COVID-19 Pandemic: ‘वैक्सीन राष्ट्रवाद’ क्या है?

ट्रायल सफल साबित होने के बाद धनी देश की फार्मा कंपनियों के साथ कोरोना वैक्सीन को लेकर पूर्व खरीद सौदे किये जा रहे हैं। जैसा की हम जानते हैं कि पूरी दुनिया कोरोनोवायरस से जूझ रही है और एक ही गति से जीवन को फिर से शुरू करने के लिए वैक्सीन का बेसब्री से इंतजार कर रही है।

दुनिया भर में, विभिन्न कंपनियां Covid-19 वैक्सीन के लिए शोध कर रही हैं और अपने देश के नागरिकों को पहले वैक्सीन उपलब्ध कराने के लिए, कई अमीर देशों ने पहले ही लाखों रुपये के ऑर्डर दे रखे हैं। आखिर ‘वैक्सीन राष्ट्रवाद’ क्या है? यह शब्द आजकल प्रयोग में क्यों है? क्या इस शब्द का इस्तेमाल अतीत में किया गया था? विस्तार से जानने के लिए निचे लेख पढ़ें:

‘वैक्सीन राष्ट्रवाद’ क्या है?

हम कह सकते हैं कि यह विभिन्न देशों द्वारा Covid-19 वैक्सीन को रिज़र्व करने की एक प्रकार की घटना है। मानव परीक्षण के अंतिम चरण के अंत से पहले ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी और अमेरिका सहित विभिन्न अमीर देशों ने Covid-19 वैक्सीन के निर्माताओं के साथ पूर्व खरीद समझौतों पर हस्ताक्षर किये हैं ताकि उनके देश के लोगों को सबसे पहले वैक्सीन उपलब्ध हो सके। इसे ‘वैक्सीन राष्ट्रवाद’ के रूप में जाना जाता है। यानी जब कोई देश अपने नागरिकों या निवासियों के लिए पहले से ही वैक्सीन की खुराक सुरक्षित कर लेता है और इसके बाद वह वैक्सीन की खुराक अन्य देशों में उपलब्ध कराता है और तभी वैक्सीन राष्ट्रवाद होता है। यह सरकार और वैक्सीन निर्माता के बीच पहले से किए गए खरीद समझौतों के माध्यम से सम्पन्न किया जाता है।

Register: Adda247 All India UPSC Free Prelims Mock On Teachers Day

वैक्सीन राष्ट्रवादसे संबंधित भय या चिंताएँ

इसलिए इसको लेकर ऐसी कुछ आशंकाएं हैं कि इस तरह के पूर्व किए गए खरीद समझौतें शुरुआती कुछ टीकों को लगभग 8 अरब लोगों को दुनिया में अमीर देशों से सभी के लिए अप्रभावी और दुर्गम बना देंगे।

इसी के कारण विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने चेतावनी देते हुए कहा है कि वैक्सीन राष्ट्रवाद और जमाखोरी कोरोना वायरस के खतरे को और बढ़ा देगी। टेड्रॉस गेब्रिएसिस, डब्लूएचओ के निदेशक ने कहा कि कोरोना वायरस की वैक्सीन को कभी भी राष्ट्रवाद से जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए। साथ ही उन्होंने कहा कि हमें वैक्सीन की पहुंच सभी लोगों तक बनानी होगी, जिससे इस महामारी को जल्द से जल्द रोका जा सके।

इसमें कोई संदेह नहीं है कि राष्ट्रवाद से वैक्सीन की पहुंच बाधित हो सकती है। इसी कारण विश्व स्वास्थ्य संगठन कोवैक्स कार्यक्रम में शामिल होने के लिए प्रमुख रूस से यूरोपीय संघ, ब्रिटेन, स्विट्जरलैंड और अमेरिका के ऊपर दबाव बना रहा है। इन देशों में कोरोना वायरस वैक्सीन का परीक्षण पहले से ही चल रहा है। इसके अलावा रूस और चीन में भी वैक्सीन का ट्रायल काफी तेज़ी से चल रहा है। इसलिए विश्व स्वास्थ्य संगठन ने यह डर जताया है कि राष्ट्रवाद की भावना कोरोना वायरस वैक्सीन की वैश्विक पहुंच को बाधित कर सकती है.

क्या वैक्सीन राष्ट्रवादअतीत में इस्तेमाल किया गया था?

विभिन्न राष्ट्रों द्वारा Covid-19 की वैक्सीन को पहले से ही सुरक्षित करने की घटना यानी ‘वैक्सीन राष्ट्रवाद’ द्वारा कोई नई बात नहीं है। 2009 के दौरान H1N1 फ्लू महामारी प्रारंभिक दौर में, कुछ सबसे धनी देशों ने विभिन्न दवा कंपनियों के साथ पूर्व-खरीद समझौतों में प्रवेश किया जो H1N1 टीकों पर काम कर रहे थे।

यह अनुमान लगाया गया था कि दुनिया भर में पैदा होने वाली वैक्सीन खुराक की अधिकतम संख्या दो बिलियन थी। और अकेले अमेरिका ने लगभग 600,000 खुराक खरीदने का अधिकार प्राप्त किया। उस समय विकसित अर्थव्यवस्थाओं द्वारा बातचीत करके पहले से ही वैक्सीन को खरीदने पर बातचीत की गई थी। दुनिया भर में H1N1 महामारी से 22 मिलियन से अधिक लोग संक्रमित और 777,000 लोग मारे गए थे.

वैक्सीन राष्ट्रवादको लेकर अब क्या किया जा रहा है या कुछ संभावित समाधान इस प्रकार हैं:

WHO, व्यापक पहुँच के लिए, “कोवैक्स फैसिलिटी” नामक एक पहल के साथ आया है।

यह मुख्य रूप से निम्न और मध्यम आय वाले देशों में विकास और वितरण के लिए अगले साल के अंत तक Covid-19 टीकों की कम से कम दो बिलियन खुराक की खरीद करेगा।

साथ ही आपको बता दें कि पूर्व-खरीद समझौतों को रोकने के लिए, अंतर्राष्ट्रीय कानूनों में कोई प्रावधान नहीं हैं। ऐसा कहा जाता है कि वैश्विक सहयोग वैक्सीन राष्ट्रवाद को गिरफ्तार करने का विकल्प है जो WHO समर्थित COVAX फैसिलिटी तंत्र के माध्यम से किया जा रहा है। इसके अलावा, जो देश पहल में शामिल हुए हैं, वे जब भी सफल हो जाते हैं, टीकों की आपूर्ति का आश्वासन देते हैं। साथ ही, देशों को यह आश्वासन मिलेगा कि उन्हें कम से कम 20 फीसदी आबादी की सुरक्षा के लिए आपूर्ति मिलेगी।

UPSC PRELIMS 2020 Batch | Bilingual | Live Classes

For Free UPSC Study Material And Counselling From Experts : Click Here

 

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *