह उन एंटीबॉडी की भी पहचान करता है जिनका उत्पादन COVID-19 से लड़ने के लिए किया जा रहा है।

या हम कह सकते हैं कि सेरो सर्वे में व्यक्तियों के समूह के रक्त सीरम की टेस्टिंग की जाती है। इसका उपयोग जिला स्तर पर कोरोनोवायरस संक्रमण के प्रसार की प्रवृत्ति पर नजर रखने के लिए किया जाएगा।

यह टेस्ट दिखा सकता है कि एक व्यक्ति वायरस के संपर्क में आया है लेकिन कुछ अधिकारियों के अनुसार, ऐसे टेस्टिंग की भी सीमाएं हैं। टेस्ट में रक्त के सीरम को लिया जाता है जो प्लाज्मा का द्रव हिस्सा है जिसे कोशिकाओं के जमा होने के बाद छोड़ दिया जाता है। यह एंटीबॉडी की उपस्थिति के बारे में भी बताता है जैसा कि ऊपर चर्चा की गई है जो विशिष्ट वायरस एंटीजन के लिए जिम्मेदार हैं। लेकिन वैज्ञानिकों ने अभी तक इस बात की पुष्टि नहीं की गई है कि नॉवेल कोरोनावायरस एंटीबॉडीज या इम्युनोग्लोबुलिन कितना प्रभावी है, एक दूसरे संक्रमण से बचाने में।

वैक्सीन राष्ट्रवाद’ क्या है?

टेस्टिंग के मुख्य निष्कर्ष इस प्रकार हैं:

– पुणे महानगर पालिका द्वारा करवाए गए इस सर्वे के मुताबिक, लगभग 1664 लोगों में से 51.1 प्रतिशत लोगों में ‘एंटीबॉडी’ यानी कोरोनावायरस से लड़ने की क्षमता होने का पता चला है।

सीरोलॉजिकल सर्वे शरीर में किसी विशेष एंटीबॉडी की मौजूदगी का पता लगाने के लिए किया जाता है। इससे पता चलता है कि कोई बीमारी आबादी के कितने हिस्से और किस दिशा में फैली है।

– पहले दिल्ली में इससे ये सुझाव दिया था कि विशेष रूप से फैलने की पुष्टि मामलों की संख्या 40 गुना हो सकती है।

– दिल्ली में दूसरे सर्वेक्षण के अनुसार, लगभग 29% में COVID-19 के एंटीबॉडी हैं।

– मुंबई में लगभग 40% सैंपल ग्रुप को संक्रमित पाया गया और ओडिशा के बेरहामपुर में 31%।

– इन संख्याओं में आपस के लोगों के बीच विभिन्न प्रकारभिन्नताएं हैं। मुंबई में मामलों में 16% से 57% तक का अंतर है।

हम इन निष्कर्षों के द्वारा क्या जान पाते हैं?

ये संख्या सामान्य धारणा की पुष्टि करती है कि अधिकांश COVID-19 संक्रमण स्पर्शोन्मुख (asymptomatic) हैं। जबकि कुछ अनुमानों के अनुसार लगभग 80% स्पर्शोन्मुख (asymptomatic) हैं। यह भी कहा जाता है कि मुख्य रूप से परिवारों के भीतर, विषाणु स्पर्शोन्मुख संक्रमित लोगों से भी फैल सकता है।

मार्च में, इस प्रकोप की शुरुआत में, एक दिन में कम टेस्ट हो रहे थे लेकिन अब 8 लाख से अधिक टेस्ट एक दिन में हो रहे हैं, जिसका अर्थ है कि टेस्ट के बुनियादी ढांचे में बड़े पैमाने पर उन्नयन हुआ है या बदलाव आया है। और सेरोलॉजिकल टेस्ट के अनुसार, संक्रमित लोगों में से अधिकांश लोग अभी भी मुख्य रूप से छूट जा रहे हैं  जिनमें किसी भी प्रकार के कोई लक्षण नहीं हैं या जो लक्षण नहीं दिखा रहे हैं।

सेरो सर्वे हर्ड इम्युनिटी (herd immunity) के लिए अग्रणी हैं, हाँ या नहीं?

इन सर्वेक्षणों को मानव में तटस्थ या सुरक्षात्मक एंटीबॉडी का पता लगाने के लिए डिज़ाइन नहीं किया गया है और सभी एंटीबॉडी सुरक्षात्मक नहीं होती हैं। केवल एंटीबॉडी को बेअसर करने से व्यक्ति रोग के प्रति प्रतिरक्षित हो सकता है। इसके अलावा, वैज्ञानिकों को उस आबादी में संक्रमण के स्तर के बारे में पता नहीं है जिस पर हर्ड इम्युनिटी (herd immunity) एक भूमिका निभाना शुरू कर देगा।

हर्ड इम्युनिटी (herd immunity)  क्या है?

इसे सामुदायिक प्रतिरक्षा (community immunity) के रूप में भी जाना जाता है। यह तब होता है जब एक क्षेत्र की आबादी का एक बड़ा हिस्सा एक विशिष्ट बीमारी के लिए इम्यून होता है। हर्ड इम्युनिटी जोखिम-रहित आबादी की रक्षा करती है। इनमें ऐसे बच्चे और लोग शामिल हैं जिनकी प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर है और वे अपने दम पर प्रतिरोध नहीं कर सकते हैं।

वर्तमान परिदृश्‍य के अनुसार, सम्‍मिलन रणनीतियों के लिए पर्याप्‍त टेस्टिंग का होना महत्‍वपूर्ण है। यह संक्रमित लोगों और उनके करीबी लोगों की पहचान करने और उन्हें अलग करने की एकमात्र विधि है। यह स्पष्ट है कि यदि टेस्ट अधिक किए जाएंगे तो संक्रमित लोगों का पता लगाने की अधिक संभावना होगी, जिनमें स्पर्शोन्मुख (asymptomatic) हैं। इसके अलावा, समय पर आइसोलेशन अन्य लोगों को संचरण को रोक सकता है। टेस्टिंग की अधिक संख्या बीमारी के प्रसार को धीमा करने में मदद कर सकती है।

UPSC PRELIMS 2020 Batch | Bilingual | Live Classes

For Free UPSC Study Material And Counselling From Experts : Click Here

×

Download success!

Thanks for downloading the guide. For similar guides, free study material, quizzes, videos and job alerts you can download the Adda247 app from play store.

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

×
Login
OR

Forgot Password?

×
Sign Up
OR
Forgot Password
Enter the email address associated with your account, and we'll email you an OTP to verify it's you.


Reset Password
Please enter the OTP sent to
/6


×
CHANGE PASSWORD